in

रिदमिक में खिलाड़ियों के प्रदर्शन से दर्शक दंग


Spectators stunned by players' performance in Rhythmic

ख़बर सुनें

अंबाला। खेलो इंडिया यूथ गेम्स के दूसरे दिन सोमवार को रिदमिक के साथ आर्टिस्टिक इवेंट हुए। छावनी के शहीद मुकेश आनंद बैडमिंटन हॉल में आयोजित रिदमिक जिम्नास्टिक में देशभर की महिला खिलाड़ियों ने भाग लिया। बेहतरीन प्रदर्शन के बदौलत खिलाड़ियों ने क्वालीफाई कर मेडल की दौड़ में जगह बनाई। शाम के समय वार हीरोज स्टेडियम में आर्टिस्टिक की फ्लोर, पोमेल हार्स, रिंग्स, वाल्ट, पैरलल बार, होरिजेंटल बार, वालटिंग हॉर्स, अनइव बार, बीम फ्लोर आदि में क्वालीफाई करने वाले खिलाड़ियों के मेडल के लिए मुकाबले हुए।
क्वालीफाई करने वाले आठ खिलाड़ियों के बीच कांटे की टक्कर हुई और यह मुकाबले देररात तक चले। सात जून को रिदमिक इवेंट के मेडल के लिए क्वालीफाई करने वाले खिलाड़ियों के बीच मुकाबले होंगे। बता दें कि रिदमिक व आर्टिस्टिक में उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, केरल, हरियाणा, पंजाब समेत विभिन्न राज्यों के 208 से अधिक खिलाड़ी अपनी प्रतिभा का जौहर दिखा रहे हैं। आर्टिस्टिक प्रतिस्पर्धा में देशभर के 150 से अधिक खिलाड़ी भागीदारी कर रहे हैं।

अंबाला। खेलो इंडिया यूथ गेम्स के दूसरे दिन सोमवार को रिदमिक के साथ आर्टिस्टिक इवेंट हुए। छावनी के शहीद मुकेश आनंद बैडमिंटन हॉल में आयोजित रिदमिक जिम्नास्टिक में देशभर की महिला खिलाड़ियों ने भाग लिया। बेहतरीन प्रदर्शन के बदौलत खिलाड़ियों ने क्वालीफाई कर मेडल की दौड़ में जगह बनाई। शाम के समय वार हीरोज स्टेडियम में आर्टिस्टिक की फ्लोर, पोमेल हार्स, रिंग्स, वाल्ट, पैरलल बार, होरिजेंटल बार, वालटिंग हॉर्स, अनइव बार, बीम फ्लोर आदि में क्वालीफाई करने वाले खिलाड़ियों के मेडल के लिए मुकाबले हुए।

क्वालीफाई करने वाले आठ खिलाड़ियों के बीच कांटे की टक्कर हुई और यह मुकाबले देररात तक चले। सात जून को रिदमिक इवेंट के मेडल के लिए क्वालीफाई करने वाले खिलाड़ियों के बीच मुकाबले होंगे। बता दें कि रिदमिक व आर्टिस्टिक में उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, केरल, हरियाणा, पंजाब समेत विभिन्न राज्यों के 208 से अधिक खिलाड़ी अपनी प्रतिभा का जौहर दिखा रहे हैं। आर्टिस्टिक प्रतिस्पर्धा में देशभर के 150 से अधिक खिलाड़ी भागीदारी कर रहे हैं।

.


ट्रेन में चोरी, चोरों ने उड़ाये लाखों के गहने व मोबाइल

Mahindra Scorpio: रोहित शेट्टी से लेकर पीएम मोदी तक, भारतीय सड़कों पर क्यों है राज?