शिकायत करने के 14 माह बाद हुई कार्रवाई, नप ने तुड़वाया रैंप


ख़बर सुनें

शहर में सड़कों पर अवैध रूप से बने रैंपों के कारण गलियां व सड़कें संकरी हो चुकी हैं। इनसे संबंधित शिकायतें लगातार नगर परिषद के पास जाती रहती हैं, जोकि दफ्तर में ही धूप फांकती रहती हैं। कई-कई माह बीत जाने पर भी कार्रवाई नहीं होती है। ऐसी ही एक शिकायत 14 माह पहले शांति नगर में अवैध रूप से बने एक रैंप को तुड़वाने के लिए नगर परिषद में पास आई थी, जिस पर अब कहीं जाकर अधिकारियों ने संज्ञान लिया है।
कार्रवाई करने के लिए नप की टीम वीरवार को मौके पर पहुंची और पुलिस को साथ लेकर ड्यूटी मजिस्ट्रेट के सामने जेसीबी से उस रैंप को उखड़वाया। इस दौरान मकान मालिक व आसपास के लोग मौके पर एकत्रित हो गए। मौके पर मौजूद नप की टीम में एक्सईएन सुरेंद्र, सीएसआई रूप रविंद्र बिश्नोई व अन्य ने लोगों को समझाया।
बता दें कि शांति नगर वासी कृष्णा देवी ने गली में अवैध रूप से रैंप निर्माण को लेकर 23 अप्रैल 2021 को नगर परिषद में शिकायत की थी। इसके बाद 7 मई, 21 मई व 17 जून को दोबारा कार्रवाई के लिए पत्र लिखा। जब कोई कार्रवाई नहीं हुई तो 25 अगस्त 2021 को कार्रवाई की रिपोर्ट बारे आरटीआई लगाकर सूचना मांगी। नगर परिषद के अधिकारियों ने सूचना नहीं दी। इसके बाद 29 अगस्त को उपायुक्त को लिखित में पूरे मामले के बारे में बताया गया, लेकिन फिर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई।
इसके बाद भी जब नप अधिकारियों ने उनकी नहीं सुनी तो 14 सितंबर को सीएम विंडो पर शिकायत की गई। सीएम विंडो की ओर से कई बार रिमाइंडर दिया गया, लेकिन अधिकारियों ने फिर भी कार्रवाई नहीं। इसके बाद 30 जनवरी 2022 को आखिरी रिमाइंडर भेजा गया। इसके साथ-साथ कृष्णा देवी ने जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सचिव व हरियाणा राज्य जिला विविध सेवा प्राधिकरण को भी शिकायत भेजी। सचिव ने सात मई 2021 और 10 अगस्त 2021 को अवैध कब्जा हटवाने के लिए लिखा। इसके बाद सचिव ने 09 दिसंबर, 2021 को सात दिन में कार्रवाई करने के आदेश दिए। इसके बाद 22 फरवरी, 2022 को प्राधिकरण सचिव ने इस मामले में सख्त कार्रवाई करने को कहा, लेकिन काम फिर नहीं हुआ। इसके बाद शिकायतकर्ता ने फिर से उपायुक्त के समक्ष गुहार लगाई। अब जून में जाकर इस शिकायत पर कार्रवाई हुई है।
नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी बलबीर रोहिल्ला ने कहा कि उन्होंने शिकायत आने पर पहले भी कई बार कार्रवाई का प्रयास किया, लेकिन कभी पुलिस नहीं साथ होती या कभी अधिकारियों के फील्ड में रहने से कार्रवाई नहीं हो पाई थी। नप द्वारा जिस घर के आगे रैंप बना हुआ था उसके मालिक को कई बार नोटिस जारी किया जा चुका था। वीरवार को टीम ने जाकर उस रैंप को उखड़वा दिया है।

