in

Gurpreet Kaur Bhagwant Mann: भगवंत मान से कब हुई ‘गोपी’ की पहली मुलाकात, गुरप्रीत कौर के बारे में ये बातें जानते हैं आप?


कुरुक्षेत्र: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान शादी कर रहे हैं। चंडीगढ़ में उनके आधिकारिक आवास में शादी का आयोजन हो रहा है। उनकी होने वाली दुलहन की जानकारी को लेकर हर कोई उत्साहित है। उनकी होने वाली पत्नी डॉ. गुरप्रीत कौर हरियाणा के कुरुक्षेत्र की रहने वाली हैं। यहां के पिहोवा इलाके के में उनका पैतृक घर है। वह अंबाला में पढ़ी हैं। उनकी भगवंत मान से पहली मुलाकात दो साल पहले हुई थी। भगवंत मान पंजाब चुनाव में लगे थे इसलिए दोनों की शादी फिलहाल टाल दी गई थी। उनकी शादी को लेकर चर्चा न हो इसलिए वह लाइमलाइट में नहीं रहीं।

डॉ. गुरप्रीत के पिता इंद्रजीत सिंह एनआरआई हैं और कनाडा में रहते हैं। गुरप्रीत का मां का नाम राजिंदर कौर उर्फ राज है। वह एक हाउस वाइफ हैं। गुरप्रीत की दो बड़ी बहनें हैं। एक बहन नवनीत कौर उर्फ नीरू अमेरिका में रहती है और दूसरी का नाम कर्मजीत उर्फ गग्गू है। वह ऑस्ट्रेलिया में रहती हैं। गुरप्रीत को प्यार से लोग गोपी कहते हैं।

चार साल पहले पहली मुलाकात
बताया जा रहा है कि भगवंत मान और डॉक्टर गुरप्रीत कौर एक दूसरे को बीते चार साल से जानते हैं हालांकि शादी की बातचीत दो साल पहले शुरू हुई। पारिवारिक सूत्रों का कहना है कि गुरप्रीत ने 2019 में भगवंत मान के संगरूर लोकसभा चुनाव में भी प्रचार किया था। जब वह इस पंजाब के विधानसभा चुनाव के बाद सीएम बने तो उनके शपथ ग्रहण पर भी गुरप्रीत मौजूद थीं हालांकि वह इतना लो प्रोफाइल रहीं कि किसी का भी इस ओर ध्यान नहीं गया। पारिवारिक सूत्रों का कहना है कि गुरप्रीत कौर भगवंत मान की मां और बहन को जानती थीं। दोनों ने रिश्ते को मंजूरी दे दी थी।

चाचा भी हैं आम आदमी पार्टी के सदस्य
गुरप्रीत के चाचा गुरजिंदर सिंह नट आम आदमी पार्टी (आप) के सदस्य हैं। उन्होंने बताया कि गुरप्रीत वर्तमान में एक डॉक्टर के रूप में कार्यरत हैं। नट ने बताया कि परिवार में करीब दो साल से शादी की बात चल रही थी। उन्होंने कहा कि परिवार इस रिश्ते से खुश है।

कुरुक्षेत्र में हुई प्रारंभिक पढ़ाई
गुरप्रीत कौर की प्रारंभिक शिक्षा पिहोवा में हुई। वह यहां के टैगोर पब्लिक स्कूल में 10वीं कक्षा तक पढ़ी हैं। उसके बाद उन्होंने 12वीं चंडीगढ़ से किया। उसके बाद मुलाना में महर्षि मार्कंडेश्वर विश्वविद्यालय (एमएमयू) के मेडिकल कॉलेज में पढ़ाई की। उन्होंने 2013 में एमबीबीएस में दाखिला लिया और 2017 में एमबीबीएस करने के बाद अंबाला में एक अस्पताल में नौकरी की।

पिता रह चुके हैं सरपंच
गुरप्रीत का पैतृक गांव गुमथला गढ़ू के पास है। पिता इंद्रजीत सिंह नट की पिहोवा के गांव मदनपुर में नट फार्म में 42 एकड़ की जमीन है। इंद्रजीत सिंह मदनपुर गांव के सरपंच भी रहे हैं। उनका परिवार पिहोवा के तिलक कॉलोनी में अपने घर पर रहते थे। फिलहाल बीते छह महीने से परिवार मोहाली में शिफ्ट हो गया है।

मोहाली में रह रहा परिवार
गुरजिंदर सिंह ने कहा करीब एक साल पहले, इंद्रजीत के परिवार ने मोहाली में एक घर खरीदा और वहीं रहने लगा। मुझे मेरे भाई ने बताया है कि गुरप्रीत की शादी पंजाब के सीएम से हो रही है। मोहाली के घर में ही शादी की तैयारियां चल रही हैं। गुरप्रीत की दोनों बहनें भी अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया से मोहाली आई हैं।

.


डसॉल्ट राफेल बनाम बोइंग एफ/ए-18 सुपर हॉर्नेट – सबसे अच्छा लड़ाकू जेट कौन सा है?

Panipat Crime: दुकान पर कब्जा छुड़ाने गए युवक को मारी गोली, पिता को बट मारकर किया घायल