मॉडल संस्कृति स्कूलों के खराब परिणाम के बाद शिक्षा विभाग मंथन करने में जुटा


ख़बर सुनें

भिवानी। प्रदेशभर के मॉडल संस्कृति स्कूलों का 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा का परिणाम संतोषजनक नहीं रहा है। परिणाम का स्तर अच्छा नहीं रहने का मुख्य कारण स्टाफ की कमी माना जा रहा है। शिक्षा विभाग प्रतिनियुक्ति के सहारे बच्चों को शिक्षित कर रहे हैं।
ऐसे में अब बोर्ड परीक्षा परिणाम से सबक ले शिक्षा विभाग ने मॉडल स्कूलों के लिए स्टाफ की नियुक्ति करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। जुलाई के पहले सप्ताह में इन स्कूलों को नया स्टाफ मिलने की उम्मीद है। प्रदेश के मॉडल संस्कृति स्कूलों के 12वीं कक्षा में 83 फीसदी और 10वीं के 58.75 फीसदी विद्यार्थी पास हुए हैं।
10वीं और 12 दोनों कक्षाओं का परिणाम चिंताजनक
प्रदेश सरकार ने सीबीएलयू पैटर्न के ब्लॉक स्तर पर मॉडल संस्कृति स्कूल खोले हैं। इन स्कूलों में बेहतरीन विशेषज्ञ शिक्षकों के माध्यम से शिक्षा का स्तर ऊंचा करने की योजना है। यहां सभी सुविधाएं देने, ऑनलाइन पढ़ाई का बेहतर विकल्प देने की बात कहीं जा रही है। साथ ही इन्हें नए सत्र सीबीएसई से भी जोड़ा गया है। प्रदेश में 137 मॉडल स्कूलों के 10वीं कक्षा के 14,268 परीक्षार्थी थे, जिनमें से 8,383 पास हुए, 1056 के कंपार्टमेंट आई और 4829 परीक्षार्थी फेल हुए।
सेंटा के जरिये की जाएगी भर्ती
हरियाणा के राजकीय मॉडल संस्कृति स्कूलों में शिक्षकों की कमी जल्दी पूरी होगी। सेंटर फॉर टीचर एक्रीडेशन (सेंटा) के जरिये भर्ती की जाएगी। स्कूल शिक्षा विभाग ने हर महीने सेंटा टेस्ट कराने का फैसला लिया है। माध्यमिक शिक्षा निदेशक ने सभी डीईओ, डीईईओ को पत्र जारी कर कहा है कि सभी मॉडल संस्कृति वरिष्ठ विद्यालयों में टीजीटी के खाली पदों को केवल टेस्ट के जरिये ही भरा जाएगा। टेस्ट में पंजीकरण प्रक्रिया पूरी हो गई है। जुलाई में मॉडल संस्कृति स्कूलों में नई टीचर मिलने की उम्मीद है। इसके बाद मॉडल संस्कृति स्कूलों में बेहतरीन पढ़ाई शुरू हो जाएगी।
मॉडल संस्कृति स्कूलों को नए सत्र से सीबीएसई स्कूलों में जोड़ गया है। फिलहाल स्कूलों में स्टाफ की काफी कमी है, जिसको लेकर शिक्षा विभाग ने सेंटर फॉर टीचर एक्रीडेशन के तहत भर्ती करने की तैयारी की है। सेंटा के लिए ऑनलाइन आवेदन करवा दिए हैं। अब जल्दी की शिक्षकों की परीक्षा ली जाएगी, जिसे उत्तीर्ण करने वाले शिक्षकों को मॉडल संस्कृति स्कूलों में नियुक्त कर दिया जाएगा। उम्मीद है जुलाई के पहले सप्ताह तक स्कूलों में नए शिक्षक मिल जाएंगे।
– सविता घनघस, प्रधानाचार्य, सेठ किरोड़ीमल राजकीय मॉडल संस्कृति वमावि, भिवानी।
शिक्षा निदेशालय के आदेशानुसार मॉडल संस्कृति स्कूलों में सेंटा की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इसमें साक्षात्कार नहीं होगा, बल्कि टेस्ट उत्तीर्ण करने वाले शिक्षक को स्कूलों में नियुक्त कर दिया जाएगा। मॉडल संस्कृति स्कूलों में शिक्षा का स्तर बेहतर करने के लिए विभाग लगातार प्रयास कर रहा है।
– रामअवतार शर्मा, जिला शिक्षा अधिकारी, भिवानी।

