विधायक दल की बैठक बुलाए जाने के समय कुछ विधायकों का अनाधिकारिक बैठक करना ‘अनुशासनहीनता’ : माकन


जयपुर, 26 सितंबर (भाषा) कांग्रेस नेता अजय माकन ने सोमवार को कहा कि राजस्थान में कुछ विधायकों का व िधायक दल की आध िकार िक बैठक में शामिल न होकर उसके समानांतर कोई अन्य बैठक करना ‘‘अनुशासनहीनता’’ है।

माकन ने कहा कि विधायकों का एक समूह सशर्त प्रस् ताव पारित कराने पर जोर दे रहा था, जिसे उन् होंने स्वीकार नहीं किया।

इस बीच, गहलोत के समर्थक विधायक सोमवार को एक और बैठक करेंगे। गहलोत के सलाहकार एवं विधायक संयम लोढ़ा ने कहा, ‘‘रविवार के घटनाक्रम पर चर्चा के लिए आज बैठक होगी। इसके लिए अभी समय तय नहीं हुआ है।’’

विधायक दल की बैठक के लिए जयपुर आए पार्टी पर्यवेक्षक माकन एवं मल्लिकार्जुन खड़गे सोमवार को दिल् ली लौटकर राज्य में मौजूदा राजनीति क घटनाक्रम पर अपनी रिपोर्ट पार्टी अध् यक्ष सोनिया गांधी को सौंपेंगे।

उल् लेखनीय है कि कांग्रेस विधायक दल की बैठक रविवार रात को मुख् यमंत्री आवास पर होनी थी, लेकिन गहलोत के वफादार कई विधायक बैठक में नहीं आए। उन्होंने संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल के बंगले पर बैठक की और फिर वहां से वे विधानसभा अध् यक्ष डॉ. सीपी जोशी से म िलने गए।

इस बारे में पूछे जाने पर माकन ने यहां संवाददाताओं से कहा कि जब विधायक दल की कोई आधिकारिक बैठक बुलाई गई हो और यदि कोई उसी के समानांतर एक अनाधिकारिक बैठक बुलाए, तो यह प्रथमदृष्टया ‘‘अनुशासनहीनता’’ है।

माकन ने कहा, ‘‘आगे देखेंगे कि इस पर क् या कार्रवाई होती है।’’

उन् होंने कहा कि अभी यह जानकारी नहीं है कि कितने विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष को इस्तीफा दिया है।

माकन ने कहा कि इन विधायकों के प्रतिनिधि के रूप में धारीवाल, मुख् य सचेतक महेश जोशी एवं मंत्री प्रताप सिंह खाचर ियावास उनसे मिलने आए थे और उन्होंने कहा था कि व िधायक सशर्त प्रस् ताव पारित कराना चाहते हैं।

माकन ने कहा, ‘‘जो विधायक (बैठक में) नहीं आए, उन्हें हम लगातार कहते रहे कि हम एक-एक करके सबकी बात सुनने के लिए यहां आए हैं।’’

उन्होंने बताया कि उन्होंने विधायकों से कहा कि ‘‘जो बात आप कहेंगे, वह हम दिल् ली जाकर बताएंगे। कांग्रेस अध् यक्ष सोनिया गांधी ने हमें सबसे अलग-अलग आमने-सामने बात करने के निर्देश द िए गए हैं।’’

उन् होंने कहा, ‘‘संसदीय कार्यमंत्री शांत ि धारीवाल, मुख् य सचेतक महेश जोशी एवं मंत्री प्रताप सिंह खाचर ियावास उनके प्रतिनिधियों के तौर पर हमारे पास आए और उन् होंने तीन शर्तें रखीं। सबसे पहले तो उन् होंने कहा कि यदि अगर कांग्रेस अध् यक्ष को निर्णय लेने का अधिकार देने का प्रस् ताव पारित करना है तो बेशक ऐसा किया जाए, लेकिन उस पर फैसला 19 अक्टूबर के बाद होना चाहिए।’’

माकन ने कहा कि उन्होंने गहलोत समर्थक विधायकों से कहा कि गहलोत अगर यह प्रस् ताव पेश करते हैं क ि कांग्रेस अध् यक्ष पर सब निर्णय छोड़ दिए जाएं, तो इससे ‘‘हितों का टकराव’’ पैदा हो सकता है।

उन्होंने कहा, ‘‘चूंकि अब गहलोत खुद कह चुके हैं कि वे कांग्रेस अध् यक्ष का चुनाव लड़ेंगे, तो 19 अक् टूबर के बाद यदि वह खुद अध् यक्ष बन जाते हैं और अपने ही प्रस् ताव पर खुद को ही अधिकार देते हैं, तो इससे बड़ा ‘‘हितों का टकराव’’ नहीं हो सकता।’’

माकन ने कहा, ‘‘हमने (गहलोत समर्थक विधायकों से) उनसे कहा कि आप यह मत कर िए, लेकिन उन् होंने कहा कि आपको यह सार्वजनिक तौर पर कहना पड़ेगा और इसे प्रस् ताव का हि स् सा बनाना पड़ेगा क ि प्रस् ताव भले ही आज पारित हो जाए, लेकिन उसे लागू 19 अक् टूबर के बाद किया जाएगा।’’

उन्होंने कहा, ‘‘ हमने कहा कि हम (विधायकों से) सबसे एक-एक करके बात करेंगे तो उन् होंने कहा कि नहीं हम समूहों में आएंगे। हमने कहा कि कांग्रेस की हमेशा से प्रथा रही है कि हम सबसे एक-एक करके बात करते हैं ताकि व िधायक बिना किसी दबाव के अपनी बात कह सकें, तो उन् होंने कहा कि वे समूह में आकर अपनी बात कहेंगे और यह भी आपको सार्वजनिक तौर पर कहना होगा।’’

माकन ने कहा, ‘‘तीसरी बात उन्होंने यह कही कि जो 102 विधायक 2020 के राजनीतिक संकट में गहलोत के साथ खड़े थे, उनमें से ही किसी को मुख् यमंत्री बनाया जाना चाहिए, सचिन पायलट या उनके समर्थकों में से किसी को नहीं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘हमने (गहलोत समर्थक विधायकों का) इंतजार किया, लेकिन वे नहीं आए। अब मैं और खड़गे जी वापस दिल् ली जा रहे हैं और हम अपनी पूरी रिपोर्ट कांग्रेस अध् यक्ष को सौंपेंगे।’’

उन् होंने उम् मीद जताई क ि पार्टी नेता विधायकों के साथ बातचीत कर आगे का रास् ता निकाल लेंगे। राजधानी जयपुर में यह सारा घटनाक्रम विधायक दल की बैठक में गहलोत का उत्तराधिकारी चुनने की संभावनाओं के बीच हुआ। इस स्थिति से मुख्यमंत्री और सचिन पायलट के बीच सत्ता को लेकर संघर्ष गहराने का संकेत मिल रहा है। गहलोत कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ेंगे, इसलिए उनका उत्तराधिकारी चुने जाने की चर्चा है।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

2022 मारुति सुजुकी ग्रैंड विटारा हाइब्रिड भारत में लॉन्च, कीमत 10.45 लाख रुपये से शुरू

ज़ेरोधा ने अपने कर्मचारियों को दिया कमाल का फिटनेस चैलेंज; विजेता को मिलेगा 10 लाख रुपये और एक महीने का वेतन