in

लूट के मोबाइल में सिम डाला तो पकड़े गए KMP के लुटेरे, लूटपाट के बाद बिजनसमैन का किया था मर्डर


गुड़गांव : पत्नी कॉल पर थी। कितनी देर में आएंगे पूछ रही थी। तभी बदमाशों ने घेर लिया। चाकू, लात-घूंसों से हमला कर दिया। युवक चीखता रहा। चेन, मोबाइल, कैश सब दे दिया। सिर्फ छोड़ने की गुहार लगाता रहा। अचानक ऐसी आवाज सुनकर पत्नी भी परेशान हो गई। तुरंत ससुर और जेठ को बताया। केएमपी एक्सप्रेसवे पर वे ढूंढने निकले तो झाड़ियों में 22 साल का आशीष बेहोश मिला। अस्पताल में डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था। पुलिस ने 3 बदमाशों को गिरफ्तार कर 21 मई की रात हुई इस वारदात का बुधवार को खुलासा किया। तीनों बदमाश आईएमटी मानेसर में किराये पर रहते थे और पास की एक कंपनी में काम करते थे। कंपनी से छुट्टी होने पर एक्सप्रेसवे और आसपास के इलाकों में रोड किनारे गाड़ी खड़ी कर बात या टॉइलट करने वालों से लूटपाट करते थे।

21 मई को रात 10 बजे बदमाशों ने रोक की थी लूटपाट
पानीपत के सींक गांव के मूल निवासी 22 साल के आशीष परिवार के साथ बिलासपुर के खरकड़ी गांव में रहते थे। आशीष का किराने की दुकान थी। उनके पिता सुल्तान सिंह भी दुकान संभालने में मदद करते थे। आशीष का बड़ा भाई अजय भिवाड़ी की एक कंपनी में नौकरी करते हैं। दुकान के काम से आशीष 21 मई को कहीं गए थे। रात करीब सवा 10 बजे केएमपी एक्सप्रेसवे से लौट रहे थे। रास्ते में बदमाशों ने उनकी गाड़ी रुकवा ली। आशीष जब रुके तब पत्नी से बात कर रहे थे। कुछ ही देर में घर पहुंचने की बात कह रहे थे। बदमाशों ने इसी बीच उन पर चाकू से हमला कर दिया। आशीष की चीख सुनकर उनकी पत्नी तुरंत ससुर सुल्तान और जेठ अजय के पास पहुंची। सुल्तान बेटे को ढूंढने के लिए अजय के साथ निकले। केएमपी पर आशीष एक झाड़ी में बेहोश मिले। वहां से अस्पताल लेकर पहुंचे तो डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया था।

तीनों बदमाशों को कोर्ट में पेश कर 4 दिनों के रिमांड पर लिया गया है। इनसे कई वारदात का खुलासा हो सकता है। अभी पूछताछ चल रही है।

– प्रीतपाल सिंह, एसीपी क्राइम

ब्लाइंड मर्डर केस में पुलिस ने जोड़ी कड़ी
आईएमटी मानेसर थाने में लूट और हत्या की रिपोर्ट दर्ज की गई थी। थाना इंचार्ज सुभाष ने जांच शुरू की। फिर सेक्टर 31 क्राइम ब्रांच इंचार्ज आनंद की भी मदद ली गई। केस पूरी तरह से ब्लाइंड था। कहीं से कुछ सुराग नहीं मिल रहा था। लेकिन, कुछ सीसीटीवी फुटेज और लूट के मोबाइल से अहम सुराग मिला। फिर कासगंज (यूपी) के डूंडवास गांव निवासी अनुभव, हाथरस की रामनगर कॉलोनी निवासी विजय आर्य और हाथरस की शराफान कॉलोनी निवासी रवि को गिरफ्तार किया गया। रवि की उम्र करीब 29 साल है, बाकी दोनों 20 साल के हैं।

देशी कट्टा, रिवॉल्वर, ऑटोमेटिक पिस्टल… सोशल मीडिया पर लग रही अवैध हथियारों की मंडी, होम डिलीवरी का दावा
चोरी करते पकड़ा गया तो गूंगा-बहरा बन गया चोर
पीजी के कमरों से लैपटॉप, मोबाइल, पर्स चोरी में सुशांत लोक थाने की पुलिस ने एक युवक को गिरफ्तार किया। शुरू में उसने खुद को गूंगा-बहरा बताया। सख्ती से पूछताछ हुई तो बोलने लगा। बताया भोर में लोग जब गहरी नींद में होते थे, तब गेट में धक्का देता था। जो गेट खुल जाता, वहां से सामान चुरा लेता था। डीसीपी ईस्ट विरेंद्र विज ने बताया कि आरोपी की पहचान तमिलनाडु के मूल निवासी जगदीश गोविंदन के रूप में हुई है। जगदीश दिल्ली के सराय काले खां में किराये पर रहता था। उसके दूसरे साथी की तलाश चल रही है।

.


जिले में संदीप डीसी व हिमांशु भाऊ गिरोह हैं सक्रिय

Punjab: पंजाब कांग्रेस ने पूर्व विधायक हरचंद कौर को पार्टी से किया निष्कासित, पार्टी विरोधी गतिविधियों पर कार्रवाई