in

30 हजार रुपये का ईनामी गैंगस्टर छिपकर बैठा था जीरकपुर में, अपराध शाखा ने दबोचा


ख़बर सुनें

चंडीगढ़। तीन साल से फरार चल रहे 30 हजार रुपये के इनामी गैंगस्टर विनीत गहलोत उर्फ विक्की को अपराध शाखा ने गिरफ्तार किया है। गैंगस्टर से दो पिस्टल, एक रिवॉल्वर, चार कट्टे और चार कारतूस बरामद हुए हैं। आरोपी दिल्ली के नजफगढ़ के गांव मित्राऊंका रहने वाला है। पुलिस ने आरोपी को अदालत में पेश कर पांच दिन का रिमांड हासिल किया है। डीएसपी रजनीश ने बताया कि आरोपी पर हत्या के मामले में 25 हजार और उत्तर प्रदेश के बिजनौर में हत्या के केस में 5 हजार रुपये का इनाम था। आरोपी जीरकपुर में छिपकर बैठा था।
राकेश की पूछताछ के बाद विनीत को दबोचा
अपराध शाखा ने 29 जुलाई को सेक्टर-17 से उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर निवासी 21 साल के राकेश को गिरफ्तार किया था। अपराध शाखा की टीम 15 अगस्त के मद्देनजर सेक्टर-43 स्थित जिला अदालत के पास गश्त कर रही थी। पुलिस को गुप्त सूचना मिली कि राकेश नाम का युवक सेक्टर-17 स्थित सर्कस ग्राउंड के पास आ रहा है, जिसके पास देसी कट्टा है। इसके बाद राकेश को सेक्टर-17 से देसी कट्टे के साथ गिरफ्तार कर लिया गया। पूछताछ में आरोपी ने बताया था कि उसने गैंगस्टर वीनित से देसी कट्टा खरीदा है। इसके बाद अपराध शाखा ने आरोपी के बारे में जानकारी जुटाई और उसे जीरकपुर से गिरफ्तार कर लिया।
कुख्यात गैंगस्टर मंजीत महाल की गैंग का सदस्य है विनीत
विनीत दिल्ली के गैंगस्टर मंजीत महाल की गैंग का सक्रिय सदस्य है। मंजीत दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में हत्या, डकैती और जबरन वसूली के मामलों में शामिल रहा है। विनीत का भाई अशोक गहलोत भी गैंगस्टर है। उस पर हत्या, जबरन वसूली और आर्म्स एक्ट के तहत 18 केस दर्ज हैं। वर्तमान में अशोक और मंजीत महाल मकोका धारा के तहत दिल्ली की मंडोली जेल में बंद है।
आरोपी बिजनौर में कॉन्ट्रेक्ट किलिंग में भी था शामिल
आरोपी विनीत ने वर्ष 2019 में पंचकूला के सेक्टर-20 में शोरूम में फाइनेंसर को लूटने के दौरान दीपक की हत्या कर दी थी। इसके अलावा आरोपी बिजनौर में बुलाकी की कॉन्ट्रेक्ट किलिंग में भी शामिल था। उसने वर्ष 2019 में बुलाकी की गोली मारकर हत्या कर दी थी।
पुलिस कर रही थी पीछा, गाड़ी पलटी, पिस्टल छोड़कर हुआ फरार
बिजनौर में वारदात को अंजाम देने के बाद यूपी पुलिस विनीत का पीछा कर रही थी। इस दौरान भागते समय उसकी जगुआर कार पलट गई थी। आरोपी गाड़ी में पिस्टल छोड़कर फरार हो गया था। उक्त मामले मेें आरोपी के खिलाफ पंचकूला में हत्या के प्रयास और आर्म्स एक्ट के तहत केस दर्ज हुआ था।
महीने में हासिल की दूसरी बड़ी कामयाबी
अपराध शाखा के इंस्पेक्टर सतविंदर सिंह के नेतृत्व में टीम ने महीने में दूसरी बड़ी कामयाबी हासिल की है। इससे पहले 6 जुलाई को टीम ने महंगी गाड़ियां चोरी कर नेपाल और बिहार में बेचने वाले अंतरराज्यीय वाहन चोर गिरोह को गिरफ्तार किया था। आरोपियों की निशानदेही पर पुलिस ने बिहार के मुजफ्फरपुर से आठ कारें बरामद की थीं। सतिंवदर के नेतृत्व में सब इंस्पेक्टर नीरज कुमार, एएअसई हरजिंदर, हवलदार दौलत राम, हवलदार संजय, वरिष्ठ सिपाही नीरज सिपाही संदीप, सिपाही जसबीर, सिपाही रविंदर बूरा, सिपाही रिंकू राम और सिपाही दीपकू सिंधू ने इन मामलों को सुलझाया है।
कोट्स
आरोपी विनीत हरियाणा और उत्तर प्रदेश में वांटेड था। रिमांड के दौरान आरोपी से पूछताछ की जा रही है कि उसने और कहां-कहां वारदातों को अंजाम दिया है। जांच की जा रही है कि उसने और किन किन लोगों को हथियार सप्लाई किए हैं।
– सतविंदर सिंह, इंस्पेक्टर अपराध शाखा।

