Bhiwani Municipal Election Results: 27.8 फीसदी वोट लेकर प्रीति भवानी प्रताप बनीं नप चेयरपर्सन


हरियाणा के भिवानी में दिग्गज परिवारों का खेल बिगाड़ते हुए प्रीति भवानी प्रताप नगर परिषद की नई चेयरपर्सन बनीं। उन्हें 27.8 फीसदी यानी 25712 वोट मिले और वे 4305 मतों से विजयी रहीं। आम आदमी पार्टी की इंदू शर्मा 21607 वोटों के साथ उप विजेता रहीं। वहीं भाजपा-जजपा प्रत्याशी प्रीति हर्ष वर्धनमान 16049 मतों के साथ चौथे स्थान पर रहीं।

 

कांग्रेस समर्थित मीनू अग्रवाल 20782 वोटों के साथ तीसरे स्थान पर रहीं। चेयरपर्सन बनीं प्रीति के पति भवानी प्रताप भाजपा से ही है और टिकट न मिलने से नाराज होकर निर्दलीय चुनाव लड़ा। साथ ही चुनाव जीतकर दिखा दिया कि भाजपा का टिकट वितरण का फैसला गलत था।
 

19 जून को हुए मतदान के बाद ही लोगों को बेसब्री से मतगणना का इंतजार था। 1,46264 में से 93189 मत गिरे यानी 63.71 फीसदी मतदान हुआ था। बुधवार सुबह आठ बजे मतगणना शुरू हुई तो मतगणना केंद्र के बाहर भारी संख्या में लोग टकटकी लगाए बैठे थे कि कब परिणाम घोषित हो। पहले राउंड में भाजपा-जजपा प्रत्याशी हर्षवर्धन मान ने 2108 वोट लेकर बाजी मारी।

प्रीति भवानी प्रताप को 1992, मीनू अग्रवाल को 1808, इंदू शर्मा को 1651 वोट मिले। पहले राउंड में पिछड़ने के बाद प्रीति भवानी प्रताप ने दूसरे राउंड में 4223 वोट लेकर जबरदस्त वापसी की। यहां से बनी बढ़त लगातार 10वें राउंड तक कायम रही। 10 राउंड के बाद प्रीति भवानी प्रताप के खाते में 25912 वोट थे। जबकि रनर-अप आप प्रत्याशी को 21607, कांग्रेस समर्थित मीनू को 20782 और भाजपा प्रत्याशी प्रीति रानी को 16049 वोट मिले। 4305 मतों से जीत हासिल कर प्रीति भवानी के सिर जीत का ताज सजा। जीत के बाद भवानी समर्थकों ने शहर में विजयी जुलूस निकाला। भवानी प्रताप को कंधों पर उठाकर जीत की खुशी मनाई।

चेयरपर्सन के चुनाव में किसे कितने मिले वोट
प्रत्याशी                 पार्टी        प्राप्त मत

  • प्रीति भवानी प्रतान    निर्दलीय      25912
  • इंदू शर्मा                 आप           21607
  • मीनू अग्रवाल        निर्दलीय         20782
  • प्रीति रानी             भाजपा          16049
  • कमलेश                बसपा            1957
  • नेहा                    एलएसपी        1763
  • रूबल                 निर्दलीय          1168
  • कुलदीप सूद         इनेलो              968
  • शकुंतला              निर्दलीय            747
  • प्रीति रानी             निर्दलीय           561
  • राज कुमारी          निर्दलीय           503
  • राजेश कुमारी       निर्दलीय          383
  • शारदा रानी         निर्दलीय          191
  • नोटा                   नोटा               598

प्रीति भवानी प्रताप ने जीते 51 बूथ तो 41 पर मीनू अग्रवाल का कब्जा
नगर परिषद के चेयरपर्सन पद के लिए हुए चार कोणिय मुकाबले ने चुनाव को काफी रोमांचक बना दिया। खास बात यह रही कि दिग्गज भाजपा नेताओं के गढ़ में भी भाजपा प्रत्याशी को हार मिली तो भवानी प्रताप 51 बूथों पर इतनी बढ़त ले गए कि 4305 वोटों से जीत मिली। कांग्रेस समर्थित मीनू अग्रवाल 41 बूथों पर जीतने में कामयाब रहीं वहीं आप प्रत्याशी इंदू केेे 29 बूथों पर जीत मिली। भाजपा प्रत्याशी मुख्य चार प्रत्याशियों में बूथ जीतने के मामले में चौथे स्थान पर रही और वे 19 बूथों पर ही जीत दर्ज कर पाए।
 

