साढ़े बारह करोड़ चावल का गबन, आरोपी राइस मिलर गिरफ्तार


ख़बर सुनें

संवाद न्यूज एजेंसी
करनाल। सरकार के 12.44 करोड़ रुपये के चावल का गबन करने के आरोपी राइस मिलर को आर्थिक अपराध शाखा की टीम ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी सीएचडी सिटी निवासी सुरेंद्र प्रकाश नारंग, मूल रूप से यमुनानगर के सरोजिनी कॉलोनी का निवासी है। आरोप है कि पुलिस से बचने के लिए वह हिमाचल के सोलन में छिपा था। पुलिस उसकी तलाश कर रही थी। सोलन से उसे पकड़कर करनाल लाया गया। शुक्रवार को आरोपी को अदालत में पेश कर रिमांड हासिल किया गया है। रिमांड के दौरान उससे पूछताछ की जाएगी। गबन किए गए चावल या नकदी को बरामद किया जाना है।
खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के निरीक्षक अशोक कुमार ने 25 अगस्त 2021 को पुलिस को शिकायत दी थी कि नीलोखेड़ी के संधीर रोड स्थित एवरग्रीन ओवरसीज सिल्की सोरटैक्स कंपनी के संचालकों ने धोखाधड़ी कर 29112.50 क्विंटल सरकारी चावल का गबन कर लिया। जिससे सरकार को 12 करोड़ 44 लाख 5 हजार 635 रुपये की वित्तीय हानि पहुंचाई थी। वर्ष 2020-21 में सीएमआर कार्य के लिए मिलर को 8197 मीट्रिक टन धान खाद्य विभाग की ओर से अलॉट किया गया था। जिसका 67 प्रतिशत के हिसाब से कुल 54 हजार 922.50 क्विंटल चावल भारतीय खाद्य निगम को वापस देना था। जिसमें उसे उक्त मिलर ने कुल 25810 क्विंटल चावल भारतीय खाद्य निगम को वापस दिया, जबकि शेष स्टॉक कुल 29112.50 क्विंटल देना बाकी रह गया था। 24 जून 2021 को भौतिक जांच के दौरान इस राइस मिल में स्टॉक शून्य पाया गया। जबकि मिल में 29112.50 क्विंटल चावल पाया जाना था। राइस मिल के तीनों पार्टनरों ने जानबूझकर सरकारी धान के स्थान पर प्रत्येक स्टॉक में बाहरी व ऊपरी सतह के दो लेयर व एक लेयर पश्चात छिलका, लकड़ी की चौखटें व खाली बारदाना भंडारित कर दिया। इस संबंध में आरोपियों के खिलाफ 26 अगस्त 2021 को बुटाना थाने में मामला दर्ज करवाया गया।
मामले की तफ्तीश एएसआई बहादुर सिंह आर्थिक अपराध शाखा करनाल को सौंपी गई। बृहस्पतिवार को गुप्त सूचना के आधार पर टीम ने सोलन में दबिश दी। पुलिस ने बताया कि पूछताछ में आरोपी ने खुलासा किया कि उसने अपने पार्टनरों के साथ मिलकर इस धोखाधड़ी को अंजाम दिया है। भौतिक जांच के दौरान बोरियों में भूसा, बुरादा व किनकी भर दी थी ताकि किसी को सरकार को उन पर संदेह न हो और उनकी मिल में स्टॉक पूरा मिले। आरोपी पुलिस की गिरफ्त से बचता हुआ हिमाचल के सोलन में रह रहा था।

संवाद न्यूज एजेंसी

करनाल। सरकार के 12.44 करोड़ रुपये के चावल का गबन करने के आरोपी राइस मिलर को आर्थिक अपराध शाखा की टीम ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी सीएचडी सिटी निवासी सुरेंद्र प्रकाश नारंग, मूल रूप से यमुनानगर के सरोजिनी कॉलोनी का निवासी है। आरोप है कि पुलिस से बचने के लिए वह हिमाचल के सोलन में छिपा था। पुलिस उसकी तलाश कर रही थी। सोलन से उसे पकड़कर करनाल लाया गया। शुक्रवार को आरोपी को अदालत में पेश कर रिमांड हासिल किया गया है। रिमांड के दौरान उससे पूछताछ की जाएगी। गबन किए गए चावल या नकदी को बरामद किया जाना है।

खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के निरीक्षक अशोक कुमार ने 25 अगस्त 2021 को पुलिस को शिकायत दी थी कि नीलोखेड़ी के संधीर रोड स्थित एवरग्रीन ओवरसीज सिल्की सोरटैक्स कंपनी के संचालकों ने धोखाधड़ी कर 29112.50 क्विंटल सरकारी चावल का गबन कर लिया। जिससे सरकार को 12 करोड़ 44 लाख 5 हजार 635 रुपये की वित्तीय हानि पहुंचाई थी। वर्ष 2020-21 में सीएमआर कार्य के लिए मिलर को 8197 मीट्रिक टन धान खाद्य विभाग की ओर से अलॉट किया गया था। जिसका 67 प्रतिशत के हिसाब से कुल 54 हजार 922.50 क्विंटल चावल भारतीय खाद्य निगम को वापस देना था। जिसमें उसे उक्त मिलर ने कुल 25810 क्विंटल चावल भारतीय खाद्य निगम को वापस दिया, जबकि शेष स्टॉक कुल 29112.50 क्विंटल देना बाकी रह गया था। 24 जून 2021 को भौतिक जांच के दौरान इस राइस मिल में स्टॉक शून्य पाया गया। जबकि मिल में 29112.50 क्विंटल चावल पाया जाना था। राइस मिल के तीनों पार्टनरों ने जानबूझकर सरकारी धान के स्थान पर प्रत्येक स्टॉक में बाहरी व ऊपरी सतह के दो लेयर व एक लेयर पश्चात छिलका, लकड़ी की चौखटें व खाली बारदाना भंडारित कर दिया। इस संबंध में आरोपियों के खिलाफ 26 अगस्त 2021 को बुटाना थाने में मामला दर्ज करवाया गया।

मामले की तफ्तीश एएसआई बहादुर सिंह आर्थिक अपराध शाखा करनाल को सौंपी गई। बृहस्पतिवार को गुप्त सूचना के आधार पर टीम ने सोलन में दबिश दी। पुलिस ने बताया कि पूछताछ में आरोपी ने खुलासा किया कि उसने अपने पार्टनरों के साथ मिलकर इस धोखाधड़ी को अंजाम दिया है। भौतिक जांच के दौरान बोरियों में भूसा, बुरादा व किनकी भर दी थी ताकि किसी को सरकार को उन पर संदेह न हो और उनकी मिल में स्टॉक पूरा मिले। आरोपी पुलिस की गिरफ्त से बचता हुआ हिमाचल के सोलन में रह रहा था।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

बेटियों ने लहराया परचम, 8.62 फीसदी ज्यादा परिणाम

यमुना एनक्लेव में 400 परिवारों को दिया अल्टीमेटम