सीएम गहलोत ने पीएम मोदी से पूछा- कोई दुश्मनी निभा रहे हैं क्या हम लोगों से?, जानें मामला


राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने पीएम मोदी पर बड़ा हमला बोला है। दिल्ली में मीडिया से बात करते हुए सीएम गहलोत ने कहा कि जिस परिवार ने सबकुछ दे दिया देश को, कभी उनके त्याग और बलिदान की बात की इन लोगों ने। एक शब्द आज तक प्रधानमंत्री के मुंह से नहीं निकला। गृहमंत्री ने नाम नहीं लिया। ये कोई दुश्मनी निभा रहे है क्या हम लोगों से। अगर हम लोग सत्ता में रहे लंबे समय तक तो त्याग-बलिदान के कारण रहे थे। हिंदुत्व के नाम पर भड़का रहे हैं। सत्ता में आ रहे हैं। चुनाव जीत रहे हैं। कोई बात नहीं जीत गए आप तो आज तक का इतिहास है कांग्रेस का उसके कारण आप जीते हो। अगर आज कांग्रेस 70 साल तक डेमोक्रेसी को कायम रखती तो पीएम मोदी कैसे प्रधानमंत्री बनते?

 ऊपर से आदेश आते हैं, ये तरीका गलत है

सीएम गहलोत ने कहा कि राहुल गांधी जी से पूछताछ 3 दिन तो हो चुकी है। मैं समझता हूं कि ओपन हैं वो तो, पर इस प्रकार के जो हालात देश में बन गए हैं, पूरा देश चिंतित है, ये राहुल गांधी का, सोनिया गांधी का सवाल नहीं है, ये सवाल है कि आप पूरे देश के अंदर कोई 1700 हुए होंगे इनके ईडी की कार्रवाइयां और 9 लोगों को सजाएं मिलीं उसके अंदर, जहां तक मुझे जानकारी मिली है, आप सोच सकते हो कि कितने लोग तंग आए हुए होंगे, कितने दुःखी होंगे, उनके परिवार वालों पर क्या बीती होगी, तो ये तरीका अच्छा है क्या? प्रीमियर एजेंसियां हैं सीबीआई, इनकम टैक्स, ये संस्थाएं हैं, इनको मजबूत करने का कर्त्तव्य हमारी सरकारों का है, पर जिस प्रकार का इंटरफेयरेंस हो रहा है, इनको आदेश दिए जा रहे हैं ऊपर से, उसी ढंग से बिहेव कर रहे हैं और ये बातें छनकर बाहर आ रही हैं, ऐसा नहीं है, ये अधिकारी भी तो इंसान ही होता है इनकम टैक्स का हो, चाहे वो ईडी का हो, चाहे वो सीबीआई के हों, तमाम अधिकारी छापे डालने जाते हैं, 7-7 दिन तक बाहर नहीं निकलते हैं, कहता है कि भई आपको यहां कुछ मिला ही नहीं है, क्यों बैठे हो? कहते हैं कि हमें ऊपर से आदेश आएंगे तब बाहर निकलेंगे, फिर 7 दिन वो क्या करेगा? गपशप करेगा वहां पर परिवारवालों से, मिलने वालों से, वो बताएगा कि क्या गड़बड़ पूरी है, ऊपर से आदेश आते हैं, ये तरीका गलत है। परसों कहा गया कि आप छापे डालिए, जबकि छापे डालने के पहले पूरी कार्रवाई होती है, जांच-पड़ताल होती है, रेकी होती है, असेसमेंट होता है कि भई क्या इनके यहां पर कैश मिलेगा कि नहीं मिलेगा, हो रहा है।

संबंधित खबरें

भाजपा को मुंह की खानी पड़ेगी 

सीएम ने कहा कि बुरे दौर का ये भी टाइम निकल जाएगा, इनको मुंह की खानी पड़ेगी, कुछ नहीं होने वाला है, कुछ नहीं होने वाला है। मैं समझता हूं कि आज नहीं तो कल इनको समझ में आएगी, अभी इनके मित्र लोग ऐसे ही होंगे या तो मोदी जी के और अमित शाह जी के जो नजदीकी जो सलाहकार हैं, वो ऐसे ही सलाहकार हैं जो कि सलाह दे नहीं पाते होंगे अच्छे ढंग से, या वो डरते होंगे, घबराते होंगे कि पता नहीं प्रधानमंत्री जी नाराज हो जाएंगे, तो हो सकता है कि उस कारण से वो कह नहीं पा रहे होंगे। पर जो जमीनी हकीकत है वो प्रधानमंत्री जी के कानों तक जानी चाहिए, उनके सलाहकार ही दे सकते हैं, और कोई दे नहीं सकता कि देश क्या सोच रहा है इन सब एजेंसियों के बारे में, जो आप लोग दुरुपयोग कर रहे हो। सोनिया गांधी जैसे, जो प्रधानमंत्री नहीं बनी हों देश की, प्रधानमंत्री नहीं बनने और बनने में रात-दिन का फर्क होता है, प्रधानमंत्री पद छोड़ दिया जिस महान नेता ने, उनको आपने नोटिस दिलवा दिया ईडी का? थोड़ी बहुत तो जो एजेंसी वालों को शर्म आनी चाहिए थी, वो कह सकते थे कि भई आप क्या करवा रहे हो हम लोगों से? पर कर दिया दबाव में क्योंकि उनको नौकरी करनी है बेचारों को।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

IND vs SA: ऋषभ पंत के नाम दर्ज हुआ अनोखा रिकॉर्ड, लगातार 5 T20I मैचों में टॉस हारने वाले पहले कप्तान

Team India on Ireland Tour: दौरे पर जाने से पहले खिलाड़ियों को मिला ब्रेक, आयरलैंड टूर के लिए बीसीसीआई ने बनाए नए नियम