नगर परिषद चेयरपर्सन के रोमांचक मुकाबले के बाद हारने वाले दिग्गजों ने मंथन शुरू कर दिया है। मंथन हो रहा है कि वे किस क्षेत्र, किस कॉलोनी और बूथ में हारे। जिसमें हैरानी कर देने वाली बाते सामने आ रही है। दिग्गज भाजपा नेताओं के गढ़ में भाजपा को हार मिली है। 
 

प्रीति भवानी प्रताप ने जीते ये बूथ
प्रीति भवानी प्रताप की बात करें तो उन्होंने बूथ नंबर तीन, आठ, नौ, 19, 20, 21, 24 से 28 तक बूथ, 30 नंबर, 39 से 42 तक के बूथों, 44, 53, 63 से 69 तक के बूथों, 74, 75, 78 से 82 तक के बूथ, 83, 87, 88, 90, 109, 112, 115, 116, 118, 121 से 126 तक के बूथों, 129, 133, 137, 138 बूथ पर जीत दर्ज की है। इनमें काफी बूथ ऐसे है, जहां भाजपा के दिग्गज नेता भी मतदान करते है, उनकी कॉलोनियां शामिल है।
 

कांग्रेस समर्थित मीनू अग्रवाल ने जीते ये 41 बूथ
कांग्रेस समर्थित मीनू अग्रवाल ने भी बेहतरीन चुनाव लड़ा। वे अनेक भाजपा नेताओं के क्षेत्रों में जीतने में कामयाब रही। बूथ अनुसार बात करें तो बूथ नंबर चार से सात तक, 14 से 17 तक के बूथ, 22, 54, 55, 57, 60, 71, 72, 76, 83, 85, 86, 91 से 100 तक के बूथ, 102 से 105 तक के बूथ, 110, 111, 113, 114, 127, 128, 130, 132 पर जीत दर्ज करने में कामयाब रही।
 

आप प्रत्याशी इंदू शर्मा के नाम रहे 29 बूथ
आप प्रत्याशी इंदू शर्मा ने भी अनेक ऐसे क्षेत्रों में जीत दर्ज की जहां भाजपा और कांग्रेस के नेता है। इंदू शर्मा ने बूथ नंबर 18, 23, 29, 34,36, 37, 43, 45 से 52 तक, 56, 58, 59, 60, 62, 73, 77, 89, 101,106, 117, 119, 120, 136 नंबर बूथों पर जीत दर्ज की। 
 

भाजपा प्रत्याशी प्रीति मान जीत पाई 19 बूथ
भाजपा-जजपा की संयुक्त प्रत्याशी प्रीति हर्षवर्धन मान चेयरपर्सन चुनाव में बुरी तरह पिछड़ी नजर आई। चार मुख्य प्रत्याशियों में वह हर क्षेत्र में चौथे स्थान पर रही। बूथ वाइज जीत में बात करें तो वह 19 बूथों पर ही जीत दर्ज कर पाई। इनमें बूथ नंबर एक, दो, 10 से13 तक बूथ, 31, 32, 33, 35, 38, 70, 107, 108, 131, 134, 135, 139, 140 बूथ पर ही जीत दर्ज कर पाई। 
 

किस राउंड में कौन-कौन से बूथ और वार्ड रहे शामिल

  • राउंड    बूथ संख्या    वार्ड
  • 01    एक से 14    1,2,3,4
  • 02    15 से 28    4, 5, 6, 7
  • 03    29 से 42    8,9,10 और 11
  • 04    43 से 56    12,13,14 व 15
  • 05    57 से 70    16,17,18 व 19
  • 06    71 से 84    20,21 व 22
  • 07    85 से 98    22,23 व 24
  • 08    99 से 112    24,25,26 व 27
  • 09    113 से 126    27,28 व 29 
  • 10    127 से 140    29,30 व 31