चंडीगढ़। तीन साल से फरार चल रहे 30 हजार रुपये के इनामी गैंगस्टर विनीत गहलोत उर्फ विक्की को अपराध शाखा ने गिरफ्तार किया है। गैंगस्टर से दो पिस्टल, एक रिवॉल्वर, चार कट्टे और चार कारतूस बरामद हुए हैं। आरोपी दिल्ली के नजफगढ़ के गांव मित्राऊंका रहने वाला है। पुलिस ने आरोपी को अदालत में पेश कर पांच दिन का रिमांड हासिल किया है। डीएसपी रजनीश ने बताया कि आरोपी पर हत्या के मामले में 25 हजार और उत्तर प्रदेश के बिजनौर में हत्या के केस में 5 हजार रुपये का इनाम था। आरोपी जीरकपुर में छिपकर बैठा था।

राकेश की पूछताछ के बाद विनीत को दबोचा

अपराध शाखा ने 29 जुलाई को सेक्टर-17 से उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर निवासी 21 साल के राकेश को गिरफ्तार किया था। अपराध शाखा की टीम 15 अगस्त के मद्देनजर सेक्टर-43 स्थित जिला अदालत के पास गश्त कर रही थी। पुलिस को गुप्त सूचना मिली कि राकेश नाम का युवक सेक्टर-17 स्थित सर्कस ग्राउंड के पास आ रहा है, जिसके पास देसी कट्टा है। इसके बाद राकेश को सेक्टर-17 से देसी कट्टे के साथ गिरफ्तार कर लिया गया। पूछताछ में आरोपी ने बताया था कि उसने गैंगस्टर वीनित से देसी कट्टा खरीदा है। इसके बाद अपराध शाखा ने आरोपी के बारे में जानकारी जुटाई और उसे जीरकपुर से गिरफ्तार कर लिया।

कुख्यात गैंगस्टर मंजीत महाल की गैंग का सदस्य है विनीत

विनीत दिल्ली के गैंगस्टर मंजीत महाल की गैंग का सक्रिय सदस्य है। मंजीत दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में हत्या, डकैती और जबरन वसूली के मामलों में शामिल रहा है। विनीत का भाई अशोक गहलोत भी गैंगस्टर है। उस पर हत्या, जबरन वसूली और आर्म्स एक्ट के तहत 18 केस दर्ज हैं। वर्तमान में अशोक और मंजीत महाल मकोका धारा के तहत दिल्ली की मंडोली जेल में बंद है।

आरोपी बिजनौर में कॉन्ट्रेक्ट किलिंग में भी था शामिल

आरोपी विनीत ने वर्ष 2019 में पंचकूला के सेक्टर-20 में शोरूम में फाइनेंसर को लूटने के दौरान दीपक की हत्या कर दी थी। इसके अलावा आरोपी बिजनौर में बुलाकी की कॉन्ट्रेक्ट किलिंग में भी शामिल था। उसने वर्ष 2019 में बुलाकी की गोली मारकर हत्या कर दी थी।

पुलिस कर रही थी पीछा, गाड़ी पलटी, पिस्टल छोड़कर हुआ फरार

बिजनौर में वारदात को अंजाम देने के बाद यूपी पुलिस विनीत का पीछा कर रही थी। इस दौरान भागते समय उसकी जगुआर कार पलट गई थी। आरोपी गाड़ी में पिस्टल छोड़कर फरार हो गया था। उक्त मामले मेें आरोपी के खिलाफ पंचकूला में हत्या के प्रयास और आर्म्स एक्ट के तहत केस दर्ज हुआ था।

महीने में हासिल की दूसरी बड़ी कामयाबी

अपराध शाखा के इंस्पेक्टर सतविंदर सिंह के नेतृत्व में टीम ने महीने में दूसरी बड़ी कामयाबी हासिल की है। इससे पहले 6 जुलाई को टीम ने महंगी गाड़ियां चोरी कर नेपाल और बिहार में बेचने वाले अंतरराज्यीय वाहन चोर गिरोह को गिरफ्तार किया था। आरोपियों की निशानदेही पर पुलिस ने बिहार के मुजफ्फरपुर से आठ कारें बरामद की थीं। सतिंवदर के नेतृत्व में सब इंस्पेक्टर नीरज कुमार, एएअसई हरजिंदर, हवलदार दौलत राम, हवलदार संजय, वरिष्ठ सिपाही नीरज सिपाही संदीप, सिपाही जसबीर, सिपाही रविंदर बूरा, सिपाही रिंकू राम और सिपाही दीपकू सिंधू ने इन मामलों को सुलझाया है।

कोट्स

आरोपी विनीत हरियाणा और उत्तर प्रदेश में वांटेड था। रिमांड के दौरान आरोपी से पूछताछ की जा रही है कि उसने और कहां-कहां वारदातों को अंजाम दिया है। जांच की जा रही है कि उसने और किन किन लोगों को हथियार सप्लाई किए हैं।

– सतविंदर सिंह, इंस्पेक्टर अपराध शाखा।

.


करियाणा दुकानदार लापता, नहर किनारे में मिली बाइक और फोन

अब आधार से लिंक होगा वोटर कार्ड