रोहतक: पहरावर जमीन गौड़ संस्था को मिलने का रास्ता साफ, सांसद के वायरल पत्र से हलचल


ख़बर सुनें

हरियाणा के रोहतक में पहरावर जमीन विवाद पर सांसद डॉ. अरविंद शर्मा और प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल व पूर्व मंत्री मनीष ग्रोवर के बीच चल रही खींचतान 20 जून को सांसद की ओर से जारी वायरल हुए एक पत्र के बाद शांत होती दिखाई दे रही है। इस पत्र में सांसद ने गौड़ संस्था की जमीन पर चिंता जताते हुए कहा है कि यह जमीन 36 बिरादरी के लिए लाभकारी होगी, इसे संस्था को ही दिया जाना चाहिए। सीएम व भाजपा सरकार इस जमीन को संस्था को देने के पक्ष में भी है। इस विषय में जो पिछले दिनों भाषण, संभाषण व सम्मेलन हुए, उसकी वजह समाज के प्रति उनकी चिंता थी। वे सीएम या सरकार के विरोध में नहीं हैं। 

सोमवार को मुख्यमंत्री मनोहर लाल रोहतक भाजपा के कार्यालय पहुंचे थे। यहां पहरावर जमीन पर बातचीत हुई है और माना जा रहा है कि पहरावर की जमीन गौड़ शिक्षण संस्था को देने का रास्ता अब लगभग साफ हो गया है। सीएम ने रोहतक पहुंचकर इस जमीन मामले पर निगम अधिकारियों की बैठक ली और रिकॉर्ड तलब किया है।

वहीं चर्चा है कि इससे पहले भाजपा प्रदेश प्रभारी विनोद तावड़े ने सीएम मनोहर लाल व सांसद डॉ. अरविंद शर्मा के बीच मध्यस्थता कर उनके विवाद को सुलझाया है। बताया यह भी जा रहा है कि सीएम व सांसद के बीच इस मुद्दे पर काफी देर बातचीत हुई और जल्द ही गौड़ संस्था को यह जमीन देने का भरोसा भी दिलाया गया है। 

गौरतलब है कि पहरावर की जमीन को लेकर भाजपा सांसद डॉ. अरविंद शर्मा व सरकार के बीच तल्खी काफी बढ़ गई थी और सांसद ने सरकार को एक माह का अल्टीमेटम दे रखा था। सांसद के अनुसार 21 जून को इस जमीन के लिए उन्हें आंदोलन करना था, लेकिन 20 जून को उनका पत्र जारी होने से हलचल मच गई है।

इसी नाराजगी के चलते कबीर जयंती पर सांसद डॉ. अरविंद शर्मा को रोहतक नई अनाज मंडी में आयोजित कार्यक्रम में मंच पर बैठने तक की जगह नहीं मिली थी और वह शांतिपूर्वक मीडिया गैलरी में बैठे रहे। सांसद व सरकार के बीच बढ़ती दूरी का संदेश जब केंद्र में पहुंचा तो इसे सुलझाने की जिम्मेदारी भाजपा प्रदेश प्रभारी विनोद तावड़े को सौंपी गई थी।

सोमवार की सुबह भाजपा प्रभारी विनोद तावडे़ ने मुख्यमंत्री व सांसद की बैठक करवाई और आपसी विवाद सुलझाने को कहा। वहीं जारी पत्र के संबंध में जब सांसद डॉ. अरविंद शर्मा से बात की गई तो उन्होंने इस मुद्दे पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि वे मंगलवार को बातचीत करेंगे।

विस्तार

हरियाणा के रोहतक में पहरावर जमीन विवाद पर सांसद डॉ. अरविंद शर्मा और प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल व पूर्व मंत्री मनीष ग्रोवर के बीच चल रही खींचतान 20 जून को सांसद की ओर से जारी वायरल हुए एक पत्र के बाद शांत होती दिखाई दे रही है। इस पत्र में सांसद ने गौड़ संस्था की जमीन पर चिंता जताते हुए कहा है कि यह जमीन 36 बिरादरी के लिए लाभकारी होगी, इसे संस्था को ही दिया जाना चाहिए। सीएम व भाजपा सरकार इस जमीन को संस्था को देने के पक्ष में भी है। इस विषय में जो पिछले दिनों भाषण, संभाषण व सम्मेलन हुए, उसकी वजह समाज के प्रति उनकी चिंता थी। वे सीएम या सरकार के विरोध में नहीं हैं। 

सोमवार को मुख्यमंत्री मनोहर लाल रोहतक भाजपा के कार्यालय पहुंचे थे। यहां पहरावर जमीन पर बातचीत हुई है और माना जा रहा है कि पहरावर की जमीन गौड़ शिक्षण संस्था को देने का रास्ता अब लगभग साफ हो गया है। सीएम ने रोहतक पहुंचकर इस जमीन मामले पर निगम अधिकारियों की बैठक ली और रिकॉर्ड तलब किया है।

वहीं चर्चा है कि इससे पहले भाजपा प्रदेश प्रभारी विनोद तावड़े ने सीएम मनोहर लाल व सांसद डॉ. अरविंद शर्मा के बीच मध्यस्थता कर उनके विवाद को सुलझाया है। बताया यह भी जा रहा है कि सीएम व सांसद के बीच इस मुद्दे पर काफी देर बातचीत हुई और जल्द ही गौड़ संस्था को यह जमीन देने का भरोसा भी दिलाया गया है। 

गौरतलब है कि पहरावर की जमीन को लेकर भाजपा सांसद डॉ. अरविंद शर्मा व सरकार के बीच तल्खी काफी बढ़ गई थी और सांसद ने सरकार को एक माह का अल्टीमेटम दे रखा था। सांसद के अनुसार 21 जून को इस जमीन के लिए उन्हें आंदोलन करना था, लेकिन 20 जून को उनका पत्र जारी होने से हलचल मच गई है।

इसी नाराजगी के चलते कबीर जयंती पर सांसद डॉ. अरविंद शर्मा को रोहतक नई अनाज मंडी में आयोजित कार्यक्रम में मंच पर बैठने तक की जगह नहीं मिली थी और वह शांतिपूर्वक मीडिया गैलरी में बैठे रहे। सांसद व सरकार के बीच बढ़ती दूरी का संदेश जब केंद्र में पहुंचा तो इसे सुलझाने की जिम्मेदारी भाजपा प्रदेश प्रभारी विनोद तावड़े को सौंपी गई थी।

सोमवार की सुबह भाजपा प्रभारी विनोद तावडे़ ने मुख्यमंत्री व सांसद की बैठक करवाई और आपसी विवाद सुलझाने को कहा। वहीं जारी पत्र के संबंध में जब सांसद डॉ. अरविंद शर्मा से बात की गई तो उन्होंने इस मुद्दे पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि वे मंगलवार को बातचीत करेंगे।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

पंजाब बजट: शिक्षा, स्वास्थ्य और कृषि पर फोकस, 15 से 20 फीसदी वृद्धि

बिजली कनेक्शन काटने का मैसेज भेजकर छात्र के खाते से निकाले 32 हजार रुपये