नप की सियासत : दिग्गज ढेर, नए चेहरों के साथ भिवानी की मिनी सरकार
नगर परिषद चुनावों के नतीजों में कई दिग्गज ढेर हो गए तो कुछ पार्षदों ने मुश्किल से अपनी साख बचाई। नए चेहरों के साथ भिवानी की छोटी सरकार उभरकर सामने आई। जनमत के आगे सभी चुनावी समीकरण भी फेल हो गए वहीं जीत के मायने भी कई वार्डों में बदल गए। अब पत्नी भिवानी की सरकार चलाएंगी तो पति भी मुद्दों पर अपनी सहमति की मोहर लगाएंगे। क्योंकि वे भी नप सदन की बैठक में पार्षद की हैसियत से बैठेंगे।

भिवानी नगर परिषद चुनावों में जातीय और दलगत राजनीति समीकरणों को भी फेल कर डाला। नप चुनाव के नतीजों ने साफ कर दिया कि जनमत किसकी तरफ कब झुक जाए और किसे मात दे और किसकी सरकार बनाए कुछ अंदाजा और आभास तक नहीं हुआ।

 

भिवानी में जिस उम्मीदवार को दूसरे या तीसरे नंबर पर आंका जा रहा था, उसने जीत दर्ज कर दी और जबकि आम आदमी पार्टी दूसरे, कांग्रेस समर्थित तीसरे और सत्तासीन भाजपा चौथे पायदान पर रही। भ्रष्टाचार के मुद्दे पर भी वार्डों में दिग्गज पार्षदों की लुटिया डूबो दी। निवर्तमान उपाध्यक्ष मामनचंद को उसी के गढ़ में एक पूर्व पार्षद के बेटे ने ही मात दे दी। जबकि कई बार पार्षद रहे हरिराम को भी नए चेहरे ने हरा दिया।

ये नप दिग्गज पार्षद बचा पाए अपनी साख
चुनावों में वार्ड आठ से लगातार दूसरी बार सुमिता हर्षदीप डुडेजा चुनी गई। वार्ड नौ से पूर्व पार्षद मांगे राम की पुत्रवधू मंजू शर्मा लगातार दूसरी बार जीती। वार्ड 17 से सुभाष तंवर भी दूसरी बार पार्षद चुने हैं। वार्ड 19 से पांच साल के ब्रेक के बाद शिव कुमार गोठवाल दूसरी बार पार्षद बने हैं। दिग्गज पार्षद गोविंदराम उर्फ बिल्लू बादशाह अपनी जीत का क्रम कायम रखने में कामयाब रहे।

 

वे वार्ड 27 से आठवीं बार पार्षद बने। इस बार की खास बात यह रहीं कि उनकी पुत्रवधु प्रीति भी वार्ड 24 से पार्षद बनी है। नप पूर्व चेयरमैन नंदलाल चावला के बेटे विनोद चावला भी निर्विरोध नप पार्षद चुने गए हैं। वार्ड 22 से ज्योति कामरा लगातार चौथी बार पार्षद का ताज अपने नाम कर इतिहास बना चुकी हैं। नप पूर्व चेयरमैन रमेश मस्ता परिवार से आकाश मस्ता ने भी अपने राजनीतिक वजूद को बनाए रखा। वे लगातार दूसरी बार पार्षद बने हैं। 

ये चुने गए पहली बार पार्षद
वार्ड एक से सूर्य प्रताप, वार्ड दो से संदीप यादव, वार्ड तीन से सुनीता दुग्गल, वार्ड चार से सुकर्म श्योराण, वार्ड पांच से अंकुर मुन्ना, वार्ड छह से संजय रेनू पहली बार पार्षद चुनी गई। इसी तरह वार्ड दस से सरला देवी, वार्ड 13 से कमलेश, वार्ड 14 से जयबीर, वार्ड 16 से अनिल मास्टर, वार्ड 18 से अनिल, वार्ड 21 से सीमा देवी, वार्ड 23 से मनोज उर्फ विक्की, वार्ड 24 से संजू शर्मा, वार्ड 25 से विनोद प्रजापति, वार्ड 30 मनीष गुरेजा पहली बार नप सदन में बैठकर शहर के मुद्दों पर चर्चा कर योजना बनाएंगे।

