in

5 महीने में खरीदा गया हर पांचवां वाहन सीएनजी या इलेक्ट्रिक, पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों के बीच इलेक्ट्रॉनिक कार पसंद कर रहे हैं लोग


निरंजन कुमार, गुड़गांव: पेट्रोल और डीजल के महंगा होने से शहरवासी अब सीएनजी व इलेक्ट्रिक वाहन की तरफ रुख करने लगे हैं। पांच महीने के दौरान गुड़गांव में रजिस्टर्ड हुए वाहनों में हर पांचवां वाहन या तो सीएनजी या फिर इलेक्ट्रिक है। हाईब्रिड वाहनों की बिक्री भी पहले की अपेक्षा बढ़ी है। विभिन्न कार डीलरों के पास बड़ी संख्या में सीएनजी, इलेक्ट्रिक व हाईब्रिड वाहनों की बुकिंग पेंडिंग है। पांच महीने के दौरान गुड़गांव की मुख्य रजिस्ट्रेशन अथॉरिटी एचआर 26 में 31 मई तक कुल 23318 वाहन रजिस्टर हुए। इनमें से सीएनजी के 1986, हाईब्रिड 502 और इलेक्ट्रिक 300 वाहन पंजीकृत हुए। जबकि एचआर 72 नंबर अथॉरिटी में रजिस्टर्ड कुल 2687 वाहनों में से 313 सीएनजी, 51 इलेक्ट्रिक और 24 हाईब्रिड हैं। एचआर 98 बादशाहपुर में रजिस्टर्ड 16397 वाहनों में से 598 सीएनजी, 516 हाईब्रिड और 131 इलेक्ट्रिक वाहन रहे। कमर्शल वाहनों की बात करें तो रजिस्ट्रेशन नंबर एचआर 55 के तहत कुल 8365 वाहनों में से 4773 यानी 60 फीसदी सीएनजी के पंजीकृत हुए हैं। 755 इलेक्ट्रिक व 85 हाईब्रिड वाहन पंजीकृत हुए हैं।

एक बड़े इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन के एमडी प्रवीण यादव बताते हैं कि पेट्रोल व डीजल से वाहन चलाना काफी महंगा पड़ता है। रनिंग कॉस्ट आठ से दस रुपये प्रति किमी की है। सीएनजी से रनिंग कॉस्ट चार से पांच रुपये प्रति किमी और इलेक्ट्रिक वाहन की रनिंग कॉस्ट केवल डेढ़ से दो रुपये प्रति किमी है। खाली समय में इलेक्ट्रिक वाहन को घर पर भी चार्ज किया जाता है। इससे खर्चा और कम हो जाता है। आजकल सरकारी और निजी कार्यालयों में भी चार्जिंग पॉइंट हैं। जहां कर्मचारियों को मुफ्त में वाहन चार्जिंग का ऑप्शन मिलता है। इसी वजह से पेट्रोल व डीजल की बजाय, सीएनजी व इलेक्ट्रिक वाहनों की तरफ लोगों का रुझान बढ़ रहा है।

पेट्रोल और डीजल का विकल्प मौजूद होने से लोग अब इलेक्ट्रिक व सीएनजी की तरफ रुख कर रहे हैं। गुड़गांव तो ईवी हब बन रहा है। यहां 24 घंटे चार्जिंग स्टेशन खुले रहते हैं। जहां एक घंटे में आसानी से वाहन चार्ज किया जा सकता है। आने वाले समय में गुड़गांव में न केवल निजी वाहन बल्कि सार्वजनिक बसें भी इलेक्ट्रिक होंगी।

-अभिजीत सिन्हा, प्रॉजेक्ट डायरेक्टर, एनएचईवी

सीएनजी वाहन कंपनी में सेल्स मैनेजर विकास गुप्ता का कहना है कि बड़ी संख्या में लोग सीएनजी व हाईब्रिड गाड़ी बुक करा रहे हैं। उनके पास चार से पांच महीने की वेटिंग है। इसके बावजूद लोग वेटिंग पर भी गाड़ी की बुकिंग उठा रहे हैं।

पंप की संख्या

सीएनजी-24

पेट्रोल, डीजल-315

इलेक्ट्रिक-15

वर्जन

.


ENG vs NZ पहला टेस्ट: टीम के खिलाड़ियों के खिलाड़ियों में ताजी हवाएं, टीम से बाहर

Rewari News: ग्रीन एनर्जी पावर प्लांट में हादसा, पांच झुलसे, तीन गंभीर रूप से घायल