Mahendragarh-Narnaul News: नेत्रदान के लिए पंजीकरण करवाने पहुंच रहे लोग, वर्ष 2023 में 188 लोगों ने करवाया पंजीकरण


नारनौल। जिले में लोग अपनी नेत्रदान करने के लिए आगे आ रहे हैं। इसका इस बात से ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि 2010 में जहां जिले के नागरिक अस्पताल में 63 लोगों ने नेत्रदान के लिए पंजीकरण करवाया था, वहीं 2023 में यह आंकड़ा 200 के पास पहुंच गया। ऐसे में इन लोगों द्वारा नेत्रदान करने से दूसरे की जिंदगी में प्रकाश लाने का काम करेगी। जिले में नेत्रदान के लिए पंजीकरण करवाने वालों की संख्या लगातार बढ़ रही है। ऐसे में नेत्रहीन लोग भी आसानी से दुनिया देख सकेंगे। इसके लिए नागरिक अस्पताल में तैनात जिला नेत्रदान सलाहकार लोगों को समय-समय पर जागरूक भी करता रहता है।

2010 से 2023 तक 1875 लोगों ने नेत्रदान के लिए करवाया पंजीकरण:

नेत्रदान के लिए लोगों को जागरूक करने से लगातार पंजीकरण करने वालों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। वर्ष 2010 में 63, 2011 में 27, 2012 में 203, 2013 में 46, 2014 में 16, 2015 में 34, 2016 में 24, 2017 में 39, 2018 में 123, 2019 में 193, 2020 में 219, 2021 में 381, 2022 में 319 और वर्ष 2023 में 188 लोगों ने नेत्रदान करने के लिए नारनौल के नागरिक अस्पताल में पंजीकरण करवाने पहुंचे हैं।

वर्ष 2010 से अब तक 5 लोगों ने किया नेत्रदान

जिला में वर्ष 2010 में एक व्यक्ति ने, वर्ष 2013 में 1, वर्ष 2014 में 1, वर्ष 2020 और 2023 में भी एक-एक व्यक्ति ने नेत्रदान कर दूसरे व्यक्ति के जीवन में रोशनी लाने का कार्य किया है। हालांकि पंजीकरण करवाने वाले लोगों की संख्या तो अधिक है, लेकिन अनेक बार पंजीकरण करवाने वाले व्यक्ति की मौत के बाद उनके परिजन नेत्रदान करने से मना कर देते हैं, जिसकी वजह से आंकड़े बढ़ नहीं रहे हैं।

जिले में अब नेत्रदान के लिए लोग जागरूक हो रहे हैं। वर्ष 2010 से 2023 तक 1875 लोगों पंजीकरण करवाया है। वहीं वर्ष 2010 के बाद 5 लोगों ने नेत्रदान किया है। कोई व्यक्ति आंखों को दान करना चाहता है तो वह जिला नेत्रदान केंद्र में पहुंच पंजीकरण करवा सकता है।

राजेंद्रपाल सिंह, जिला नेत्रदान सलाहकार, नागरिक अस्पताल नारनौल।

.


What do you think?

Rewari News: सोशल मीडिया के दुष्प्रभाव विषय पर निबंध प्रतियोगिता आयोजित

Haryana: अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी स्वीटी व दीपक भाजपा में शामिल, मुख्यमंत्री बोले, हर समस्या का समाधान मनोहर लाल