in

भाभी की हत्या के आरोपी और दोस्त को जेल भेजा


ख़बर सुनें

रोहतक। भाली आनंदपुर में परवीन की गोली मारकर की गई हत्या मामले में पुलिस ने मुख्य साजिशकर्ता उसके देवर मोहित व उसके साथी को जेल भेज दिया है। प्रोडक्शन वारंट पर गिरफ्तार आरोपियों को एक दिन के रिमांड पर लेकर गहन पूछताछ की गई। रिमांड पूरा होने पर आरोपियों को बुधवार अदालत में पेश किया गया। यहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। आरोपी मोहित ने अपने साथी संदीप के साथ मिलकर जेल में ही भाभी की हत्या का षड्यंत्र रचा था।
प्रभारी सीआईए-2 निरीक्षक नवीन जाखड़ ने बताया कि 21 जून की रात को पुलिस को भाली आनंदपुर में परवीन को गोली मारे जाने की सूचना मिली। इससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। एसआई रोहताश ने भाली आनंदपुर निवासी आरोपी मोहित व संदीप उर्फ बच्ची को प्रोडक्शन वारंट पर गिरफ्तार किया। दोनों अन्य वारदातों में गिरफ्तार होकर सुनारिया जेल में बंद थे। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि मोहित ने अपने साथी संदीप के साथ मिलकर जेल में ही भाभी की हत्या करने का षड्यंत्र रचा था। वारदात को अंजाम देने वाले तीन आरोपियों को पहले गिरफ्तार किया जा चुका है।

रोहतक। भाली आनंदपुर में परवीन की गोली मारकर की गई हत्या मामले में पुलिस ने मुख्य साजिशकर्ता उसके देवर मोहित व उसके साथी को जेल भेज दिया है। प्रोडक्शन वारंट पर गिरफ्तार आरोपियों को एक दिन के रिमांड पर लेकर गहन पूछताछ की गई। रिमांड पूरा होने पर आरोपियों को बुधवार अदालत में पेश किया गया। यहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। आरोपी मोहित ने अपने साथी संदीप के साथ मिलकर जेल में ही भाभी की हत्या का षड्यंत्र रचा था।

प्रभारी सीआईए-2 निरीक्षक नवीन जाखड़ ने बताया कि 21 जून की रात को पुलिस को भाली आनंदपुर में परवीन को गोली मारे जाने की सूचना मिली। इससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। एसआई रोहताश ने भाली आनंदपुर निवासी आरोपी मोहित व संदीप उर्फ बच्ची को प्रोडक्शन वारंट पर गिरफ्तार किया। दोनों अन्य वारदातों में गिरफ्तार होकर सुनारिया जेल में बंद थे। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि मोहित ने अपने साथी संदीप के साथ मिलकर जेल में ही भाभी की हत्या करने का षड्यंत्र रचा था। वारदात को अंजाम देने वाले तीन आरोपियों को पहले गिरफ्तार किया जा चुका है।

.


महान विभूतियों के नाम पर होगा सार्वजनिक स्थलों का नामकरण

युवाओं को पढ़ाया जाएगा संस्कृति-सभ्यता का पाठ