in

मुनाफे का लालच देकर ठगी नकदी, दंपती गिरफ्तार


ख़बर सुनें

संवाद न्यूज एजेंसी
करनाल। रुपये दो से तीन गुना करने का लालच देकर धोखाधड़ी करने वाले आरोपी दंपती कोे सेक्टर-13 चौकी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के अनुसार राजीव पुरम निवासी राकेश ने शिकायत दी थी कि माया इंफोटेक प्राइवेट लिमिटेड एवं माया क्विक ब्रांडिंग कंपनी के प्रोडक्ट ऑनलाइन बिकते थे। इस कंपनी की निदेशक मृदुला ठाकुर निवासी एटीएस सोसायटी शक्ति खंड, इंद्रापुरम, गाजियाबाद ने शिकायतकर्ता को कंपनी में तीन से चार गुना ज्यादा मुनाफा दिलाने की बात कहकर नकदी जमा करने के लिए संपर्क किया था। इस पर शिकायतकर्ता ने उसे वर्ष 2016 में अलग-अलग माध्यम से 11.82 लाख रुपये दिए।
जब उसने समय पर अपना मुनाफा मांगा तो आरोपी टालमटोल करने लगे। काफी समय बीतने के बाद भी न तो उसके रुपये वापस दिए, न उसका मुनाफा दिया। इस शिकायत पर मामला दर्ज किया गया। मामले की जांच करते हुए उप निरीक्षक राजबीर सिंह ने पांच जून को आरोपी मृदुला ठाकुर व उसके पति पवन कुमार को नोएडा से गिरफ्तार किया। आरोपियों ने खुलासा किया कि उनकी ऑनलाइन प्रोडक्ट की उपरोक्त कंपनी है।
जब भी कोई व्यक्ति इनके प्रोडक्ट पर क्लिक करता था तो उस प्रोडक्ट की रेटिंग बढ़ जाती थी। जिसके बाद दोनों आरोपी उस व्यक्ति की डिटेल निकाल कर उससे संपर्क करते थे और मुनाफा होने का लालच देकर उसे अपनी कंपनी में निवेश करने को तैयार कर लेते थे। जिसके बाद वह व्यक्ति आरोपियों की कंपनी में एक बार निवेश कर लेता था तो आरोपी न तो उसे मुनाफा देते थे न ही उस व्यक्ति के पैसे वापस करते थे। जांच में खुलासा हुआ कि आरोपियों के खिलाफ राजस्थान में भी इसी तरह धोखाधड़ी के दो मामले दर्ज हैं। इन मामलों में आरोपी गिरफ्तार हो चुके हैं।

संवाद न्यूज एजेंसी

करनाल। रुपये दो से तीन गुना करने का लालच देकर धोखाधड़ी करने वाले आरोपी दंपती कोे सेक्टर-13 चौकी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के अनुसार राजीव पुरम निवासी राकेश ने शिकायत दी थी कि माया इंफोटेक प्राइवेट लिमिटेड एवं माया क्विक ब्रांडिंग कंपनी के प्रोडक्ट ऑनलाइन बिकते थे। इस कंपनी की निदेशक मृदुला ठाकुर निवासी एटीएस सोसायटी शक्ति खंड, इंद्रापुरम, गाजियाबाद ने शिकायतकर्ता को कंपनी में तीन से चार गुना ज्यादा मुनाफा दिलाने की बात कहकर नकदी जमा करने के लिए संपर्क किया था। इस पर शिकायतकर्ता ने उसे वर्ष 2016 में अलग-अलग माध्यम से 11.82 लाख रुपये दिए।

जब उसने समय पर अपना मुनाफा मांगा तो आरोपी टालमटोल करने लगे। काफी समय बीतने के बाद भी न तो उसके रुपये वापस दिए, न उसका मुनाफा दिया। इस शिकायत पर मामला दर्ज किया गया। मामले की जांच करते हुए उप निरीक्षक राजबीर सिंह ने पांच जून को आरोपी मृदुला ठाकुर व उसके पति पवन कुमार को नोएडा से गिरफ्तार किया। आरोपियों ने खुलासा किया कि उनकी ऑनलाइन प्रोडक्ट की उपरोक्त कंपनी है।

जब भी कोई व्यक्ति इनके प्रोडक्ट पर क्लिक करता था तो उस प्रोडक्ट की रेटिंग बढ़ जाती थी। जिसके बाद दोनों आरोपी उस व्यक्ति की डिटेल निकाल कर उससे संपर्क करते थे और मुनाफा होने का लालच देकर उसे अपनी कंपनी में निवेश करने को तैयार कर लेते थे। जिसके बाद वह व्यक्ति आरोपियों की कंपनी में एक बार निवेश कर लेता था तो आरोपी न तो उसे मुनाफा देते थे न ही उस व्यक्ति के पैसे वापस करते थे। जांच में खुलासा हुआ कि आरोपियों के खिलाफ राजस्थान में भी इसी तरह धोखाधड़ी के दो मामले दर्ज हैं। इन मामलों में आरोपी गिरफ्तार हो चुके हैं।

.


अंशू ने साइकिलिंग में जीता कांस्य

ग्राम पंचायतों से नहीं लिया जाएगा अग्निशमन शुल्क