Proud of Haryana: देश के पहले महिला एनडीए बैच की परीक्षा में टॉपर बनीं शनन ढाका, रोहतक की बेटी ने बढ़ाया मान


जयदेव डागर, अमर उजाला, रोहतक 
Published by: निवेदिता वर्मा
Updated Sun, 19 Jun 2022 07:20 AM IST

ख़बर सुनें

देश के पहले महिला एनडीए बैच में दाखिले के लिए हुई परीक्षा में रोहतक के गांव सुंडाना की बेटी शनन ढाका ने पहली रैंक हासिल की है। लेफ्टिनेंट के लिए चयनित शनन ढाका ने दादा सूबेदार चंद्रभान ढाका व पिता नायक सूबेदार विजय कुमार ढाका से प्रेरित हो आर्मी में भर्ती होकर देश सेवा को चुना।

शनन के पिता विजय कुमार ने बताया कि वह पांच वर्षों से चंडीगढ़ में रह रहे हैं। फौज में होने के कारण शनन की पढ़ाई शुरू से ही आर्मी स्कूलों में हुई है। शनन ने चार साल तक रुड़की आर्मी स्कूल, तीन साल जयपुर और पांच साल चंडीमंदिर स्थित आर्मी स्कूल में पढ़ाई की। शनन ने पिछले वर्ष दिल्ली विश्वविद्यालय में स्नातक कोर्स के लिए दाखिला लिया था। 

शनन ने देश भर की ब्वॉयज परीक्षा में दसवां व गर्ल्स परीक्षा में पहला स्थान हासिल किया है। पहले प्रयास में ही एनडीए की परीक्षा पास कर बेटी ने उनके सपने को पूरा किया है। शनन की माता गीता देवी गृहिणी हैं। बड़ी बहन जौनन मिलिट्री नर्सिंग ऑफिसर है व छोटी बहन आशि अभी पढ़ाई कर रही है। संवाद

40 दिन तक हर रोज की पांच घंटे पढ़ाई  

शनन ने बताया कि देश की पहली महिला एनडीए परीक्षा की तैयारी के लिए मात्र 40 दिन का समय मिला था। आत्मविश्वास के साथ तैयारी करना शुरू किया। यूपीएससी की वेबसाइट से एनडीए परीक्षा के पुराने वर्षों के प्रश्न पत्र डाउनलोड कर हल करना शुरू कर दिया। प्रश्न पत्र हल करने के लिए परीक्षा में पांच घंटे का समय मिलता है। लेकिन मैंने चार घंटे में ही हल करने का प्रयास किया। 12वीं कक्षा तक की एनसीईआरटी की किताबों से नोट्स बनाए व उनको बार-बार दोहराया। एनडीए में चयनित होकर बहुत खुश हूं। जुलाई-अगस्त में ज्वाइनिंग लेटर मिलेगा। भविष्य में सेना की इंटेलिजेंस कोर में काम करना चाहती हूं। 

विस्तार

देश के पहले महिला एनडीए बैच में दाखिले के लिए हुई परीक्षा में रोहतक के गांव सुंडाना की बेटी शनन ढाका ने पहली रैंक हासिल की है। लेफ्टिनेंट के लिए चयनित शनन ढाका ने दादा सूबेदार चंद्रभान ढाका व पिता नायक सूबेदार विजय कुमार ढाका से प्रेरित हो आर्मी में भर्ती होकर देश सेवा को चुना।

शनन के पिता विजय कुमार ने बताया कि वह पांच वर्षों से चंडीगढ़ में रह रहे हैं। फौज में होने के कारण शनन की पढ़ाई शुरू से ही आर्मी स्कूलों में हुई है। शनन ने चार साल तक रुड़की आर्मी स्कूल, तीन साल जयपुर और पांच साल चंडीमंदिर स्थित आर्मी स्कूल में पढ़ाई की। शनन ने पिछले वर्ष दिल्ली विश्वविद्यालय में स्नातक कोर्स के लिए दाखिला लिया था। 

शनन ने देश भर की ब्वॉयज परीक्षा में दसवां व गर्ल्स परीक्षा में पहला स्थान हासिल किया है। पहले प्रयास में ही एनडीए की परीक्षा पास कर बेटी ने उनके सपने को पूरा किया है। शनन की माता गीता देवी गृहिणी हैं। बड़ी बहन जौनन मिलिट्री नर्सिंग ऑफिसर है व छोटी बहन आशि अभी पढ़ाई कर रही है। संवाद

40 दिन तक हर रोज की पांच घंटे पढ़ाई  

शनन ने बताया कि देश की पहली महिला एनडीए परीक्षा की तैयारी के लिए मात्र 40 दिन का समय मिला था। आत्मविश्वास के साथ तैयारी करना शुरू किया। यूपीएससी की वेबसाइट से एनडीए परीक्षा के पुराने वर्षों के प्रश्न पत्र डाउनलोड कर हल करना शुरू कर दिया। प्रश्न पत्र हल करने के लिए परीक्षा में पांच घंटे का समय मिलता है। लेकिन मैंने चार घंटे में ही हल करने का प्रयास किया। 12वीं कक्षा तक की एनसीईआरटी की किताबों से नोट्स बनाए व उनको बार-बार दोहराया। एनडीए में चयनित होकर बहुत खुश हूं। जुलाई-अगस्त में ज्वाइनिंग लेटर मिलेगा। भविष्य में सेना की इंटेलिजेंस कोर में काम करना चाहती हूं। 

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

Rajasthan: जयपुर में दो और कोटा में एक महीने के लिए धारा 144 लागू, प्रदर्शन और जुलूस पर रहेगी रोक 

Haryana Local Body Election: 18 नगर परिषद, 28 नगरपालिकाओं में मतदान शुरू, 3504 उम्मीदवारों का सियासी भविष्य ईवीएम में होगा बंद