Lawrence Bishnoi : बुलेटप्रूफ गाड़ियों का काफिला, 50 पुलिसवाले और वीडियोग्राफी… जानें गिरफ्तारी के बाद कैसे दिल्ली से पंजाब लाया जाएगा लॉरेंस बिश्नोई


चंडीगढ़ : सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में दिल्ली की अदालत ने पंजाब पुलिस को गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई को औपचारिक रूप से गिरफ्तार करने की अनुमति दे दी है। अब तिहाड़ जेल में बंद लॉरेंस बिश्नोई की कस्टडी पंजाब पुलिस को सौंपी जाएगी। मंगलवार को दिल्ली की एक अदालत को पंजाब पुलिस ने सूचित किया कि लॉरेंस बिश्नोई गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या का एक प्रमुख साजिशकर्ता है। गैंगस्टर के ट्रांजिट रिमांड की मांग करते हुए कहा था कि उससे हिरासत में पूछताछ आवश्यक है। लॉरेंस को पंजाब लाने के लिए खास सुरक्षा का इंतजाम किया गया है।

पंजाब पुलिस ने मंगलवार को बिश्नोई को कानून के अनुसार मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (सीजेएम) मानसा की अदालत में पेश करने के लिए ट्रांजिट रिमांड की मांग की। पंजाब पुलिस की इस मांग को कोर्ट ने स्वीकार कर लिया और आदेश दिया कि पंजाब पुलिस लॉरेंस को औपचारिक रूप से गिरफ्तार कर सकती है।

‘लॉरेंस बिश्नोई ने ही करवाई हत्या’
पंजाब पुलिस ने कोर्ट में सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड की जांच के दौरान गिरफ्तार किए गए आरोपियों के बयान भी दाखिल किए। पुलिस ने बताया कि आरोपियों ने रिकॉर्ड किए गए बयान में स्पष्ट कहा है कि उन्हें लॉरेंस बिश्नोई ने सह-आरोपी बनाते हुए सिद्धू मूसेवाला की सुनियोजित हत्या को अंजाम देने का काम सौंपा था।

‘गोल्डी बराड़ के सीधे संपर्क में था लॉरेंस बिश्नोई’
लॉरेंस बिश्नोई ने भी यह बात स्वीकार की है कि सिद्धू मूसेवाला की सुनियोजित हत्या को उसने ही अंजाम दिया है। दिल्ली पुलिस ने उक्त आरोपी लॉरेंस बिश्नोई से पूछताछ की थी, और उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा है कि लॉरेंस बिश्नोई प्रमुख साजिशकर्ता था। गिरफ्तार आरोपियों ने यह भी कहा कि वे सतविंदर सिंह उर्फ गोल्डी बराड़ के सीधे संपर्क में थे, जो लॉरेंस बिश्नोई का करीबी सहयोगी है।

देखें : कोर्ट में पेश किया गया लॉरेंस बिश्नोई

‘आरोपियों को लॉरेंस से जुड़े हैं लिंक’
पुलिस ने कोर्ट को यह भी बताया कि गिरफ्तार किए गए सभी आरोपी लॉरेंस बिश्नोई और उसके सहयोगियों के साथ घनिष्ठ रूप से जुड़े हुए हैं। और वे एक साथ कई अपराधों में शामिल रहे हैं। सिद्धू मूसेवाला की हत्या का मकसद विक्रमजीत सिंह उर्फ विक्की मिद्दुखेड़ा की हत्या का बदला लेना था, जिसमें वे मूसेवाला का हाथ मानते हैं।

ऐसे इंतजाम में पंजाब लाया जाएगा लॉरेंस बिश्नोई
पंजाब के महाधिवक्ता अनमोल रतन सिद्धू ने कोर्ट से यह भी कहा कि अगर लॉरेंस बिश्नोई की हिरासत पंजाब पुलिस को दी जाती है, तो वह गैंगस्टर की सुरक्षा की पूरी जिम्मेदारी लेगें। लॉरेंस को कस्टडी में लेने के लिए पंजाब पुलिस के लगभग 50 पुलिसकर्मी पहुंचे हैं। दो बुलेट प्रूफ वाहन और 12 वाहन आगे चलेगें जो रास्ता क्लियर करते हुए चलेंगे। सभी मार्गों की वीडियोग्राफी की जाएगी।

लॉरेंस के वकील ने किया विरोध
हालांकि लॉरेंस बिश्नोई की ओर से पेश हुए वकील विशाल चोपड़ा ने पंजाब पुलिस की अर्जी का विरोध किया और कहा कि सुरक्षा को खतरा है। ऐसी आशंका है कि ट्रांजिट रिमांड दिए जाने पर लॉरेंस बिश्नोई को मारा जा सकता है। बिश्नोई के वकील ने कहा कि हम वर्चुअल पूछताछ और जांच का विरोध नहीं कर रहे हैं। दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद ड्यूटी मजिस्ट्रेट ने पंजाब पुलिस की अर्जी पर फैसला सुरक्षित रख लिया और शाम को फैसला सुनाया।

पंजाब के मानसा जिले के जवाहरके गांव में 29 मई को सिद्धू मूसेवाला की अज्ञात हमलावरों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। यह घटना पंजाब पुलिस द्वारा 424 अन्य लोगों की सुरक्षा वापस लेने के एक दिन बाद हुई थी।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

कांग्रेस की राजस्थान इकाई के अध्यक्ष डोटासरा को दिल्ली पुलिस ने रोका

गधे का खेत शुरू करने के लिए आदमी ने छोड़ी आईटी की नौकरी, बेचा 17 लाख रुपये का दूध