in

संयुक्त किसान मोर्चा के सदस्यों ने किया प्रदर्शन, नगराधीश को सौंपा मांगपत्र


ख़बर सुनें

सोनीपत। संयुक्त किसान मोर्चा की जिला कमेटी के सदस्य सोमवार को लघु सचिवालय पहुंचे। उन्होंने केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर कमेटी बनाने और पिछले सप्ताह आंधी में किसानों को हुए नुकसान की भरपाई के लिए मांग की। इस दौरान उन्होंने नगराधीश डॉ. अनमोल को राष्ट्रपति के नाम अपना मांगपत्र भी सौपाई।
भारतीय किसान यूनियन (अंबावता) से डॉ. राजेश दहिया ने कहा कि केंद्र सरकार की ओर से अभी तक एमएसपी पर कमेटी नहीं बनाई है। संयुक्त किसान मोर्चा की सरकार के साथ 9 नवंबर 2021 को हुए समझौते को लागू नहीं किया गया है जिससे किसानों में सरकार के खिलाफ रोष बना हुआ है। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली को ठीक ढंग से नहीं चला जा रहा है। बिजली निगम का बड़े पैमाने पर निजीकरण किया जा रहा है और स्मार्ट मीटर लगने के बाद ज्यादा राशि के बिल आने शुरू हो गए हैं। साथ ही प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के नाम से किसानों को ठगा जा रहा है और नाममात्र का मुआवजा मिल रहा है। किसानों ने प्राकृतिक नुकसान पर मुआवजा मिलने की मांग उठाई। इस दौरान ऑल इंडिया किसान महासभा से प्रेम सिंह गहलावत, ऑल इंडिया किसान सभा के श्रद्धानंद सोलंकी, ऑल इंडिया किसान खेत मजदूर संगठन के ईश्वर सिंह दहिया, जयकरण दहिया, भारतीय किसान यूनियन हरियाणा अध्यक्ष ब्रह्म सिंह दहिया, वेदप्रकाश भारतीय किसान नौजवान यूनियन के बिजेंद्र दहिया आदि मौजूद रहे।

सोनीपत। संयुक्त किसान मोर्चा की जिला कमेटी के सदस्य सोमवार को लघु सचिवालय पहुंचे। उन्होंने केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर कमेटी बनाने और पिछले सप्ताह आंधी में किसानों को हुए नुकसान की भरपाई के लिए मांग की। इस दौरान उन्होंने नगराधीश डॉ. अनमोल को राष्ट्रपति के नाम अपना मांगपत्र भी सौपाई।

भारतीय किसान यूनियन (अंबावता) से डॉ. राजेश दहिया ने कहा कि केंद्र सरकार की ओर से अभी तक एमएसपी पर कमेटी नहीं बनाई है। संयुक्त किसान मोर्चा की सरकार के साथ 9 नवंबर 2021 को हुए समझौते को लागू नहीं किया गया है जिससे किसानों में सरकार के खिलाफ रोष बना हुआ है। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली को ठीक ढंग से नहीं चला जा रहा है। बिजली निगम का बड़े पैमाने पर निजीकरण किया जा रहा है और स्मार्ट मीटर लगने के बाद ज्यादा राशि के बिल आने शुरू हो गए हैं। साथ ही प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के नाम से किसानों को ठगा जा रहा है और नाममात्र का मुआवजा मिल रहा है। किसानों ने प्राकृतिक नुकसान पर मुआवजा मिलने की मांग उठाई। इस दौरान ऑल इंडिया किसान महासभा से प्रेम सिंह गहलावत, ऑल इंडिया किसान सभा के श्रद्धानंद सोलंकी, ऑल इंडिया किसान खेत मजदूर संगठन के ईश्वर सिंह दहिया, जयकरण दहिया, भारतीय किसान यूनियन हरियाणा अध्यक्ष ब्रह्म सिंह दहिया, वेदप्रकाश भारतीय किसान नौजवान यूनियन के बिजेंद्र दहिया आदि मौजूद रहे।

.


Chandigarh Burail Jail: बुड़ैल जेल के पीछे बम मिलने की एनआईए ने शुरू की जांच, मामले में दर्ज की गई नई एफआईआर

महिला साइक्लिस्ट ने भारतीय कोच पर लगाया ‘गलत व्यवहार’ का आरोप, SAI ने शुरू की मामले की जांच