हेलीकॉप्टर का टिकट बुक कराने के नाम पर ठगी


ख़बर सुनें

संवाद न्यूज एजेंसी
करनाल। धोखाधड़ी के दो मामले सामने आए हैं। वैष्णो देवी में हेलीकॉप्टर का टिकट बुक करने के नाम पर 15 हजार रुपये की धोखाधड़ी की गई, वहीं लोन दिलाने के बहाने 30 हजार रुपये लेकर आरोपी फरार हो गया। पुलिस ने दोनों मामलों में मामला दर्ज कर लिया है।
पुलिस को दी शिकायत में सेक्टर-6 निवासी अवधेश ने बताया कि वह अपनी पत्नी व दोनों बेटियों के साथ वैष्णो देवी के दर्शन के लिए योजना बना रहा था। उसने हेलीकॉप्टर से जाने के लिए ऑनलाइन बुकिंग देखी जिसमें 21 फरवरी को आरोपी विरू व अंकित वर्मा, आदित्य प्रकाश से बात हुई। इन्होंने उसका मोबाइल नंबर मांगा, उसी नंबर पर मैसेज आने लगे। अंकित ने हेलीकॉप्टर के बारे में बताया। इसके बाद चारों के आधार कार्ड मांगे और 6920 रुपये जमा कराने को कहा तो गुगल पे से रुपये जमा करा दिए।
इसके बाद उसने टिकट भेजकर कहा कि 8600 रुपये इंश्योरेंस के भी जमा कराने पड़ेंगे। ये रुपये वापस हो जाएंगे। आरोपियों ने 15520 रुपये जमा करा लिए। इसके बाद आरोपियों ने उसका नंबर ब्लॉक कर दिया। वहीं एसपी कॉलोनी निवासी चंद्रशेखर ने बताया कि लोन करवाने के लिए उसने धीरज नाम के व्यक्ति को आठ अक्तूबर को 30 हजार रुपये दो अलग-अलग खातों में फाइल लगवाने के लिए दिए थे। आरोपी ने उसके 30 हजार रुपये ठग लिए।

संवाद न्यूज एजेंसी

करनाल। धोखाधड़ी के दो मामले सामने आए हैं। वैष्णो देवी में हेलीकॉप्टर का टिकट बुक करने के नाम पर 15 हजार रुपये की धोखाधड़ी की गई, वहीं लोन दिलाने के बहाने 30 हजार रुपये लेकर आरोपी फरार हो गया। पुलिस ने दोनों मामलों में मामला दर्ज कर लिया है।

पुलिस को दी शिकायत में सेक्टर-6 निवासी अवधेश ने बताया कि वह अपनी पत्नी व दोनों बेटियों के साथ वैष्णो देवी के दर्शन के लिए योजना बना रहा था। उसने हेलीकॉप्टर से जाने के लिए ऑनलाइन बुकिंग देखी जिसमें 21 फरवरी को आरोपी विरू व अंकित वर्मा, आदित्य प्रकाश से बात हुई। इन्होंने उसका मोबाइल नंबर मांगा, उसी नंबर पर मैसेज आने लगे। अंकित ने हेलीकॉप्टर के बारे में बताया। इसके बाद चारों के आधार कार्ड मांगे और 6920 रुपये जमा कराने को कहा तो गुगल पे से रुपये जमा करा दिए।

इसके बाद उसने टिकट भेजकर कहा कि 8600 रुपये इंश्योरेंस के भी जमा कराने पड़ेंगे। ये रुपये वापस हो जाएंगे। आरोपियों ने 15520 रुपये जमा करा लिए। इसके बाद आरोपियों ने उसका नंबर ब्लॉक कर दिया। वहीं एसपी कॉलोनी निवासी चंद्रशेखर ने बताया कि लोन करवाने के लिए उसने धीरज नाम के व्यक्ति को आठ अक्तूबर को 30 हजार रुपये दो अलग-अलग खातों में फाइल लगवाने के लिए दिए थे। आरोपी ने उसके 30 हजार रुपये ठग लिए।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

एटीएम बदलकर मिल से सेवानिवृत कर्मी के खाते से उड़ाए 4.20 लाख रुपये

पुरुष बलशाली हो सकता है, लेकिन महिलाओं में आत्मशक्ति सबसे ज्यादा