in

Sidhu Moosewala Murder: सोनीपत का एक और बदमाश पंजाब पुलिस के रडार पर आया, तलाश जारी


ख़बर सुनें

पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या में पंजाब पुलिस की जांच के दौरान हरियाणा के सोनीपत के गांव गढ़ी सिसाना का मनजीत उर्फ भोला भी पुलिस रडार पर आ गया है, जबकि उनके गांव के ही रहने वाले व उसके साथी प्रियव्रत को पहले से ही पंजाब पुलिस तलाश कर रही है। वहीं पंजाब पुलिस ने दोनों के साथी सोनीपत के गांव रेवली के मोनू डागर को प्रोडक्शन वारंट पर लिया है। उस पर कुख्यात गोल्डी बराड के कहने पर दो शार्प शूटर उपलब्ध कराने का आरोप है। हालांकि सोनीपत पुलिस इस बारे में किसी भी जानकारी से मना कर रही है।  

पंजाब में 29 मई को गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या कर दी गई थी। सिद्धू मुसेवाला की हत्या में लॉरेंस बिश्नोई गैंग का नाम आया था। इसके बाद से सोनीपत से मामले के तार जुड़े होने की चर्चा शुरू हो गई थी। पंजाब पुलिस जांच में सामने आया है कि वारदात में प्रयुक्त हुई बोलेरो गाड़ी फतेहाबाद में देखी गई। बीसला के पेट्रोल पंप पर गाड़ी में तेल डलवाने के दौरान उससे उतरे दो युवक सोनीपत के बताए जा रहे हैं।

इसमें से एक गढ़ी सिसाना का कुख्यात बदमाश प्रियव्रत फौजी था। प्रियव्रत कुख्यात बिटटू बरोडा के पिता कृष्ण की हत्या में नामजद रहा है। उस पर सोनीपत पुलिस ने तीन दिन पहले ही 25 हजार का इनाम रखा है। अब मामले में पंजाब पुलिस के रडार पर एक अन्य नाम प्रियव्रत के गांव के ही मनजीत उर्फ भोला का भी आ गया है।

बताया जा रहा है कि प्रियव्रत के मोबाइल नंबर की डिटेल के बाद वह पंजाब पुलिस के निशाने पर आया है। हालांकि इस बारे में कोई भी अधिकारिक पुष्टि नहीं कर रहा है। हालांकि गांव में चर्चा है कि जिस दिन सिद्धू मूसेवाला की हत्या हुई उस दिन मनजीत गांव में था। 

उधर, पंजाब पुलिस ने मामले में सोनीपत के ही गांव रेवली के मोनू डागर को प्रोडक्शन वारंट पर लिया है। वह पंजाब के मोगा में हुई घटना के मामले में जेल में बंद था। मोनू इससे पहले जुलाई 2015 में गोहाना के गांव रूखी के मंजीत की हत्या के मामले में प्रियव्रत व मंजीत के साथ नामजद रहा है। अब मोनू पर आरोप है कि उसने ही जेल से गोल्डी बराड के कहने पर दो शूटर उपलब्ध कराए थे। शूटर की टीम बनाने में भी मदद करने का आरोप है।  अब पुलिस पता लगा रही है कि दो शूटर कौन है। 

मनजीत का रहा है आपराधिक रिकॉर्ड 
पंजाब पुलिस की रडार पर आए मनजीत उर्फ भोला का आपराधिक रिकॉर्ड रहा है। वह रूखी के गांव के मंजीत उर्फ चिंकी की हत्या के मामले में प्रियव्रत के साथ गिरफ्तार हुआ था। उसे बाद में पुलिस ने वर्ष 2017 व 2018 में तीन बार अवैध हथियारों के साथ दबोचा था। 

लॉरेंस बिश्नोई गैंग से जुड़ा है मोनू रेवली का नाम  
गांव रेवली निवासी मोनू डागर का नाम लॉरेंस बिश्नोई गैंग से जुड़ा है। उस पर 1 दिसंबर, 2021 को मोगा के डिप्टी मेयर पर गोली चलाने का आरोप है। इसमें वह मोगा पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया था। तब मोगा के एसपी सुरिंदरजीत मंड ने पत्रकारों को बताया था कि लॉरेंस बिश्नोई गैंग का शार्प शूटर मोनू कनाडा में रह रहे गोल्डी बराड के कहने पर डिप्टी मेयर के भाई को मारने आया था। साथ ही उन्होंने बताया था कि वह अमृतसर में राणा कंडोवालिया की हत्या में भी आरोपी है। 
 

