33 वोटों से जीतकर पिंकी रानी बनीं पार्षद


ख़बर सुनें

सफीदों (जींद)। सफीदों के वार्ड नंबर आठ के पार्षद पद के लिए शुक्रवार को सैनी सभा में दोबारा मतदान हुआ। बता दें कि चुनाव आयोग के आदेशों पर ईवीएम की डिस्पले खराब होने के कारण यह मतदान हुआ। मतदान सुबह सात बजे शुरू हो गया था, जोकि सांय 6 बजे तक जारी रहा। मतदान के लिए बनाए गए दोनों पोलिंग बूथों 13 व 14 पर पोलिंग करने वाले मतदाताओं की भारी भीड़ जमा रही। महिलाओं ने भी पुन: जमकर मतदान किया। सुबह-सवेरे ही मतदान का आंकड़ा ऊपर चढ़ता चला गया और पोलिंग समाप्त करने के निर्धारित समय 6 बजे मतदान का आंकड़ा 79.61 प्रतिशत रहा। मतदाताओं ने बूथ नंबर 13 पर 520 तथा बूथ नंबर 14 पर 589 वोट डाले। दोनों बूथों पर 1393 मतदाताओं में से 1109 ने वोट डाले। पोलिंग के निर्धारित समय 6 बजे मतदान केंद्र के मुख्यद्वार को बंद कर दिया गया। उसके बाद प्रशासन ने मतगणना की कार्रवाई शुरू कर दी। कुछ ही देर में मतगणना का परिणाम सामने आ गया। इस परिणाम में प्रत्याशी पिंकी सैनी को कुल 569 मत तथा प्रत्याशी मधु रानी ने 536 वोट हासिल हुए। रिटर्निंग अधिकारी एवं एसडीएम सत्यवान मान ने पिंकी सैनी के 33 वोटों से विजयी होने की घोषणा की।
प्रत्याशियों ने एक-दूसरे पर लगाए फर्जी वोट डलवाने के आरोप
शाम को चार बजे इस वार्ड से चुनाव लड़ रही पिंकी सैनी व मधु रानी के समर्थकों ने एक-दूसरे पर फर्जी वोटिंग के आरोप लगाए। यह भनक प्रशासन को लगी तो तत्काल मौके पर रिटर्निंग अधिकारी एवं एसडीएम सत्यवान मान व डीएसपी आशीष कुमार पहुंचे और वहां पर पोलिंग करवा रहे अधिकारियों से बात की। अधिकारियों द्वारा जांच में फर्जी पोलिंग वाली कोई बात सामने नहीं आई। एसडीएम सत्यवान मान ने बताया कि पोलिंग पूरी तरह से पारदर्शिता के साथ चल रही है तथा फर्जी वोटिंग वाली कोई ऐसी बात सामने नहीं आई है।
सुरक्षा रही चाक-चौबंद
सुरक्षा व्यवस्था को लेकर प्रशासन सजग रहा तथा पुलिस की टीमें सुरक्षा के लिए लगाई हुई थी। रिटर्निंग अधिकारी एवं एसडीएम सत्यवान मान व डीएसपी आशिष कुमार ने कई बार मतदान केंद्र का दौरा किया। वहीं जिस सैनी भवन में पोलिंग चल रही थी उसके सामने से गुजर रही सड़क पर छोटे वाहनों की आवाजाही जारी थी लेकिन प्रशासन में सायं को एहतियात के तौर पर इस मार्ग पर बैरिकेड डालकर उसे पूरी तरह से अवरुद्ध कर दिया और पोलिंग स्टेशन पर केवल वोटर को ही आने की इजाजत थी। इसके अलावा मतदान केंद्र पर किसी को भी मोबाइल ले जाने की अनुमति नहीं थी। मतदान केंद्र के मुख्य गेट पर तैनात पुलिसकर्मी मोबाइल को बाहर ही रखवाकर वोटरों को मतदान केंद्र में प्रवेश करने दे रहे थे। वही मतदाता से उनकी आईडी देखकर ही वोटें डलवाई जा रही थीं।

