in

बीमा कंपनी की लूट बंद नहीं हुई तो भाकियू करेगी आंदोलन


ख़बर सुनें

जींद। किसानों के बैंक खाते से फसलों की बीमा प्रीमियम की किश्त काटने को लेकर भाकियू भड़की गई। भाकियू नेताओं ने लीड बैंक मैनेेजर और बीमा कंपनी के प्रतिनिधि से मिलकर बिना किसानों की सहमति बीमा किश्त काटने पर नाराजगी जताई। साफ कह दिया कि यदि बीमा कंपनियों की लूट बंद नहीं हुई तो वे आंदोलन छेड़ देंगे।
भाकियू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रामफल कंडेला, जिला प्रधान बारू राम, प्रवक्ता रामराजी ढुल, तेलुराम रुपगढ़ ने कहा कि उन्होंने पिछले महीने की पांच तारीख को किसान भवन में सभी अधिकारियों को बुलाकर किसानों की समस्याओं का समाधान करवाया था। उस बैठक में बीमा कंपनी का कोई प्रतिनिधि नहीं पहुंचा। मंगलवार को एलडीएम एचसी अहलावत ने बीमा कंपनी प्रतिनिधि अनिल को अपने कार्यालय में बुलाया और किसानों से बातचीत करवाई। रामफल कंडेला ने बीमा कंपनी प्रतिनिधि को बिना किसानों की अनुमति के बीमा राशि काटने पर कड़ी फटकार लगाई। इस पर बीमा कंपनी प्रतिनिधि ने कहा कि जो किसान लिखित में बीमा नहीं कराने की बात लिखकर देते हैं उनका बीमा नहीं किया जाता।
इस पर रामफल कंडेला ने कहा कि जो किसान अपनी फसल का बीमा करवाना चाहता है, वह खुद बैंक कार्यालय में आकर अपना प्रीमियम भर सकता है, ऐसे बिना किसानों की सहमति से उनके खाते से बीमा प्रीमियम काटना गलत बात है। कंडेला ने कहा कि आपदा के कारण जब भी किसानों की फसल खराब होती है तो उसके लिए अधिकारियों द्वारा रेंडम सर्वे करना चाहिए। इस पर अधिकारियों ने भी माना है कि उनके पास कर्मचारियों की कमी है। किसानों ने कहा कि यदि इसी प्रकार बिना किसानों की अनुमति से बीमा काटा गया तो वह लोग आंदोलन करने पर मजबूर होंगे।
जिन्हें बीमा नहीं कराना बैंक में आवेदन कर दें -एलडीएम
जो भी किसान अपनी फसल का बीमा नहीं करवाना चाहता, वह बैंक में आवेदन करके बीमा करवाने से मना कर सकता हैं। अन्य सभी किसानों का बीमा प्रीमियम उनके खातों से काटा जाएगा।
–एचसी अहलावत, एलडीएम।

जींद। किसानों के बैंक खाते से फसलों की बीमा प्रीमियम की किश्त काटने को लेकर भाकियू भड़की गई। भाकियू नेताओं ने लीड बैंक मैनेेजर और बीमा कंपनी के प्रतिनिधि से मिलकर बिना किसानों की सहमति बीमा किश्त काटने पर नाराजगी जताई। साफ कह दिया कि यदि बीमा कंपनियों की लूट बंद नहीं हुई तो वे आंदोलन छेड़ देंगे।

भाकियू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रामफल कंडेला, जिला प्रधान बारू राम, प्रवक्ता रामराजी ढुल, तेलुराम रुपगढ़ ने कहा कि उन्होंने पिछले महीने की पांच तारीख को किसान भवन में सभी अधिकारियों को बुलाकर किसानों की समस्याओं का समाधान करवाया था। उस बैठक में बीमा कंपनी का कोई प्रतिनिधि नहीं पहुंचा। मंगलवार को एलडीएम एचसी अहलावत ने बीमा कंपनी प्रतिनिधि अनिल को अपने कार्यालय में बुलाया और किसानों से बातचीत करवाई। रामफल कंडेला ने बीमा कंपनी प्रतिनिधि को बिना किसानों की अनुमति के बीमा राशि काटने पर कड़ी फटकार लगाई। इस पर बीमा कंपनी प्रतिनिधि ने कहा कि जो किसान लिखित में बीमा नहीं कराने की बात लिखकर देते हैं उनका बीमा नहीं किया जाता।

इस पर रामफल कंडेला ने कहा कि जो किसान अपनी फसल का बीमा करवाना चाहता है, वह खुद बैंक कार्यालय में आकर अपना प्रीमियम भर सकता है, ऐसे बिना किसानों की सहमति से उनके खाते से बीमा प्रीमियम काटना गलत बात है। कंडेला ने कहा कि आपदा के कारण जब भी किसानों की फसल खराब होती है तो उसके लिए अधिकारियों द्वारा रेंडम सर्वे करना चाहिए। इस पर अधिकारियों ने भी माना है कि उनके पास कर्मचारियों की कमी है। किसानों ने कहा कि यदि इसी प्रकार बिना किसानों की अनुमति से बीमा काटा गया तो वह लोग आंदोलन करने पर मजबूर होंगे।

जिन्हें बीमा नहीं कराना बैंक में आवेदन कर दें -एलडीएम

जो भी किसान अपनी फसल का बीमा नहीं करवाना चाहता, वह बैंक में आवेदन करके बीमा करवाने से मना कर सकता हैं। अन्य सभी किसानों का बीमा प्रीमियम उनके खातों से काटा जाएगा।

–एचसी अहलावत, एलडीएम।

.


आठवां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस : तेजली में 5000 लोग एक साथ करेंगे योग

आधार, आम आदमी का अधिकार योजना चलाएगा डाक विभाग