छोटी सरकार की परीक्षा में बड़े नेता हुए फेल
नगर परिषद यानी छोटी सरकार की परीक्षा में बड़े नेता भी फेल हो गए। नप चेयरपर्सन के लिए दो पूर्व मंत्रियों ने भी चुनावी प्रचार किया था। दो पूर्व मंत्रियों की पुत्रवधू चुनावी मैदान में थी, लेकिन छोटी सरकार की इस परीक्षा में ये सभी बड़े नेता फेल हो गए। जबकि विधायक का कार्ड चल गया। कांग्रेस समर्थित मीनू अग्रवाल जो पूर्वमंत्री रामभजन अग्रवाल परिवार की बहू है और कांग्रेस दिग्गज नेता पूर्वमंत्री किरण चौधरी के आशीर्वाद तले चुनाव लड़ रही थी। इसी तरह आम आदमी पार्टी की इंदू शर्मा भी पूर्वमंत्री डॉ. वासुदेव की पुत्रवधू है।

महज पांच वोट से हार पर नम हुई आंखें
वार्ड 24 में कांटे की टक्कर रही। यहां संजू ने 1149 वोट लिए जबकि उसकी प्रतिद्वंद्वी को मीनाक्षी अग्रवाल को 1144 वार्ड मिले, महज पांच वोट की इस हार से महिला प्रत्याशी के पति की आंख नम हो गई। वह इस हार से टूट गया और मतगणना केंद्र के बाहर आते ही उसकी आंखों से आंसू झलक आए।

किस वार्ड से किसे मिले कितने मत कौन रहा उप विजेता
वार्ड संख्या    विजेता    वोट    उपविजेता    वोट    अंतर
01    सूर्याकांत    911    बलवान शर्मा    432    479
02    संदीप    947    चिंरजीलाल    413    534
03    सोनिका    575    रेखा    319    256
04    सुक्रम सिंह    1942    रोहित    693    1249
05    अंकुर कौशिक    1112    अनिल कुमार    938    174
06    रेनू    1932    मीनू    1422    510
07    भवानीप्रताप    2482    जोगेंद्र    675    1807
08    सुमिता बजाज    1995    किरणबाला    1133    862
09    मंजू    1478    कविता    678    800
10    सरला    1131    निधि    418    713
11    कर्मबीर यादव    799    अरविंद कुमार    620    179
12    कविता यादव    1151    कुशल यादव    833    318
13    कमलेश    458    शिमला देवी    432    26
14    जयवीर सिंह    818    दीपक    715    103
15    कविता    1139    इंदूबाला    799    340
16    अनिल कुमार    1027    मनोज यादव    799    228
17    सुभाष तंवर    1343    हंसराज    704    639
18    अनीता    840    राज देवी    537    303
19    शिवकुमार    976    कर्मजीत    436    540
20    प्रदीप कौशिक    1183    राकेश कुमार    977    206
21    सीमा देवी    1133    कमला देवी    826    307
22    ज्योति कामरा    1926    शालू तंवर    1834    92
23    मनोज कुमार    1604    कमल    834    770
24    संजू    1149    मीनाक्षी अग्रवाल    1144    05
25    विनोद कुमार    1961    मामनचंद    1912    49
26    विनोद चावला    निर्विरोध चुने गए
27    गोविंदराम    2419    राजकुमार    1946    473
28    आकाश मस्ता    1487    उमाकांत    1339    148
29    सुदामा    2210    विजय कुमार    1642    568
30    मनीष    943    बलवान सिंह    655    288
31    सत्येंद्र सिंह    1301    सुनील कुमार    594    707

