in

बॉयलर से निकली लपट में झुलसे पांच में से चार की मौत


ख़बर सुनें

बीते शुक्रवार को गांव खुर्शीद नगर में लगे पावर प्लांट के ब्वॉलर से निकली लपट में झुलसे पांच लोगों में से चार की इलाज के दौरान मौत हो गई। ग्रामीणों ने इस हादसे में लगातार मौत होने के बाद शव को रखकर यातायात जाम कर दिया है। वहीं पावर प्लाट पर पुलिस तैनात कर दी गई है। उधर इन घायलों की मौत होने के बाद गांव मुमताजपुर निवासी मृतक नरेंद्र के पिता नरेश की शिकायत पर नाहड़ पुलिस चौकी ने प्लांट मालिक राजपाल के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।
नरेश ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि उसका लड़का गांव खुर्शीद नगर स्थित प्लांट में नौकरी करता था। जहां मेरे लड़के ने बताया था कि हमारी ड्यूटी जहां आग निकलती है वहां मालिक ने लगा रखी है जहां कोई भी सुरक्षा के उपकरण उपलब्ध नहीं है और कोई हादसा हो जाए तो बचाव के लिए कोई व्यवस्था नहीं है। लिहाजा मेरे लड़के की जान प्लांट मालिक राजपाल की लापरवाही के चलते गई है। इसके लिए उसके खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाए। उधर सूचना मिली है कि इस हादसे में घायल होने वाले पांच में से केवल एक व्यक्ति का इलाज चल रहा है, जबकि मृतकों में गुजरात निवासी छोटेलाल, योगेश और मुमताजपुर निवासी नरेंद्र शामिल हैं।
बता दें, इस प्लांट में गैस पाइप लाइन में अचानक प्रेशर बन गया, जिससे वहां लगे ब्वॉलर ने बैक मारा और वहां निकली लपट की वजह से आग लग गई और बिना सुरक्षा उपकरण के काम कर रहे पांच युवक आग में बुरी तरह झुलस गए। इस हादसे में कोसली क्षेत्र के गांव भड़ंगी निवासी संजय, मुमताजपुर निवासी नरेंद्र, गुजरात निवासी छोटेलाल, केशव और योगेंद्र झुलस गए थे। इनमें से कुछ को गुरुग्राम जबकि कुछ को इलाज के लिए दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था।
शनिवार देर रात तक गुजरात निवासी तीनों युवकों के शवों को पंचनामा कार्रवाई के बाद परिजनों को सौंपकर गुजरात भिजवा दिया गया। जबकि प्रदेश के कोसली क्षेत्र निवासी मुमताजपुर निवासी नरेंद्र की रविवार को मौत हुई। रविवार को जैसे ही युवक नरेंद्र की मौत की खबर आई इसके बाद कोसली क्षेत्र के आसपास के गांवों से ग्रामीणों ने पावर प्लांट के सामने धरना दे दिया। इस मौके पर कोसली और नाहड़ की पुलिस मौके पर तैनात है। प्लांट के बाहर ग्रामीण धरने पर बैठे हैं। एसएचओ कोसली सुमेर सिंह ग्रामीणों को समझाने की कोशिश में जुटे हैं। धरने में अढ़ाई सौ से अधिक ग्रामीण बैठे हुए हैं।
वहीं एसडीएम कोसली होशियार सिंह ने मौके पर पहुंचकर इस पावर प्लांट के सामने धरना लगाए बैठे ग्रामीणों को आश्वासन देते हुए बताया कि इस मामले में प्लांट मालिक के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है। पुलिस को संबंधित की जल्द गिरफ्तारी के निर्देश दिए गए हैं। ग्रामीणों की ओर से इस प्लांट को सील करने की कार्रवाई को लेकर एसडीएम ने कहा कि जिला मुख्यालय पर सूचना देकर उद्योग विभाग के निरीक्षक स्तर के अधिकारी को मौके पर बुलवाया गया है। उसकी रिपोर्ट के आधार पर आगामी कार्रवाई की जाएगी। उधर इस मामले में प्रशासन के इस कदम को देखते हुए ग्रामीणों की दस सदस्यीय कमेटी भी गठित कर दी गई है जो प्रशासन की ओर से इस प्लांट को सील करने की कार्रवाई पर निगरानी रखेगी।
उधर प्लांट के आसपास प्रशासन ने पुलिस का कड़ा पहरा बिठा दिया है ताकि नाराज ग्रामीणों की ओर से इस प्लांट को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया जाए। चार घंटे से अधिक समय तक चले इस घटनाक्रम में एसडीएम कोसली होशियार सिंह के ठोस आश्वासन के बाद ग्रामीण धरने से उठ गए और बाद में मृतक नरेंद्र के शव का उनके पैतृक गांव में अंतिम संस्कार कर दिया गया।
हमने गांव मुमताजपुर निवासी मृतक नरेंद्र के पिता नरेश की शिकायत पर प्लांट मालिक खुर्शीद नगर निवासी राजपाल के विरुद्घ मामला दर्ज कर लिया है। कानूनी कार्रवाई जारी है।
– सुमेर सिंह, थाना प्रभारी, कोसली।
यह मामला मेरे संज्ञान में आया है। मौके पर जाकर ग्रामीणों से मिलकर आया हूं। प्लांट मालिक के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा रही है। यह घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। किसी के साथ नाइंसाफी नहीं होने दी जाएगी। इस मामले में चार युवाओं की मौत को देखते हुए नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।
– होशियार सिंह, एसडीएम, कोसली।