सफीदों (जींद)। सफीदों के वार्ड नंबर आठ के पार्षद पद के लिए शुक्रवार को सैनी सभा में दोबारा मतदान हुआ। बता दें कि चुनाव आयोग के आदेशों पर ईवीएम की डिस्पले खराब होने के कारण यह मतदान हुआ। मतदान सुबह सात बजे शुरू हो गया था, जोकि सांय 6 बजे तक जारी रहा। मतदान के लिए बनाए गए दोनों पोलिंग बूथों 13 व 14 पर पोलिंग करने वाले मतदाताओं की भारी भीड़ जमा रही। महिलाओं ने भी पुन: जमकर मतदान किया। सुबह-सवेरे ही मतदान का आंकड़ा ऊपर चढ़ता चला गया और पोलिंग समाप्त करने के निर्धारित समय 6 बजे मतदान का आंकड़ा 79.61 प्रतिशत रहा। मतदाताओं ने बूथ नंबर 13 पर 520 तथा बूथ नंबर 14 पर 589 वोट डाले। दोनों बूथों पर 1393 मतदाताओं में से 1109 ने वोट डाले। पोलिंग के निर्धारित समय 6 बजे मतदान केंद्र के मुख्यद्वार को बंद कर दिया गया। उसके बाद प्रशासन ने मतगणना की कार्रवाई शुरू कर दी। कुछ ही देर में मतगणना का परिणाम सामने आ गया। इस परिणाम में प्रत्याशी पिंकी सैनी को कुल 569 मत तथा प्रत्याशी मधु रानी ने 536 वोट हासिल हुए। रिटर्निंग अधिकारी एवं एसडीएम सत्यवान मान ने पिंकी सैनी के 33 वोटों से विजयी होने की घोषणा की।

प्रत्याशियों ने एक-दूसरे पर लगाए फर्जी वोट डलवाने के आरोप

शाम को चार बजे इस वार्ड से चुनाव लड़ रही पिंकी सैनी व मधु रानी के समर्थकों ने एक-दूसरे पर फर्जी वोटिंग के आरोप लगाए। यह भनक प्रशासन को लगी तो तत्काल मौके पर रिटर्निंग अधिकारी एवं एसडीएम सत्यवान मान व डीएसपी आशीष कुमार पहुंचे और वहां पर पोलिंग करवा रहे अधिकारियों से बात की। अधिकारियों द्वारा जांच में फर्जी पोलिंग वाली कोई बात सामने नहीं आई। एसडीएम सत्यवान मान ने बताया कि पोलिंग पूरी तरह से पारदर्शिता के साथ चल रही है तथा फर्जी वोटिंग वाली कोई ऐसी बात सामने नहीं आई है।

सुरक्षा रही चाक-चौबंद

सुरक्षा व्यवस्था को लेकर प्रशासन सजग रहा तथा पुलिस की टीमें सुरक्षा के लिए लगाई हुई थी। रिटर्निंग अधिकारी एवं एसडीएम सत्यवान मान व डीएसपी आशिष कुमार ने कई बार मतदान केंद्र का दौरा किया। वहीं जिस सैनी भवन में पोलिंग चल रही थी उसके सामने से गुजर रही सड़क पर छोटे वाहनों की आवाजाही जारी थी लेकिन प्रशासन में सायं को एहतियात के तौर पर इस मार्ग पर बैरिकेड डालकर उसे पूरी तरह से अवरुद्ध कर दिया और पोलिंग स्टेशन पर केवल वोटर को ही आने की इजाजत थी। इसके अलावा मतदान केंद्र पर किसी को भी मोबाइल ले जाने की अनुमति नहीं थी। मतदान केंद्र के मुख्य गेट पर तैनात पुलिसकर्मी मोबाइल को बाहर ही रखवाकर वोटरों को मतदान केंद्र में प्रवेश करने दे रहे थे। वही मतदाता से उनकी आईडी देखकर ही वोटें डलवाई जा रही थीं।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

पराली प्रबंधन के लिए नेपाल के वैज्ञानिकों का करेंगे सहयोग : प्रो. कांबोज

बस स्टैंड के पिछले गेट से बसें निकालने से शहर में कम हुआ जाम