शहर में छापामारी कर 16 बच्चों को बाल श्रम से कराया मुक्त


ख़बर सुनें

सहायक श्रम आयुक्त नरेंद्र कुमारी के नेतृत्व में बुधवार को शहर में छापा मारकर विभिन्न प्रतिष्ठानों में बाल श्रम के मामले पकड़े गए हैं। कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रंस फाउंडेशन व एमडीडी ऑफ इंडिया संस्था की ओर से चलाए जा रहे ‘न्याय तक पहुंच’ प्रोजेक्ट के तहत संयुक्त टीम ने शहर में अलग-अलग जगहों पर बाल मजदूरी कर रहे बच्चों की पहचान की। इसके तहत ऑटोमोबाइल वर्कशॉप सहित अन्य जगहों से 16 बच्चों को मुक्त करवाया गया।
बाल श्रम के मामले पकड़ने के लिए सहायक श्रम आयुक्त के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया। जिसमें बाल कल्याण समिति की सदस्य निरूपमा, रोहतास वर्मा, जिला बाल संरक्षण इकाई से गुरमति, प्रदीप श्योराण, चाइल्ड हेल्पलाइन से सरोज, सुमन, एएसआई नमन अहलावत, पूर्व सीडब्ल्यूसी अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह मान, एमडीडी ऑफ इंडिया संस्था करनाल इकाई के कानूनी अधिकारी राम पंडित, रामेश्वर दास, रामफल, बचपन बचाओ आंदोलन के राज्य समन्वयक गजेंद्र नौटियाल व पुनीत शर्मा शामिल थे।
टीम ने सेक्टर चार ट्रक यूनियन, गोशाला रोड, पुरानी अनाज मंडी व मीरा घाटी से पुरानी अनाज मंडी के स्थानों पर निरीक्षण कर बच्चों को बाल मजदूरी करते हुए पाया था। जिसके बाद ही इस कार्रवाई को अंजाम दिया गया। टीम की ओर से बाल श्रम में लिप्त लोगों पर केस दर्ज करने की प्रक्रिया जारी है।
एमडीडी ऑफ इंडिया करनाल संस्था के अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह मान ने कहा कि कोरोना काल में बच्चों की ट्रैफिकिंग और बाल श्रम बढ़ा है। इस कदम से बाल मजदूरी को रोकने व बच्चों के भविष्य को संवारने के प्रयासों को बल मिलेगा।

सहायक श्रम आयुक्त नरेंद्र कुमारी के नेतृत्व में बुधवार को शहर में छापा मारकर विभिन्न प्रतिष्ठानों में बाल श्रम के मामले पकड़े गए हैं। कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रंस फाउंडेशन व एमडीडी ऑफ इंडिया संस्था की ओर से चलाए जा रहे ‘न्याय तक पहुंच’ प्रोजेक्ट के तहत संयुक्त टीम ने शहर में अलग-अलग जगहों पर बाल मजदूरी कर रहे बच्चों की पहचान की। इसके तहत ऑटोमोबाइल वर्कशॉप सहित अन्य जगहों से 16 बच्चों को मुक्त करवाया गया।

बाल श्रम के मामले पकड़ने के लिए सहायक श्रम आयुक्त के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया। जिसमें बाल कल्याण समिति की सदस्य निरूपमा, रोहतास वर्मा, जिला बाल संरक्षण इकाई से गुरमति, प्रदीप श्योराण, चाइल्ड हेल्पलाइन से सरोज, सुमन, एएसआई नमन अहलावत, पूर्व सीडब्ल्यूसी अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह मान, एमडीडी ऑफ इंडिया संस्था करनाल इकाई के कानूनी अधिकारी राम पंडित, रामेश्वर दास, रामफल, बचपन बचाओ आंदोलन के राज्य समन्वयक गजेंद्र नौटियाल व पुनीत शर्मा शामिल थे।

टीम ने सेक्टर चार ट्रक यूनियन, गोशाला रोड, पुरानी अनाज मंडी व मीरा घाटी से पुरानी अनाज मंडी के स्थानों पर निरीक्षण कर बच्चों को बाल मजदूरी करते हुए पाया था। जिसके बाद ही इस कार्रवाई को अंजाम दिया गया। टीम की ओर से बाल श्रम में लिप्त लोगों पर केस दर्ज करने की प्रक्रिया जारी है।

एमडीडी ऑफ इंडिया करनाल संस्था के अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह मान ने कहा कि कोरोना काल में बच्चों की ट्रैफिकिंग और बाल श्रम बढ़ा है। इस कदम से बाल मजदूरी को रोकने व बच्चों के भविष्य को संवारने के प्रयासों को बल मिलेगा।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

सोने का हार और 20 हजार नकदी चोरी

Haryana Weather: आज से मौसम शुष्क, 29 जून को प्रदेश में मानसून आने की संभावना