संगीत की आवाज तेज होने के विवाद में दिव्यांग की गला घोंटकर हत्या


ख़बर सुनें

पानीपत। गोपाल कॉलोनी में तेज आवाज में संगीत सुनने के विवाद में पड़ोसियों ने दिव्यांग की गला घोंटकर हत्या कर दी। गत मंगलवार को दिव्यांग और उसका मूकबधिर बड़ा भाई घर पर संगीत सुन रहे थे। इस दौरान पड़ोसी घर में घुस आए और संगीत की आवाज धीमी करने की बात कहकर मारपीट करने लगे। मारपीट के कारण मूकबधिर बड़ा भाई घर से भाग निकला। बुधवार रात करीब आठ बजे घर लौटा तो छोटा भाई मृत मिला। उसके गले पर चोट के निशान थे। पुराना औद्योगिक थाना पुलिस ने पड़ोसी दंपती और उनके तीन बेटों के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।
मूलरूप से गांव नारा निवासी महावीर ने बताया कि वह तीन भाइयों में सबसे बड़ा है। इन दिनों बत्रा कॉलोनी में रहता है और उसकी दूध की डेयरी है। उसका मंझला भाई प्रदीप मूकबधिर और सबसे छोटा भाई रविंद्र (32) दिव्यांग है। दोनों गोपाल कॉलोनी स्थित मकान में मां चंद्रवती के साथ रहते हैं। उसकी मां बुआ के घर गई थी। 14 जून को रविंद्र और प्रदीप घर पर संगीत सुन रहे थे। इसी बीच पड़ोसी बलकार, उसकी पत्नी, बेटे राजू, बिंद्र एवं गोपी और उनकी पत्नियां घर में जबरन घुस गए। उन्होंने रविंद्र से संगीत की आवाज कम करने के लिए कहा। आवाज कम करने के बावजूद आरोपियों ने दोनों भाइयों के साथ मारपीट शुरू कर दी। इसी बीच मूकबधिर बड़ा भाई प्रदीप वहां से भाग निकला। 15 जून की शाम करीब साढ़े सात बजे प्रदीप घर लौटा तो रविंद्र दरवाजे के पास जमीन पर खून से लथपथ पड़ा था। उसके गले पर चोट के निशान थे। प्रदीप और पड़ोसियों की सूचना पर वह मौके पर पहुंचा और पुलिस बुलाई।
दरवाजे और चारपाई तक तोड़े
महावीर ने बताया कि आरोपियों ने भाइयों को पीटने के साथ ही घर में तोड़फोड़ की। दरवाजे तोड़ दिए और छत पर चारपाई टूटी मिली। मृतक रविंद्र ने करीब छह साल पहले एक्सीडेंट में पैर गवां दिए थे। पिता की 11 साल पहले बीमारी से मौत हो चुकी है।
एफएसएल ने किया निरीक्षण, घर से बरामद किया खून से सना कपड़ा
पुराना औद्योगिक थाना प्रभारी इंस्पेक्टर बलराज सिंह मौके पर पहुंचे। इसके अलावा एफएसएल टीम को भी मौके पर बुलाया गया। घर की जांच की तो सीढ़ियों के नीचे से पुलिस ने एक कपड़ा बरामद किया, जो खून से सना हुआ था। आशंका है कि इसी कपड़े से रविंद्र की गला घोंटकर हत्या की गई है।
पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनों को सौंप दिया गया है। मृतक के बड़े भाई के बयान पर पड़ोसी बलकार, उसकी पत्नी और तीनों बेटों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है, मामले की जांच शुरू कर दी है। जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार किया जाएगा।
– बलराज सिंह, पुराना औद्योगिक थाना प्रभारी

पानीपत। गोपाल कॉलोनी में तेज आवाज में संगीत सुनने के विवाद में पड़ोसियों ने दिव्यांग की गला घोंटकर हत्या कर दी। गत मंगलवार को दिव्यांग और उसका मूकबधिर बड़ा भाई घर पर संगीत सुन रहे थे। इस दौरान पड़ोसी घर में घुस आए और संगीत की आवाज धीमी करने की बात कहकर मारपीट करने लगे। मारपीट के कारण मूकबधिर बड़ा भाई घर से भाग निकला। बुधवार रात करीब आठ बजे घर लौटा तो छोटा भाई मृत मिला। उसके गले पर चोट के निशान थे। पुराना औद्योगिक थाना पुलिस ने पड़ोसी दंपती और उनके तीन बेटों के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।

मूलरूप से गांव नारा निवासी महावीर ने बताया कि वह तीन भाइयों में सबसे बड़ा है। इन दिनों बत्रा कॉलोनी में रहता है और उसकी दूध की डेयरी है। उसका मंझला भाई प्रदीप मूकबधिर और सबसे छोटा भाई रविंद्र (32) दिव्यांग है। दोनों गोपाल कॉलोनी स्थित मकान में मां चंद्रवती के साथ रहते हैं। उसकी मां बुआ के घर गई थी। 14 जून को रविंद्र और प्रदीप घर पर संगीत सुन रहे थे। इसी बीच पड़ोसी बलकार, उसकी पत्नी, बेटे राजू, बिंद्र एवं गोपी और उनकी पत्नियां घर में जबरन घुस गए। उन्होंने रविंद्र से संगीत की आवाज कम करने के लिए कहा। आवाज कम करने के बावजूद आरोपियों ने दोनों भाइयों के साथ मारपीट शुरू कर दी। इसी बीच मूकबधिर बड़ा भाई प्रदीप वहां से भाग निकला। 15 जून की शाम करीब साढ़े सात बजे प्रदीप घर लौटा तो रविंद्र दरवाजे के पास जमीन पर खून से लथपथ पड़ा था। उसके गले पर चोट के निशान थे। प्रदीप और पड़ोसियों की सूचना पर वह मौके पर पहुंचा और पुलिस बुलाई।

दरवाजे और चारपाई तक तोड़े

महावीर ने बताया कि आरोपियों ने भाइयों को पीटने के साथ ही घर में तोड़फोड़ की। दरवाजे तोड़ दिए और छत पर चारपाई टूटी मिली। मृतक रविंद्र ने करीब छह साल पहले एक्सीडेंट में पैर गवां दिए थे। पिता की 11 साल पहले बीमारी से मौत हो चुकी है।

एफएसएल ने किया निरीक्षण, घर से बरामद किया खून से सना कपड़ा

पुराना औद्योगिक थाना प्रभारी इंस्पेक्टर बलराज सिंह मौके पर पहुंचे। इसके अलावा एफएसएल टीम को भी मौके पर बुलाया गया। घर की जांच की तो सीढ़ियों के नीचे से पुलिस ने एक कपड़ा बरामद किया, जो खून से सना हुआ था। आशंका है कि इसी कपड़े से रविंद्र की गला घोंटकर हत्या की गई है।

पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनों को सौंप दिया गया है। मृतक के बड़े भाई के बयान पर पड़ोसी बलकार, उसकी पत्नी और तीनों बेटों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है, मामले की जांच शुरू कर दी है। जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार किया जाएगा।

– बलराज सिंह, पुराना औद्योगिक थाना प्रभारी

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

उफ! मौसम की मार और बसों का इंतजार

गर्मी से सूख रहे हलक, बस अड्डों पर पीने को पानी नहीं