बीते शुक्रवार को गांव खुर्शीद नगर में लगे पावर प्लांट के ब्वॉलर से निकली लपट में झुलसे पांच लोगों में से चार की इलाज के दौरान मौत हो गई। ग्रामीणों ने इस हादसे में लगातार मौत होने के बाद शव को रखकर यातायात जाम कर दिया है। वहीं पावर प्लाट पर पुलिस तैनात कर दी गई है। उधर इन घायलों की मौत होने के बाद गांव मुमताजपुर निवासी मृतक नरेंद्र के पिता नरेश की शिकायत पर नाहड़ पुलिस चौकी ने प्लांट मालिक राजपाल के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

नरेश ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि उसका लड़का गांव खुर्शीद नगर स्थित प्लांट में नौकरी करता था। जहां मेरे लड़के ने बताया था कि हमारी ड्यूटी जहां आग निकलती है वहां मालिक ने लगा रखी है जहां कोई भी सुरक्षा के उपकरण उपलब्ध नहीं है और कोई हादसा हो जाए तो बचाव के लिए कोई व्यवस्था नहीं है। लिहाजा मेरे लड़के की जान प्लांट मालिक राजपाल की लापरवाही के चलते गई है। इसके लिए उसके खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाए। उधर सूचना मिली है कि इस हादसे में घायल होने वाले पांच में से केवल एक व्यक्ति का इलाज चल रहा है, जबकि मृतकों में गुजरात निवासी छोटेलाल, योगेश और मुमताजपुर निवासी नरेंद्र शामिल हैं।

बता दें, इस प्लांट में गैस पाइप लाइन में अचानक प्रेशर बन गया, जिससे वहां लगे ब्वॉलर ने बैक मारा और वहां निकली लपट की वजह से आग लग गई और बिना सुरक्षा उपकरण के काम कर रहे पांच युवक आग में बुरी तरह झुलस गए। इस हादसे में कोसली क्षेत्र के गांव भड़ंगी निवासी संजय, मुमताजपुर निवासी नरेंद्र, गुजरात निवासी छोटेलाल, केशव और योगेंद्र झुलस गए थे। इनमें से कुछ को गुरुग्राम जबकि कुछ को इलाज के लिए दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

शनिवार देर रात तक गुजरात निवासी तीनों युवकों के शवों को पंचनामा कार्रवाई के बाद परिजनों को सौंपकर गुजरात भिजवा दिया गया। जबकि प्रदेश के कोसली क्षेत्र निवासी मुमताजपुर निवासी नरेंद्र की रविवार को मौत हुई। रविवार को जैसे ही युवक नरेंद्र की मौत की खबर आई इसके बाद कोसली क्षेत्र के आसपास के गांवों से ग्रामीणों ने पावर प्लांट के सामने धरना दे दिया। इस मौके पर कोसली और नाहड़ की पुलिस मौके पर तैनात है। प्लांट के बाहर ग्रामीण धरने पर बैठे हैं। एसएचओ कोसली सुमेर सिंह ग्रामीणों को समझाने की कोशिश में जुटे हैं। धरने में अढ़ाई सौ से अधिक ग्रामीण बैठे हुए हैं।

वहीं एसडीएम कोसली होशियार सिंह ने मौके पर पहुंचकर इस पावर प्लांट के सामने धरना लगाए बैठे ग्रामीणों को आश्वासन देते हुए बताया कि इस मामले में प्लांट मालिक के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है। पुलिस को संबंधित की जल्द गिरफ्तारी के निर्देश दिए गए हैं। ग्रामीणों की ओर से इस प्लांट को सील करने की कार्रवाई को लेकर एसडीएम ने कहा कि जिला मुख्यालय पर सूचना देकर उद्योग विभाग के निरीक्षक स्तर के अधिकारी को मौके पर बुलवाया गया है। उसकी रिपोर्ट के आधार पर आगामी कार्रवाई की जाएगी। उधर इस मामले में प्रशासन के इस कदम को देखते हुए ग्रामीणों की दस सदस्यीय कमेटी भी गठित कर दी गई है जो प्रशासन की ओर से इस प्लांट को सील करने की कार्रवाई पर निगरानी रखेगी।

उधर प्लांट के आसपास प्रशासन ने पुलिस का कड़ा पहरा बिठा दिया है ताकि नाराज ग्रामीणों की ओर से इस प्लांट को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया जाए। चार घंटे से अधिक समय तक चले इस घटनाक्रम में एसडीएम कोसली होशियार सिंह के ठोस आश्वासन के बाद ग्रामीण धरने से उठ गए और बाद में मृतक नरेंद्र के शव का उनके पैतृक गांव में अंतिम संस्कार कर दिया गया।

हमने गांव मुमताजपुर निवासी मृतक नरेंद्र के पिता नरेश की शिकायत पर प्लांट मालिक खुर्शीद नगर निवासी राजपाल के विरुद्घ मामला दर्ज कर लिया है। कानूनी कार्रवाई जारी है।

– सुमेर सिंह, थाना प्रभारी, कोसली।

यह मामला मेरे संज्ञान में आया है। मौके पर जाकर ग्रामीणों से मिलकर आया हूं। प्लांट मालिक के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा रही है। यह घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। किसी के साथ नाइंसाफी नहीं होने दी जाएगी। इस मामले में चार युवाओं की मौत को देखते हुए नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

– होशियार सिंह, एसडीएम, कोसली।

.


24 घंटे तक बिजली, मोबाइल व वाहन के बिना रहकर दिया पर्यावरण संरक्षण का संदेश

उम्मीद की मशाल : हादसे में एक पांव गंवाने के बावजूद नहीं टूटा हौसला, खाकी वाला जगा रहा पर्यावरण संरक्षण की अलख