भिवानी। प्रदेशभर के मॉडल संस्कृति स्कूलों का 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा का परिणाम संतोषजनक नहीं रहा है। परिणाम का स्तर अच्छा नहीं रहने का मुख्य कारण स्टाफ की कमी माना जा रहा है। शिक्षा विभाग प्रतिनियुक्ति के सहारे बच्चों को शिक्षित कर रहे हैं।

ऐसे में अब बोर्ड परीक्षा परिणाम से सबक ले शिक्षा विभाग ने मॉडल स्कूलों के लिए स्टाफ की नियुक्ति करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। जुलाई के पहले सप्ताह में इन स्कूलों को नया स्टाफ मिलने की उम्मीद है। प्रदेश के मॉडल संस्कृति स्कूलों के 12वीं कक्षा में 83 फीसदी और 10वीं के 58.75 फीसदी विद्यार्थी पास हुए हैं।

10वीं और 12 दोनों कक्षाओं का परिणाम चिंताजनक

प्रदेश सरकार ने सीबीएलयू पैटर्न के ब्लॉक स्तर पर मॉडल संस्कृति स्कूल खोले हैं। इन स्कूलों में बेहतरीन विशेषज्ञ शिक्षकों के माध्यम से शिक्षा का स्तर ऊंचा करने की योजना है। यहां सभी सुविधाएं देने, ऑनलाइन पढ़ाई का बेहतर विकल्प देने की बात कहीं जा रही है। साथ ही इन्हें नए सत्र सीबीएसई से भी जोड़ा गया है। प्रदेश में 137 मॉडल स्कूलों के 10वीं कक्षा के 14,268 परीक्षार्थी थे, जिनमें से 8,383 पास हुए, 1056 के कंपार्टमेंट आई और 4829 परीक्षार्थी फेल हुए।

सेंटा के जरिये की जाएगी भर्ती

हरियाणा के राजकीय मॉडल संस्कृति स्कूलों में शिक्षकों की कमी जल्दी पूरी होगी। सेंटर फॉर टीचर एक्रीडेशन (सेंटा) के जरिये भर्ती की जाएगी। स्कूल शिक्षा विभाग ने हर महीने सेंटा टेस्ट कराने का फैसला लिया है। माध्यमिक शिक्षा निदेशक ने सभी डीईओ, डीईईओ को पत्र जारी कर कहा है कि सभी मॉडल संस्कृति वरिष्ठ विद्यालयों में टीजीटी के खाली पदों को केवल टेस्ट के जरिये ही भरा जाएगा। टेस्ट में पंजीकरण प्रक्रिया पूरी हो गई है। जुलाई में मॉडल संस्कृति स्कूलों में नई टीचर मिलने की उम्मीद है। इसके बाद मॉडल संस्कृति स्कूलों में बेहतरीन पढ़ाई शुरू हो जाएगी।

मॉडल संस्कृति स्कूलों को नए सत्र से सीबीएसई स्कूलों में जोड़ गया है। फिलहाल स्कूलों में स्टाफ की काफी कमी है, जिसको लेकर शिक्षा विभाग ने सेंटर फॉर टीचर एक्रीडेशन के तहत भर्ती करने की तैयारी की है। सेंटा के लिए ऑनलाइन आवेदन करवा दिए हैं। अब जल्दी की शिक्षकों की परीक्षा ली जाएगी, जिसे उत्तीर्ण करने वाले शिक्षकों को मॉडल संस्कृति स्कूलों में नियुक्त कर दिया जाएगा। उम्मीद है जुलाई के पहले सप्ताह तक स्कूलों में नए शिक्षक मिल जाएंगे।

– सविता घनघस, प्रधानाचार्य, सेठ किरोड़ीमल राजकीय मॉडल संस्कृति वमावि, भिवानी।

शिक्षा निदेशालय के आदेशानुसार मॉडल संस्कृति स्कूलों में सेंटा की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इसमें साक्षात्कार नहीं होगा, बल्कि टेस्ट उत्तीर्ण करने वाले शिक्षक को स्कूलों में नियुक्त कर दिया जाएगा। मॉडल संस्कृति स्कूलों में शिक्षा का स्तर बेहतर करने के लिए विभाग लगातार प्रयास कर रहा है।

– रामअवतार शर्मा, जिला शिक्षा अधिकारी, भिवानी।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

Barmer News: परीक्षा देने निकले थे दो युवक, बाइक को स्कॉर्पियो ने मारी टक्कर, अस्पताल में इलाज के दौरान मौत

Gurugram: सीएम मनोहर लाल ने दिए निर्देश- सभी जिलों में खोले जाएंगे विश्वकर्मा यूनिवर्सिटी की तर्ज पर एक्सटेंशन सेंटर