Sangrur Bypoll: संगरूर में 5 बजे तक 36 फीसदी ही वोटिंग, EC की मान सरकार को फटकार-आखिरी घंटों में समय बढ़ाने की मांग क्यों?


चंडीगढ़: पंजाब की संगरूर लोकसभा सीट के लिए उपचुनाव में बेहद कम वोटिंग हुई। शाम पांच बजे तक यहां महज 36 प्रतिशत से अधिक मतदान ही दर्ज हुआ। इसके चलते सीएम भगवंत मान ने वोटिंग का समय एक घंटे बढ़ाने की मांग की थी। हालांकि चुनाव आयोग ने उनकी मांग खारिज कर दी। इससे पहले 2019 के लोकसभा चुनावों में संगरूर में 72.44 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया।

अधिकारियों ने बताया कि कड़ी सुरक्षा के बीच सुबह आठ बजे मतदान शुरू हुआ था। शाम पांच बजे तक 36.40 प्रतिशत मतदान हुआ। इससे पहले मुख्यमंत्री भगवंत मान ने दोपहर में ट्वीट कर निर्वाचन आयोग से मांग की कि धान की बुवाई का मौसम चलने के मद्देनजर मतदान का समय शाम सात बजे तक बढ़ाया जाए।

‘आखिरी घंटों में ही समय बढ़ाने की मांग क्यों?’
संगरूर के उपायुक्त एवं निर्वाचन अधिकारी और राज्य के मुख्य सचिव ने भी निर्वाचन आयोग से मतदान का समय बढ़ाने की मांग की। निर्वाचन आयोग ने इस अनुरोध पर अधिकारियों की खिंचाई करते हुए उनसे यह बताने के लिए कहा है कि उन्होंने मतदान के अंतिम घंटों में ही मतदान का समय बढ़ाने की मांग क्यों की। आयोग ने कहा, ‘यह चुनाव प्रक्रिया में बेवजह दखल देने और मतदाताओं के खास वर्ग को प्रभावित करने की कोशिश है।’

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री भगवंत मान ने 2014 और 2019 में संगरूर लोकसभा सीट से चुनाव जीता था। हाल में धूरी सीट से विधानसभा चुनाव जीतने के बाद उन्होंने लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था।

संगरूर लोकसभा क्षेत्र में 15,69,240 मतदाता हैं, जिनमें 8,30,056 पुरुष, 7,39,140 महिलाएं और 44 ट्रांसजेंडर हैं। कुल 16 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं जिनमें तीन महिलाएं भी हैं। मतदान के लिए कुल 1,766 मतदान केंद्र बनाए गए हैं।

AAP की पहली परीक्षा
विधानसभा चुनाव में शानदार प्रदर्शन के बाद इसे राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति और पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या को लेकर विपक्ष के आरोपों का सामना कर रही सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) की पहली परीक्षा के तौर पर देखा जा रहा है।

आप ने पार्टी के संगरूर जिला प्रभारी गुरमेल सिंह, मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने धूरी के पूर्व विधायक दलवीर सिंह गोल्डी और बीजेपी ने बरनाला के पूर्व विधायक केवल ढिल्लों को अपना उम्मीदवार बनाया है। अकाली दल ने पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह हत्याकांड के दोषी बलवंत सिंह राजोआना की बहन कमलदीप कौर को मैदान में उतारा है।

शिरोमणि अकाली दल (अमृतसर) के प्रमुख सिमरनजीत सिंह मान भी चुनावी मैदान में हैं। मुख्यमंत्री भगवंत मान ने विश्वास जताया, ‘संगरूर के क्रांतिकारी लोग एक बार फिर आम आदमी पार्टी को वोट देंगे और आप के गुरमेल सिंह प्रचंड बहुमत से उपचुनाव जीतेंगे।’

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

सड़क निर्माण में गुणवत्ता से समझौता नहीं हो : गहलोत

FIFA World Cup 2022: फीफा ने विश्व कप के लिए किया बड़ा बदलाव, कोविड-19 की वजह से 26 सदस्यीय टीम को दी अनुमति