in

विवाहिता ने सास, ससुर पति पर लगाया जलाने का आरोप, पुलिस कर रही जांच


ख़बर सुनें

विवाहिता ने सास, ससुर और पति पर लगाया जलाने का आरोप
पुलिस ने मामला दर्ज कर शुरू की जांच, 23 मई का है मामला
अमर उजाला ब्यूरो
गुरुग्राम। पलड़ा गांव निवासी एक विवाहिता ने सास, ससुर और पति पर उसे जलाने का आरोप लगाया है। पुलिस ने मामला दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।
पलड़ा गांव निवासी 33 साल की सोनिया ने बताया कि वर्ष 2011 में उसकी शादी भोडा कलां निवासी सोनू से हुई थी। उनका एक बेटा भी है। शादी के बाद से ही ससुराल वाले उसे परेशान करने लगे। उसके माता-पिता पर दबाव बनाया जाता कि वो अपना 250 गज का निजी प्लॉट सोनिया के नाम कर दें। आरोप है कि 23 मई को वो अपने बेडरूम में थी, तभी सास ने बुलाया। कुछ समझ पाती इससे पहले ही सास-ससुर ने जोर से पकड़ लिया और पति ने बोतल से उस पर पेट्रोल डाल दिया। इसी बीच सास ने माचिस की तीली जलाकर उसकी साड़ी पर फेंक दी, जिससे आग लग गई। बचने के लिए उसने साड़ी उतारकर फेंक दी और बाहर भागी तो मोहल्ले के लोगों ने उसको बचाया।
इसके बाद उसे इलाज के लिए सेक्टर-10 स्थित नागरिक अस्पताल ले जाया गया। जहां से उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल रेफर कर दिया गया। अब पीड़ित वहीं उपचाराधीन है। बिलासपुर थाना पुलिस बयान लेने दिल्ली सफदरजंग अस्पताल पहुंची तो डॉक्टरों ने बताया कि उसे ओपीडी में इलाज के बाद घर भेज दिया गया है। पुलिस ने कई बार बयान लेने का प्रयास किया। तीन जुलाई को पीड़ित ने बयान दिया तो एफआईआर दर्ज हुई। एसएचओ इंस्पेक्टर अजय ने बताया कि आरोपों पर जांच चल रही है।

विवाहिता ने सास, ससुर और पति पर लगाया जलाने का आरोप

पुलिस ने मामला दर्ज कर शुरू की जांच, 23 मई का है मामला

अमर उजाला ब्यूरो

गुरुग्राम। पलड़ा गांव निवासी एक विवाहिता ने सास, ससुर और पति पर उसे जलाने का आरोप लगाया है। पुलिस ने मामला दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

पलड़ा गांव निवासी 33 साल की सोनिया ने बताया कि वर्ष 2011 में उसकी शादी भोडा कलां निवासी सोनू से हुई थी। उनका एक बेटा भी है। शादी के बाद से ही ससुराल वाले उसे परेशान करने लगे। उसके माता-पिता पर दबाव बनाया जाता कि वो अपना 250 गज का निजी प्लॉट सोनिया के नाम कर दें। आरोप है कि 23 मई को वो अपने बेडरूम में थी, तभी सास ने बुलाया। कुछ समझ पाती इससे पहले ही सास-ससुर ने जोर से पकड़ लिया और पति ने बोतल से उस पर पेट्रोल डाल दिया। इसी बीच सास ने माचिस की तीली जलाकर उसकी साड़ी पर फेंक दी, जिससे आग लग गई। बचने के लिए उसने साड़ी उतारकर फेंक दी और बाहर भागी तो मोहल्ले के लोगों ने उसको बचाया।

इसके बाद उसे इलाज के लिए सेक्टर-10 स्थित नागरिक अस्पताल ले जाया गया। जहां से उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल रेफर कर दिया गया। अब पीड़ित वहीं उपचाराधीन है। बिलासपुर थाना पुलिस बयान लेने दिल्ली सफदरजंग अस्पताल पहुंची तो डॉक्टरों ने बताया कि उसे ओपीडी में इलाज के बाद घर भेज दिया गया है। पुलिस ने कई बार बयान लेने का प्रयास किया। तीन जुलाई को पीड़ित ने बयान दिया तो एफआईआर दर्ज हुई। एसएचओ इंस्पेक्टर अजय ने बताया कि आरोपों पर जांच चल रही है।

.


पहाड़ी क्षेत्रों में बारिश, घग्गर में आया एक हजार क्यूसेक पानी

गणित शिक्षक पर लगाए छात्राओं पर गलत नजर रखने के आरोप, ग्रामीणों ने सरकारी स्कूल के गेट पर जड़ा ताला