Moosewala Murder : साढ़े पांच घंटे की पूछताछ में बरगलाता रहा बिश्नोई, लगाता रहा तिहाड़ जेल का रट्टा


ख़बर सुनें

पंजाबी गायक और कांग्रेस नेता सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई को ट्रांजिट रिमांड पर पूछताछ के लिए दिल्ली से लाई पंजाब पुलिस ने गैंगस्टर से साढ़े पांच घंटे पूछताछ की। इस दौरान उससे 10 से 15 सवाल पूछे, जिनका वह गोलमोल जवाब देता रहा।

उसने कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया और पुलिस को बरगलाता रहा। वह पूरे समय तिहाड़ जेल का रट्टा ही रटता रहा। बिश्नोई ने सभी सवालों के जवाब में कहा कि वह मूसेवाला की हत्या के दौरान तिहाड़ जेल में बंद था, उसे इस मामले में कोई जानकारी नहीं है।

पहले दिन की पूछताछ में लॉरेंस से कोई भी संतोषजनक जवाब नहीं मिलने के बाद अब पंजाब पुलिस ने प्लान बी पर काम करना शुरू कर दिया है। इसके तहत बिश्नोई को अब तक मूसेवाला की हत्या में गिरफ्तार दूसरे गैंगस्टरों से रूबरू कराएगी। पुलिस के आला अधिकारियों को उम्मीद है कि दो दिन की पूछताछ में कई सवालों से पर्दा उठ जाएगा।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि बिश्नोई के मेडिकल में सभी जांचें सामान्य मिली हैं, इसके बाद भी वह तबीयत खराब होने का बहाना करता रहा। हालांकि पहले दिन की पूछताछ में पुलिस ने बिश्नोई के साथ कोई सख्त रवैया नहीं अपनाया, लेकिन यदि आगे की पूछताछ में उसने पुलिस का कोई सहयोग नहीं किया तो पंजाब पुलिस सख्ती से भी पेश आ सकती है।

पूछताछ में लिया गोरा का नाम
पंजाब पुलिस की पूछताछ में बिश्नोई ने होशियारपुर जेल में बंद गैंगस्टर गोरा का नाम लिया है। इसके बाद पुलिस होशियारपुर जेल से गुरप्रीत गोरा को खरड़ लेकर आई है। गोरा कनाडा में बैठे गैंगस्टर गोल्डी बराड़ का जीजा बताया जा रहा है।

इन सवालों पर रहा पुलिस का फोकस

  • सिद्धू मूसेवाला से तुम्हारी क्या दुश्मनी थी
  • जेल में बैठकर हत्या की योजना कैसे बनाई
  • हत्या के लिए किन साथियों की मदद ली
  • एएन-94 हथियार कहां से मंगाया था
  • जेल में बैठकर साथियों से कैसे संपर्क करते हो
  • मूसेवाला के अलावा और किसको मारना चाहते हो
  • हत्या से पहले की गई रेकी में किसका सहयोग लिया
  • सुरक्षा में कटौती किए जाने की क्या तुम्हें जानकारी थी

विस्तार

पंजाबी गायक और कांग्रेस नेता सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई को ट्रांजिट रिमांड पर पूछताछ के लिए दिल्ली से लाई पंजाब पुलिस ने गैंगस्टर से साढ़े पांच घंटे पूछताछ की। इस दौरान उससे 10 से 15 सवाल पूछे, जिनका वह गोलमोल जवाब देता रहा।

उसने कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया और पुलिस को बरगलाता रहा। वह पूरे समय तिहाड़ जेल का रट्टा ही रटता रहा। बिश्नोई ने सभी सवालों के जवाब में कहा कि वह मूसेवाला की हत्या के दौरान तिहाड़ जेल में बंद था, उसे इस मामले में कोई जानकारी नहीं है।

पहले दिन की पूछताछ में लॉरेंस से कोई भी संतोषजनक जवाब नहीं मिलने के बाद अब पंजाब पुलिस ने प्लान बी पर काम करना शुरू कर दिया है। इसके तहत बिश्नोई को अब तक मूसेवाला की हत्या में गिरफ्तार दूसरे गैंगस्टरों से रूबरू कराएगी। पुलिस के आला अधिकारियों को उम्मीद है कि दो दिन की पूछताछ में कई सवालों से पर्दा उठ जाएगा।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि बिश्नोई के मेडिकल में सभी जांचें सामान्य मिली हैं, इसके बाद भी वह तबीयत खराब होने का बहाना करता रहा। हालांकि पहले दिन की पूछताछ में पुलिस ने बिश्नोई के साथ कोई सख्त रवैया नहीं अपनाया, लेकिन यदि आगे की पूछताछ में उसने पुलिस का कोई सहयोग नहीं किया तो पंजाब पुलिस सख्ती से भी पेश आ सकती है।

पूछताछ में लिया गोरा का नाम

पंजाब पुलिस की पूछताछ में बिश्नोई ने होशियारपुर जेल में बंद गैंगस्टर गोरा का नाम लिया है। इसके बाद पुलिस होशियारपुर जेल से गुरप्रीत गोरा को खरड़ लेकर आई है। गोरा कनाडा में बैठे गैंगस्टर गोल्डी बराड़ का जीजा बताया जा रहा है।

इन सवालों पर रहा पुलिस का फोकस

  • सिद्धू मूसेवाला से तुम्हारी क्या दुश्मनी थी
  • जेल में बैठकर हत्या की योजना कैसे बनाई
  • हत्या के लिए किन साथियों की मदद ली
  • एएन-94 हथियार कहां से मंगाया था
  • जेल में बैठकर साथियों से कैसे संपर्क करते हो
  • मूसेवाला के अलावा और किसको मारना चाहते हो
  • हत्या से पहले की गई रेकी में किसका सहयोग लिया
  • सुरक्षा में कटौती किए जाने की क्या तुम्हें जानकारी थी

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

बवाना गैंग के नाम से मांगी एक करोड़ की रंगदारी, पूर्व कर्मी गिरफ्तार

12वीं की परीक्षा परिणाम घोषित, नांगल चौधरी के राहुल बने जिला टॉपर