ये नप दिग्गज पार्षद बचा पाए अपनी साख
चुनावों में वार्ड आठ से लगातार दूसरी बार सुमिता हर्षदीप डुडेजा चुनी गई। वार्ड नौ से पूर्व पार्षद मांगे राम की पुत्रवधू मंजू शर्मा लगातार दूसरी बार जीती। वार्ड 17 से सुभाष तंवर भी दूसरी बार पार्षद चुने हैं। वार्ड 19 से पांच साल के ब्रेक के बाद शिव कुमार गोठवाल दूसरी बार पार्षद बने हैं। दिग्गज पार्षद गोविंदराम उर्फ बिल्लू बादशाह अपनी जीत का क्रम कायम रखने में कामयाब रहे। वे वार्ड 27 से आठवीं बार पार्षद बने। इस बार की खास बात यह रहीं कि उनकी पुत्रवधु प्रीति भी वार्ड 24 से पार्षद बनी है। नप पूर्व चेयरमैन नंदलाल चावला के बेटे विनोद चावला भी निर्विरोध नप पार्षद चुने गए हैं। वार्ड 22 से ज्योति कामरा लगातार चौथी बार पार्षद का ताज अपने नाम कर इतिहास बना चुकी हैं। नप पूर्व चेयरमैन रमेश मस्ता परिवार से आकाश मस्ता ने भी अपने राजनीतिक वजूद को बनाए रखा। वे लगातार दूसरी बार पार्षद बने हैं। 

विस्तार

हरियाणा के भिवानी में दिग्गज परिवारों का खेल बिगाड़ते हुए प्रीति भवानी प्रताप नगर परिषद की नई चेयरपर्सन बनीं। उन्हें 27.8 फीसदी यानी 25712 वोट मिले और वे 4305 मतों से विजयी रहीं। आम आदमी पार्टी की इंदू शर्मा 21607 वोटों के साथ उप विजेता रहीं। वहीं भाजपा-जजपा प्रत्याशी प्रीति हर्ष वर्धनमान 16049 मतों के साथ चौथे स्थान पर रहीं।

 

कांग्रेस समर्थित मीनू अग्रवाल 20782 वोटों के साथ तीसरे स्थान पर रहीं। चेयरपर्सन बनीं प्रीति के पति भवानी प्रताप भाजपा से ही है और टिकट न मिलने से नाराज होकर निर्दलीय चुनाव लड़ा। साथ ही चुनाव जीतकर दिखा दिया कि भाजपा का टिकट वितरण का फैसला गलत था।

 

19 जून को हुए मतदान के बाद ही लोगों को बेसब्री से मतगणना का इंतजार था। 1,46264 में से 93189 मत गिरे यानी 63.71 फीसदी मतदान हुआ था। बुधवार सुबह आठ बजे मतगणना शुरू हुई तो मतगणना केंद्र के बाहर भारी संख्या में लोग टकटकी लगाए बैठे थे कि कब परिणाम घोषित हो। पहले राउंड में भाजपा-जजपा प्रत्याशी हर्षवर्धन मान ने 2108 वोट लेकर बाजी मारी।


प्रीति भवानी प्रताप को 1992, मीनू अग्रवाल को 1808, इंदू शर्मा को 1651 वोट मिले। पहले राउंड में पिछड़ने के बाद प्रीति भवानी प्रताप ने दूसरे राउंड में 4223 वोट लेकर जबरदस्त वापसी की। यहां से बनी बढ़त लगातार 10वें राउंड तक कायम रही। 10 राउंड के बाद प्रीति भवानी प्रताप के खाते में 25912 वोट थे। जबकि रनर-अप आप प्रत्याशी को 21607, कांग्रेस समर्थित मीनू को 20782 और भाजपा प्रत्याशी प्रीति रानी को 16049 वोट मिले। 4305 मतों से जीत हासिल कर प्रीति भवानी के सिर जीत का ताज सजा। जीत के बाद भवानी समर्थकों ने शहर में विजयी जुलूस निकाला। भवानी प्रताप को कंधों पर उठाकर जीत की खुशी मनाई।

प्रीति भवानी प्रताप ने जीते 51 बूथ तो 41 पर मीनू अग्रवाल का कब्जा
नगर परिषद के चेयरपर्सन पद के लिए हुए चार कोणिय मुकाबले ने चुनाव को काफी रोमांचक बना दिया। खास बात यह रही कि दिग्गज भाजपा नेताओं के गढ़ में भी भाजपा प्रत्याशी को हार मिली तो भवानी प्रताप 51 बूथों पर इतनी बढ़त ले गए कि 4305 वोटों से जीत मिली। कांग्रेस समर्थित मीनू अग्रवाल 41 बूथों पर जीतने में कामयाब रहीं वहीं आप प्रत्याशी इंदू केेे 29 बूथों पर जीत मिली। भाजपा प्रत्याशी मुख्य चार प्रत्याशियों में बूथ जीतने के मामले में चौथे स्थान पर रही और वे 19 बूथों पर ही जीत दर्ज कर पाए।
 

