in

साक्षी के पिता बोले – छोरी नै बर्मिंघम म्ह जम्मा लट्ठ गाड़ दिया


ख़बर सुनें

साक्षी मलिक के स्वर्ण पदक जीतते ही माता-पिता बेटी की उपलब्धि पर नाचने लगे। भावुकता के कारण भाई सचिन की आंखों से खुशी के आंसू निकल आए। पांच साल का भतीजा दिवित अपनी बुआ साक्षी का मैच टीवी पर देखते हुए जोर-जोर से बोल रहा था कि बुआ गोल्ड जीतना है।
बर्मिंघम में खेले जा रहे राष्ट्रमंडल खेलों में वीरवार को महिलाओं के 62 किलोग्राम भारवर्ग में स्वर्ण पदक जीतने पर साक्षी मलिक के घर सभी झूमते नजर आए। परिजन शाम से ही टीवी के सामने बैठकर पूरा ध्यान स्क्रीन पर लगाए हुए था। जैसे ही साक्षी ने मैच जीता तो सभी खुशी से झूमने लगे। साक्षी ने फाइनल में कनाडा की खिलाड़ी एना गोंजालेज को बायफाल हराया तो पिता ने झूमते हुए हरियाणवी लहजे में कहा कि छोरी नै बर्मिंघम म्ह जम्मा लट्ठ गाड़ दिया। मां-बाप ने बेटी की उपलब्धि पर गर्व जताते हुए कहा साक्षी ओलंपिक में भी गोल्ड जीतेगी। संवाद
मैच खत्म होने के 15 मिनट बाद मां के पास आई वीडियो कॉल
रात 11:12 बजे मां सुदेश मलिक के पास साक्षी मलिक ने वीडियो कॉल की। जश्न में मशगूल सभी परिजन साक्षी को बधाइयां देने लगे। साक्षी ने मां से कहा कि अब बस ओलंपिक में पदक का रंग बदल कर गोल्ड लेकर आना बाकी है।
आधी रात को घर पर लगा बधाई देने वालों का तांता
स्वर्ण पदक जीतते ही साक्षी मलिक के सेक्टर 4 स्थित घर पर आधी रात को ही बधाई देने वालों का तांता लग गया। देर रात तक परिचित व आस पड़ोस के लोग बेटी की उपलब्धि पर माता-पिता व अन्य परिजनों को बधाइयां देने आते रहे। बधाई देने वाले लोगों को परिजनों ने मिठाइयां खिलाकर खुशी जाहिर की।
जीत की खुशी में घर वालों ने की आतिशबाजी
जीत की खुशी परिजनों ने मिठाइयां बांटकर व गली में आतिशबाजी करके मनाई। माता-पिता, भाई व अन्य परिजन फुलझड़ी जलाकर खुशी मनाते दिखे। जीत से खुश परिजनों ने रात को पटाखे भी फोड़े।
भव्य बिश्नोई ने व्हाट्सएप संदेश से दी बधाई
साक्षी की जीत पर बधाई देने के लिए मां सुदेश के पास रात 11.07 बजे भव्य बिश्नोई का व्हाट्सएप पर संदेश आया। उन्होंने शुभकामनाएं देते हुए कहा कि साक्षी की जीत पर देश को गर्व है।

साक्षी मलिक के स्वर्ण पदक जीतते ही माता-पिता बेटी की उपलब्धि पर नाचने लगे। भावुकता के कारण भाई सचिन की आंखों से खुशी के आंसू निकल आए। पांच साल का भतीजा दिवित अपनी बुआ साक्षी का मैच टीवी पर देखते हुए जोर-जोर से बोल रहा था कि बुआ गोल्ड जीतना है।

बर्मिंघम में खेले जा रहे राष्ट्रमंडल खेलों में वीरवार को महिलाओं के 62 किलोग्राम भारवर्ग में स्वर्ण पदक जीतने पर साक्षी मलिक के घर सभी झूमते नजर आए। परिजन शाम से ही टीवी के सामने बैठकर पूरा ध्यान स्क्रीन पर लगाए हुए था। जैसे ही साक्षी ने मैच जीता तो सभी खुशी से झूमने लगे। साक्षी ने फाइनल में कनाडा की खिलाड़ी एना गोंजालेज को बायफाल हराया तो पिता ने झूमते हुए हरियाणवी लहजे में कहा कि छोरी नै बर्मिंघम म्ह जम्मा लट्ठ गाड़ दिया। मां-बाप ने बेटी की उपलब्धि पर गर्व जताते हुए कहा साक्षी ओलंपिक में भी गोल्ड जीतेगी। संवाद

मैच खत्म होने के 15 मिनट बाद मां के पास आई वीडियो कॉल

रात 11:12 बजे मां सुदेश मलिक के पास साक्षी मलिक ने वीडियो कॉल की। जश्न में मशगूल सभी परिजन साक्षी को बधाइयां देने लगे। साक्षी ने मां से कहा कि अब बस ओलंपिक में पदक का रंग बदल कर गोल्ड लेकर आना बाकी है।

आधी रात को घर पर लगा बधाई देने वालों का तांता

स्वर्ण पदक जीतते ही साक्षी मलिक के सेक्टर 4 स्थित घर पर आधी रात को ही बधाई देने वालों का तांता लग गया। देर रात तक परिचित व आस पड़ोस के लोग बेटी की उपलब्धि पर माता-पिता व अन्य परिजनों को बधाइयां देने आते रहे। बधाई देने वाले लोगों को परिजनों ने मिठाइयां खिलाकर खुशी जाहिर की।

जीत की खुशी में घर वालों ने की आतिशबाजी

जीत की खुशी परिजनों ने मिठाइयां बांटकर व गली में आतिशबाजी करके मनाई। माता-पिता, भाई व अन्य परिजन फुलझड़ी जलाकर खुशी मनाते दिखे। जीत से खुश परिजनों ने रात को पटाखे भी फोड़े।

भव्य बिश्नोई ने व्हाट्सएप संदेश से दी बधाई

साक्षी की जीत पर बधाई देने के लिए मां सुदेश के पास रात 11.07 बजे भव्य बिश्नोई का व्हाट्सएप पर संदेश आया। उन्होंने शुभकामनाएं देते हुए कहा कि साक्षी की जीत पर देश को गर्व है।

.


महंगाई के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सरकार के खिलाफ किया विरोध प्रदर्शन

टिटौली में रिकवरी मैन को मारी गोली, गंभीर हालत में पीजीआई में दाखिल