विस्तार

पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या में पंजाब पुलिस की जांच के दौरान हरियाणा के सोनीपत के गांव गढ़ी सिसाना का मनजीत उर्फ भोला भी पुलिस रडार पर आ गया है, जबकि उनके गांव के ही रहने वाले व उसके साथी प्रियव्रत को पहले से ही पंजाब पुलिस तलाश कर रही है। वहीं पंजाब पुलिस ने दोनों के साथी सोनीपत के गांव रेवली के मोनू डागर को प्रोडक्शन वारंट पर लिया है। उस पर कुख्यात गोल्डी बराड के कहने पर दो शार्प शूटर उपलब्ध कराने का आरोप है। हालांकि सोनीपत पुलिस इस बारे में किसी भी जानकारी से मना कर रही है।  

पंजाब में 29 मई को गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या कर दी गई थी। सिद्धू मुसेवाला की हत्या में लॉरेंस बिश्नोई गैंग का नाम आया था। इसके बाद से सोनीपत से मामले के तार जुड़े होने की चर्चा शुरू हो गई थी। पंजाब पुलिस जांच में सामने आया है कि वारदात में प्रयुक्त हुई बोलेरो गाड़ी फतेहाबाद में देखी गई। बीसला के पेट्रोल पंप पर गाड़ी में तेल डलवाने के दौरान उससे उतरे दो युवक सोनीपत के बताए जा रहे हैं।

इसमें से एक गढ़ी सिसाना का कुख्यात बदमाश प्रियव्रत फौजी था। प्रियव्रत कुख्यात बिटटू बरोडा के पिता कृष्ण की हत्या में नामजद रहा है। उस पर सोनीपत पुलिस ने तीन दिन पहले ही 25 हजार का इनाम रखा है। अब मामले में पंजाब पुलिस के रडार पर एक अन्य नाम प्रियव्रत के गांव के ही मनजीत उर्फ भोला का भी आ गया है।

बताया जा रहा है कि प्रियव्रत के मोबाइल नंबर की डिटेल के बाद वह पंजाब पुलिस के निशाने पर आया है। हालांकि इस बारे में कोई भी अधिकारिक पुष्टि नहीं कर रहा है। हालांकि गांव में चर्चा है कि जिस दिन सिद्धू मूसेवाला की हत्या हुई उस दिन मनजीत गांव में था। 

उधर, पंजाब पुलिस ने मामले में सोनीपत के ही गांव रेवली के मोनू डागर को प्रोडक्शन वारंट पर लिया है। वह पंजाब के मोगा में हुई घटना के मामले में जेल में बंद था। मोनू इससे पहले जुलाई 2015 में गोहाना के गांव रूखी के मंजीत की हत्या के मामले में प्रियव्रत व मंजीत के साथ नामजद रहा है। अब मोनू पर आरोप है कि उसने ही जेल से गोल्डी बराड के कहने पर दो शूटर उपलब्ध कराए थे। शूटर की टीम बनाने में भी मदद करने का आरोप है।  अब पुलिस पता लगा रही है कि दो शूटर कौन है। 

मनजीत का रहा है आपराधिक रिकॉर्ड 

पंजाब पुलिस की रडार पर आए मनजीत उर्फ भोला का आपराधिक रिकॉर्ड रहा है। वह रूखी के गांव के मंजीत उर्फ चिंकी की हत्या के मामले में प्रियव्रत के साथ गिरफ्तार हुआ था। उसे बाद में पुलिस ने वर्ष 2017 व 2018 में तीन बार अवैध हथियारों के साथ दबोचा था। 

लॉरेंस बिश्नोई गैंग से जुड़ा है मोनू रेवली का नाम  

गांव रेवली निवासी मोनू डागर का नाम लॉरेंस बिश्नोई गैंग से जुड़ा है। उस पर 1 दिसंबर, 2021 को मोगा के डिप्टी मेयर पर गोली चलाने का आरोप है। इसमें वह मोगा पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया था। तब मोगा के एसपी सुरिंदरजीत मंड ने पत्रकारों को बताया था कि लॉरेंस बिश्नोई गैंग का शार्प शूटर मोनू कनाडा में रह रहे गोल्डी बराड के कहने पर डिप्टी मेयर के भाई को मारने आया था। साथ ही उन्होंने बताया था कि वह अमृतसर में राणा कंडोवालिया की हत्या में भी आरोपी है। 

 

पंजाब पुलिस के अधिकारी लगातार संपर्क में हैं। अपराधियों के नाम, पते व आपराधिक रिकॉर्ड आदि की मांगी गई जानकारी उनको उपलब्ध करा दी गई है। शूटर्स की जानकारी पंजाब पुलिस को ही है, जिन आरोपियों की उनको जरूरत है, उनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम जुटी हुई है। – हिमांशु गर्ग, एसपी, सोनीपत

.


10वीं में फेल हुआ तो लॉरेंस गैंग का बदमाश बताकर दी थी धमकी

सड़क के बीच खड़ी कार हटाने को कहा तो डंडों से तोड़ डाले शीशे, फायर भी किया