बेटे को नौकरी दिलाने का झांसा दे आठ लाख रुपये ठगने का आरोप


ख़बर सुनें

गोहाना (सोनीपत)। रामनगर की महिला ने बेटे को काम (नौकरी) दिलाने का झांसा देकर दो लोगों पर आठ लाख रुपये ठगने का आरोप लगाया है। महिला ने आरोपियों पर कार्रवाई के लिए विभिन्न स्तर पर पुलिस अधिकारियों को शिकायत दी, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई। इस पर पीड़िता ने न्यायालय की शरण ली। अदालत के आदेश पर शहर थाना गोहाना में मुकदमा दर्ज किया गया है।
राम नगर की शीला देवी ने कोर्ट में दायर इस्तगासा में बताया है कि 10 साल पहले उनका परिवार शिव नगर में बलराज सिंह के मकान में किराये पर रहता था। बाद में उन्होंने राम नगर में प्लाट लेकर अपना मकान बनाया और वहां रहने लगे। सितंबर 2021 में बलराज सिंह ने उसके बेटे राहुल के पास फोन करके बताया कि उसका दोस्त भिवानी में धरवणबास का जितेंद्र उसे काम दिलवा सकता है, जिसकी एवज में आठ लाख रुपये लेगा। कुछ दिन बाद बलराज सिंह उनके घर आया और शीला देवी को विश्वास दिलाया कि वह उसके बेटे को काम दिलवा देगा। इसके लिए महिला ने उसे दो लाख रुपये एडवांस दे दिए। इसके बाद एक लाख रुपये रायपुर में ट्रेनिंग पर भेजने के नाम पर वसूल लिए। इसके बाद आरोपियों ने राहुल को रायपुर भेज दिया। कुछ दिन बाद दोनों आरोपी उसके घर आए और बोले कि उसके बेटे का काम पूरा हो गया है और बकाया पांच लाख रुपये मांगे। शीला देवी ने पांच लाख रुपये और दे दिए। आरोपियों ने इसके बाद राहुल को काम नहीं दिलाया। इस पर महिला ने अपने रुपये वापस मांगे। आरोप है कि इसके बाद जितेंद्र ने महिला के पास चार चेक भेज दिए। इन चेकों को बैंक में लगाया गया तो वहां हस्ताक्षरों का मिलान नहीं हुआ। शीला देवी के अनुसार इसके बाद रुपये मांगने पर आरोपी धमकी देने लगे। इस संबंध में पुलिस अधिकारियों को स्पीड पोस्ट से शिकायत भेजी गई, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई। इसके बाद अदालत की शरण ली। अदालत के आदेश पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है।

गोहाना (सोनीपत)। रामनगर की महिला ने बेटे को काम (नौकरी) दिलाने का झांसा देकर दो लोगों पर आठ लाख रुपये ठगने का आरोप लगाया है। महिला ने आरोपियों पर कार्रवाई के लिए विभिन्न स्तर पर पुलिस अधिकारियों को शिकायत दी, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई। इस पर पीड़िता ने न्यायालय की शरण ली। अदालत के आदेश पर शहर थाना गोहाना में मुकदमा दर्ज किया गया है।

राम नगर की शीला देवी ने कोर्ट में दायर इस्तगासा में बताया है कि 10 साल पहले उनका परिवार शिव नगर में बलराज सिंह के मकान में किराये पर रहता था। बाद में उन्होंने राम नगर में प्लाट लेकर अपना मकान बनाया और वहां रहने लगे। सितंबर 2021 में बलराज सिंह ने उसके बेटे राहुल के पास फोन करके बताया कि उसका दोस्त भिवानी में धरवणबास का जितेंद्र उसे काम दिलवा सकता है, जिसकी एवज में आठ लाख रुपये लेगा। कुछ दिन बाद बलराज सिंह उनके घर आया और शीला देवी को विश्वास दिलाया कि वह उसके बेटे को काम दिलवा देगा। इसके लिए महिला ने उसे दो लाख रुपये एडवांस दे दिए। इसके बाद एक लाख रुपये रायपुर में ट्रेनिंग पर भेजने के नाम पर वसूल लिए। इसके बाद आरोपियों ने राहुल को रायपुर भेज दिया। कुछ दिन बाद दोनों आरोपी उसके घर आए और बोले कि उसके बेटे का काम पूरा हो गया है और बकाया पांच लाख रुपये मांगे। शीला देवी ने पांच लाख रुपये और दे दिए। आरोपियों ने इसके बाद राहुल को काम नहीं दिलाया। इस पर महिला ने अपने रुपये वापस मांगे। आरोप है कि इसके बाद जितेंद्र ने महिला के पास चार चेक भेज दिए। इन चेकों को बैंक में लगाया गया तो वहां हस्ताक्षरों का मिलान नहीं हुआ। शीला देवी के अनुसार इसके बाद रुपये मांगने पर आरोपी धमकी देने लगे। इस संबंध में पुलिस अधिकारियों को स्पीड पोस्ट से शिकायत भेजी गई, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई। इसके बाद अदालत की शरण ली। अदालत के आदेश पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

गांव मिल्क शेखां में पीलिया ने पसारे पैर, 15 लोग बीमार

योग दिवस पर भव्य आयोजन