शहर में सड़कों पर अवैध रूप से बने रैंपों के कारण गलियां व सड़कें संकरी हो चुकी हैं। इनसे संबंधित शिकायतें लगातार नगर परिषद के पास जाती रहती हैं, जोकि दफ्तर में ही धूप फांकती रहती हैं। कई-कई माह बीत जाने पर भी कार्रवाई नहीं होती है। ऐसी ही एक शिकायत 14 माह पहले शांति नगर में अवैध रूप से बने एक रैंप को तुड़वाने के लिए नगर परिषद में पास आई थी, जिस पर अब कहीं जाकर अधिकारियों ने संज्ञान लिया है।

कार्रवाई करने के लिए नप की टीम वीरवार को मौके पर पहुंची और पुलिस को साथ लेकर ड्यूटी मजिस्ट्रेट के सामने जेसीबी से उस रैंप को उखड़वाया। इस दौरान मकान मालिक व आसपास के लोग मौके पर एकत्रित हो गए। मौके पर मौजूद नप की टीम में एक्सईएन सुरेंद्र, सीएसआई रूप रविंद्र बिश्नोई व अन्य ने लोगों को समझाया।

बता दें कि शांति नगर वासी कृष्णा देवी ने गली में अवैध रूप से रैंप निर्माण को लेकर 23 अप्रैल 2021 को नगर परिषद में शिकायत की थी। इसके बाद 7 मई, 21 मई व 17 जून को दोबारा कार्रवाई के लिए पत्र लिखा। जब कोई कार्रवाई नहीं हुई तो 25 अगस्त 2021 को कार्रवाई की रिपोर्ट बारे आरटीआई लगाकर सूचना मांगी। नगर परिषद के अधिकारियों ने सूचना नहीं दी। इसके बाद 29 अगस्त को उपायुक्त को लिखित में पूरे मामले के बारे में बताया गया, लेकिन फिर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई।

इसके बाद भी जब नप अधिकारियों ने उनकी नहीं सुनी तो 14 सितंबर को सीएम विंडो पर शिकायत की गई। सीएम विंडो की ओर से कई बार रिमाइंडर दिया गया, लेकिन अधिकारियों ने फिर भी कार्रवाई नहीं। इसके बाद 30 जनवरी 2022 को आखिरी रिमाइंडर भेजा गया। इसके साथ-साथ कृष्णा देवी ने जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सचिव व हरियाणा राज्य जिला विविध सेवा प्राधिकरण को भी शिकायत भेजी। सचिव ने सात मई 2021 और 10 अगस्त 2021 को अवैध कब्जा हटवाने के लिए लिखा। इसके बाद सचिव ने 09 दिसंबर, 2021 को सात दिन में कार्रवाई करने के आदेश दिए। इसके बाद 22 फरवरी, 2022 को प्राधिकरण सचिव ने इस मामले में सख्त कार्रवाई करने को कहा, लेकिन काम फिर नहीं हुआ। इसके बाद शिकायतकर्ता ने फिर से उपायुक्त के समक्ष गुहार लगाई। अब जून में जाकर इस शिकायत पर कार्रवाई हुई है।

नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी बलबीर रोहिल्ला ने कहा कि उन्होंने शिकायत आने पर पहले भी कई बार कार्रवाई का प्रयास किया, लेकिन कभी पुलिस नहीं साथ होती या कभी अधिकारियों के फील्ड में रहने से कार्रवाई नहीं हो पाई थी। नप द्वारा जिस घर के आगे रैंप बना हुआ था उसके मालिक को कई बार नोटिस जारी किया जा चुका था। वीरवार को टीम ने जाकर उस रैंप को उखड़वा दिया है।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

पीएनजी 64 रुपये प्रति एचसीएम हुई, उद्यमियों की बढ़ी चिंता

निगम के गोताखोर रक्षक बनने के साथ प्रदेश स्तरीय तैराकी और नाविक प्रतियोगिता में भी अव्वल