नगर परिषद चेयरपर्सन के रोमांचक मुकाबले के बाद हारने वाले दिग्गजों ने मंथन शुरू कर दिया है। मंथन हो रहा है कि वे किस क्षेत्र, किस कॉलोनी और बूथ में हारे। जिसमें हैरानी कर देने वाली बाते सामने आ रही है। दिग्गज भाजपा नेताओं के गढ़ में भाजपा को हार मिली है। 
 

प्रीति भवानी प्रताप ने जीते ये बूथ
प्रीति भवानी प्रताप की बात करें तो उन्होंने बूथ नंबर तीन, आठ, नौ, 19, 20, 21, 24 से 28 तक बूथ, 30 नंबर, 39 से 42 तक के बूथों, 44, 53, 63 से 69 तक के बूथों, 74, 75, 78 से 82 तक के बूथ, 83, 87, 88, 90, 109, 112, 115, 116, 118, 121 से 126 तक के बूथों, 129, 133, 137, 138 बूथ पर जीत दर्ज की है। इनमें काफी बूथ ऐसे है, जहां भाजपा के दिग्गज नेता भी मतदान करते है, उनकी कॉलोनियां शामिल है।
 

कांग्रेस समर्थित मीनू अग्रवाल ने जीते ये 41 बूथ
कांग्रेस समर्थित मीनू अग्रवाल ने भी बेहतरीन चुनाव लड़ा। वे अनेक भाजपा नेताओं के क्षेत्रों में जीतने में कामयाब रही। बूथ अनुसार बात करें तो बूथ नंबर चार से सात तक, 14 से 17 तक के बूथ, 22, 54, 55, 57, 60, 71, 72, 76, 83, 85, 86, 91 से 100 तक के बूथ, 102 से 105 तक के बूथ, 110, 111, 113, 114, 127, 128, 130, 132 पर जीत दर्ज करने में कामयाब रही।
 

आप प्रत्याशी इंदू शर्मा के नाम रहे 29 बूथ
आप प्रत्याशी इंदू शर्मा ने भी अनेक ऐसे क्षेत्रों में जीत दर्ज की जहां भाजपा और कांग्रेस के नेता है। इंदू शर्मा ने बूथ नंबर 18, 23, 29, 34,36, 37, 43, 45 से 52 तक, 56, 58, 59, 60, 62, 73, 77, 89, 101,106, 117, 119, 120, 136 नंबर बूथों पर जीत दर्ज की। 
 

भाजपा प्रत्याशी प्रीति मान जीत पाई 19 बूथ
भाजपा-जजपा की संयुक्त प्रत्याशी प्रीति हर्षवर्धन मान चेयरपर्सन चुनाव में बुरी तरह पिछड़ी नजर आई। चार मुख्य प्रत्याशियों में वह हर क्षेत्र में चौथे स्थान पर रही। बूथ वाइज जीत में बात करें तो वह 19 बूथों पर ही जीत दर्ज कर पाई। इनमें बूथ नंबर एक, दो, 10 से13 तक बूथ, 31, 32, 33, 35, 38, 70, 107, 108, 131, 134, 135, 139, 140 बूथ पर ही जीत दर्ज कर पाई। 
 

किस राउंड में कौन-कौन से बूथ और वार्ड रहे शामिल

  • राउंड    बूथ संख्या    वार्ड
  • 01    एक से 14    1,2,3,4
  • 02    15 से 28    4, 5, 6, 7
  • 03    29 से 42    8,9,10 और 11
  • 04    43 से 56    12,13,14 व 15
  • 05    57 से 70    16,17,18 व 19
  • 06    71 से 84    20,21 व 22
  • 07    85 से 98    22,23 व 24
  • 08    99 से 112    24,25,26 व 27
  • 09    113 से 126    27,28 व 29 
  • 10    127 से 140    29,30 व 31

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

नप की सियासत: दिग्गज ढेर, नए चेहरों के साथ भिवानी की मिनी सरकार

दो सीट भाजपा, एक-एक सीट जजपा और आप ने जीती