in

भाजपा नेताओं ने कन्हैयालाल के निवास को ‘पिकनिक स्पॉट’ बनाया: कांग्रेस


जयपुर, पांच जुलाई (भाषा) राजस्थान के नागरिक आपूर्ति मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने मंगलवार को मुख्य विपक्षी दल भाजपा के नेताओं ने उदयपुर हत्याकांड के पीड़ित कन्हैया लाल के आवास को पर्यटन स्थल पिकनिक स्पॉट बनाने का आरोप लगाया। खाचरियावास ने कहा कि भाजपा नेता राजनीतिक लाभ के लिए काम कर रहे हैं।

मंत्री ने कहा कि भाजपा नेताओं की गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जब उदयपुर की घटना हुई तब वे हैदराबाद के होटलों में मजे कर रहे थे।

भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां मंगलवार को उदयपुर में कन्हैयालाल के परिजनों से मिले और सांत्वना दी। उल्लेखनीय है कि इससे पहले केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह, पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे भी पीड़ित परिवार से मिलने गयी थी ।

पूनियां ने बाद में संवाददाताओं से बातचीत में कहा,’राज्य सरकार कन्हैयालाल को सुरक्षा उपलब्ध कराती तो यह हालात नहीं बनते, यह हत्याकांड राज्य सरकार, पुलिस-प्रशासन, इंटेलिजेंस और गृह विभाग की लापरवाही है, हत्यारों को फांसी हो, जिससे यह संदेश देश और दुनिया में जाएगा।’

उन्होंने कहा कि राजस्थान की गुप्तचर एजेंसियों की कमजोरी, सरकार की कमजोर और लचर कानून व्यवस्था के कारण अलगाववादियों को लगा होगा कि इस शांतिपूर्ण प्रदेश में इन गतिविधियों को कारित किया जा सकता है।

वहीं राज्य में सत्तारूढ़ कांग्रेस ने भाजपा नेताओं की कन्हैया लाल के घर जाने को लेकर पार्टी पर निशाना साधा। खाचरियावास ने संवाददाताओं से कहा कि ‘इन लोगों (भाजपा नेताओं) की घटना के प्रति गंभीरता का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि जब कन्हैया लाल का परिवार गम में था, तब ये हैदराबाद में इकट्ठा होकर जश्न मना रहे थे।’

खाचरियावास ने कहा कि गुलाबचन्द कटारिया स्थानीय विधायक हैं और नेता प्रतिपक्ष हैं, उनकी जिम्मेदारी थी कि वो इस माहौल में उदयपुर में रुकते एवं स्थिति को काबू में रखने में सरकार की मदद करते, परन्तु 28 जून की घटना के अगले दिन ही वो हैदराबाद चले गए।

उन्होंने कहा, ‘अब तो कन्हैया लाल के घर श्रीमती वसुंधरा राजे, गजेन्द्र सिंह शेखावत समेत तमाम नेताओं में उनके घर जाने की होड़ मच गई है क्योंकि राजनीति चमकानी है, परन्तु जब उनके परिवार का गम बांटना था, तब ये सब कहां थे।’

खाचरियावास ने कहा कि मुख्यमंत्री ने इस घटना के बाद सर्वदलीय बैठक बुलाई उसमें ना तो नेता प्रतिपक्ष, ना उपनेता प्रतिपक्ष, ना ही भाजपा प्रदेशाध्यक्ष शामिल हुए।

उन्होंने कहा कि 28 जून को घटना हुई तो राजस्थान भाजपा के नेता बताएं कि इस घटना के बाद वे सब कहां गायब थे। उन्होंने कहा,’ जब पूरा राजस्थान दुखी था, गम में था तब ये हैदराबाद के फाइव स्टार होटलों में मजे कर रहे थे, इनकी खिलखिलाते, जश्न मनाते हुए तस्वीरें सामने आ रही थीं।’

खाचरियावास ने कहा कि अब ये ‘पॉलिटिकल टूरिस्ट’ बनकर उदयपुर जा रहे हैं और अनर्गल बातें कर रहे हैं।

वहीं कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा ‘‘भाजपा को केवल धार्मिक उन्माद फैलाकर अपनी राजनीतिक रोटियां सेकने में रूचि रखते है। प्रदेश के विकास में, प्रदेश में अमन चैन कैसे रहे.. लोगों की समस्याओं का निवारण कैसे हो.. उनके दुख दर्द में कैसे शामिल हो.. उनको सांत्वना दे इसमें इनकी कोई रुचि नहीं है।’’

इसके साथ ही उन्होंने पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना ईआरसीपी को लेकर भी भाजपा नेताओं विशेषकर केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत पर निशाना साधा।

.


उदयपुर के ‘गुनहगारों’ पर सियासत जारी, डोटसरा ने BJP कनेक्शन का हवाला देकर NIA को लिखी चिट्‌ठी, राठौड़ बोले- ये ओछी राजनीति

भारत में शीर्ष 5 सबसे किफायती स्कूटर: हीरो डेस्टिनी, होंडा एक्टिवा और बहुत कुछ