in

Panipat Crime: दुकान पर कब्जा छुड़ाने गए युवक को मारी गोली, पिता को बट मारकर किया घायल


ख़बर सुनें

पानीपत के गांव पालड़ी में गुरुवार सुबह 7:30 बजे अपनी दुकान से कब्जा छुड़ाने पहुंचे पिता- पुत्र पर चचेरे भाई समेत 8 बदमाशों ने मिलकर जानलेवा हमला कर दिया। बदमाशों ने बेटे को गोली मारी और पिता को बट मारकर घायल कर दिया। गोली की आवाज सुनकर गांव से ग्रामीण इकट्ठा होकर वारदात स्थल पर पहुंचे तो सभी बादमाश जान से मारने की धमकी देते हुए मौके से फरार हो गए। घायलों को सामान्य अस्पताल पहुंचाया। जहां से डॉक्टर ने बेटे की हालत गंभीर देखते हुए उसे पीजीआई रेफर किया। उसका निजी अस्पताल में इलाज चल रहा है। इसराना थाना पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।

इसराना थाना क्षेत्र के गांव पलड़ी निवासी जगबीर सिंह (63) पुत्र राम सिंह ने बताया कि उसके खेत में गांव के ही सुल्तान नामक युवक ने करियाणा स्टोर की दुकान कर रखी थी। वह सुल्तान से किराया लेता था, लेकिन अब उसने सुल्तान को दुकान मेटीरियल के 1.90 लाख रुपये देकर दुकान खरीद ली थी। बुधवार रात चचेरे भाई सुनील ने आठ बदमाशों संग मिलकर दुकान पर कब्जा कर लिया। जिसकी सूचना उसे गुरुवार सुबह मिली। वह अपने बेटे अरविंद (30) और सुल्तान के साथ खेत में पहुंचा और सुनील से कब्जा छोड़ने के लिए कहा तो उसने इनकार कर दिया। आरोपी उनके साथ गली-गलौज करने लगा। विरोध किया तो बदमाशों ने उनपर हमला कर दिया। इसी बीच एक आरोपी कैंटर से पिस्तौल निकालकर लाया और अरविंद पर फायर कर दिया। पेट में गोली लगते ही बेटा जमीन पर गिर पड़ा। 

पिता पर भी किया फायर , मिस हुआ 

बदमाशों ने पिता जगबीर सिंह पर भी एक फायर किया,लेकिन वह मिस हो गया। जिसके बाद बदमाशों ने उसे सिर में बट मारकर घायल कर दिया और जान से मारने की धमकी देकर फरार हो गए। जगबीर ने बताया कि आरोपी सुनील कहता है यह दुकान उनके हिस्से आने वाली जमीन में है, जबकि उनके पास जमीन औऱ दुकान के सभी दस्तावेज हैं।

कैंटर और कार में सवार होकर आए थे बादमाश 

आरोपी कैंटर और कार में सवार होकर आए थे। गोली की आवाज सुनकर मौके पर पहुंचे गुस्साए ग्रामीणों ने बदमाशों की कार के शीशे तक तोड़ दिए।

थाना प्रभारी ने किया मौके का निरीक्षण

वारदात की सूचना मिलते ही इसराना थाना प्रभारी दीपक कुमार मौके पर पहुंचे और मामले की जांच शुरू की। वहीं एफएसएल टीम ने भी घटनास्थल पर पहुंच कर साक्ष्य जुटाए। वहीं पिता के बयान दर्ज कर आगामी कार्रवाई शुरू की।

विस्तार

पानीपत के गांव पालड़ी में गुरुवार सुबह 7:30 बजे अपनी दुकान से कब्जा छुड़ाने पहुंचे पिता- पुत्र पर चचेरे भाई समेत 8 बदमाशों ने मिलकर जानलेवा हमला कर दिया। बदमाशों ने बेटे को गोली मारी और पिता को बट मारकर घायल कर दिया। गोली की आवाज सुनकर गांव से ग्रामीण इकट्ठा होकर वारदात स्थल पर पहुंचे तो सभी बादमाश जान से मारने की धमकी देते हुए मौके से फरार हो गए। घायलों को सामान्य अस्पताल पहुंचाया। जहां से डॉक्टर ने बेटे की हालत गंभीर देखते हुए उसे पीजीआई रेफर किया। उसका निजी अस्पताल में इलाज चल रहा है। इसराना थाना पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।

इसराना थाना क्षेत्र के गांव पलड़ी निवासी जगबीर सिंह (63) पुत्र राम सिंह ने बताया कि उसके खेत में गांव के ही सुल्तान नामक युवक ने करियाणा स्टोर की दुकान कर रखी थी। वह सुल्तान से किराया लेता था, लेकिन अब उसने सुल्तान को दुकान मेटीरियल के 1.90 लाख रुपये देकर दुकान खरीद ली थी। बुधवार रात चचेरे भाई सुनील ने आठ बदमाशों संग मिलकर दुकान पर कब्जा कर लिया। जिसकी सूचना उसे गुरुवार सुबह मिली। वह अपने बेटे अरविंद (30) और सुल्तान के साथ खेत में पहुंचा और सुनील से कब्जा छोड़ने के लिए कहा तो उसने इनकार कर दिया। आरोपी उनके साथ गली-गलौज करने लगा। विरोध किया तो बदमाशों ने उनपर हमला कर दिया। इसी बीच एक आरोपी कैंटर से पिस्तौल निकालकर लाया और अरविंद पर फायर कर दिया। पेट में गोली लगते ही बेटा जमीन पर गिर पड़ा। 

पिता पर भी किया फायर , मिस हुआ 

बदमाशों ने पिता जगबीर सिंह पर भी एक फायर किया,लेकिन वह मिस हो गया। जिसके बाद बदमाशों ने उसे सिर में बट मारकर घायल कर दिया और जान से मारने की धमकी देकर फरार हो गए। जगबीर ने बताया कि आरोपी सुनील कहता है यह दुकान उनके हिस्से आने वाली जमीन में है, जबकि उनके पास जमीन औऱ दुकान के सभी दस्तावेज हैं।

कैंटर और कार में सवार होकर आए थे बादमाश 

आरोपी कैंटर और कार में सवार होकर आए थे। गोली की आवाज सुनकर मौके पर पहुंचे गुस्साए ग्रामीणों ने बदमाशों की कार के शीशे तक तोड़ दिए।

थाना प्रभारी ने किया मौके का निरीक्षण

वारदात की सूचना मिलते ही इसराना थाना प्रभारी दीपक कुमार मौके पर पहुंचे और मामले की जांच शुरू की। वहीं एफएसएल टीम ने भी घटनास्थल पर पहुंच कर साक्ष्य जुटाए। वहीं पिता के बयान दर्ज कर आगामी कार्रवाई शुरू की।

.


Gurpreet Kaur Bhagwant Mann: भगवंत मान से कब हुई ‘गोपी’ की पहली मुलाकात, गुरप्रीत कौर के बारे में ये बातें जानते हैं आप?

निकाय चुनाव: नगर परिषद थानेसर और सिरसा में चुनाव का रास्ता साफ, पिछड़ा वर्ग को नहीं मिलेगा आरक्षण