in

बिजली कटों से परेशान नौच के ग्रामीणों ने किया प्रदर्शन


ख़बर सुनें

कैथल। बिजली की समस्या से खफा गांव नौच के ग्रामीणों ने बुधवार सुबह करीब दस बजे पावर हाउस के गेट पर रोष प्रदर्शन किया। उनका कहना था कि गांव में चार-पांच घंटे ही बिजली आती है। इस दौरान भी कई कट लग जाते है। इस पावर हाउस से क्योड़क, दयौरा, डोहर में भी यहीं से बिजली जा रही है, लेकिन उनके गांव में ही पावर हाउस होने के कारण बिजली नहीं आ रही। ग्रामीणों का कहना है कि यदि जल्द ही इस समस्या का समाधान नहीं किया गया तो वह इस पावर हाउस से आसपास के गांवों में जाने वाली बिजली को काट देंगे। इसके साथ ही उन्होंने सड़कों पर उतरने और अधिकारियों का घेराव करने की भी चेतावनी दी।
नाराज ग्रामीणों का कहना है कि पावर हाउस के लिए ग्रामीणों ने निशुल्क जमीन दी थी, लेकिन ग्रामीणों को ही बिजली पर्याप्त मात्रा में नहीं मिल रही। गांव से बिजली को आसपास के गांव में भेजी जा रही है। गांव में कई कई बार लंबे कट लगते है। ग्रामीणों ने चेतावनी दी है कि यदि जल्द ही उनकी समस्या का समाधान नहीं हुआ तो वे सड़कों पर उतरने व अधिकारियों का घेराव करने से भी पीछे नहीं हटेंगे। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि उनके गांव को पर्याप्त मात्रा में बिजली नहीं मिलेगी तो वह उनके पावर हाउस से गांव क्योड़क, दयोहरा, डोहर व थाना में जाने वाली बिजली को काट देंगे।
ग्रामीण कर्मबीर ने बताया कि उन्होंने पावर हाउस के लिए फ्री में जमीन मुहैया करवाई थी। आरोप लगाया कि मशीन पुरानी हैं। कोई मरम्मत नहीं हो रही है। कर्मचारी उनके मोबाइल नंबर को भी को ब्लैकलिस्ट में डाल देते हैं। उन्होंने बताया कि डोहर गांव की बिजली लाइन को जब किसी पावर हाउस ने नहीं लगने दी तो निगम कर्मचारियों ने उसे पावर हाउस नौच से जोड़ दिया। लोड बढ़ने के कारण अब बार-बार कट लग रहे हैं।
जिले सिंह ने बताया कि उन्हें पूरे दिन में मात्र पांच घंटे बिजली मिलती है, बार-बार कट लगते रहते हैं। खेतों में भी कम बिजली आ रही है। विक्रम ने बताया कि कर्मचारी ओवरलोड का बहाना बताते हैं। उधर, इस संबंध में निगम के कार्यकरी अभियंता मुनीष कुमार ने कहा कि वे जल्द ही समस्या का समाधान करवाएंगे। ग्रामीणों को परेशानी नहीं आने दी जाएगी।

कैथल। बिजली की समस्या से खफा गांव नौच के ग्रामीणों ने बुधवार सुबह करीब दस बजे पावर हाउस के गेट पर रोष प्रदर्शन किया। उनका कहना था कि गांव में चार-पांच घंटे ही बिजली आती है। इस दौरान भी कई कट लग जाते है। इस पावर हाउस से क्योड़क, दयौरा, डोहर में भी यहीं से बिजली जा रही है, लेकिन उनके गांव में ही पावर हाउस होने के कारण बिजली नहीं आ रही। ग्रामीणों का कहना है कि यदि जल्द ही इस समस्या का समाधान नहीं किया गया तो वह इस पावर हाउस से आसपास के गांवों में जाने वाली बिजली को काट देंगे। इसके साथ ही उन्होंने सड़कों पर उतरने और अधिकारियों का घेराव करने की भी चेतावनी दी।

नाराज ग्रामीणों का कहना है कि पावर हाउस के लिए ग्रामीणों ने निशुल्क जमीन दी थी, लेकिन ग्रामीणों को ही बिजली पर्याप्त मात्रा में नहीं मिल रही। गांव से बिजली को आसपास के गांव में भेजी जा रही है। गांव में कई कई बार लंबे कट लगते है। ग्रामीणों ने चेतावनी दी है कि यदि जल्द ही उनकी समस्या का समाधान नहीं हुआ तो वे सड़कों पर उतरने व अधिकारियों का घेराव करने से भी पीछे नहीं हटेंगे। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि उनके गांव को पर्याप्त मात्रा में बिजली नहीं मिलेगी तो वह उनके पावर हाउस से गांव क्योड़क, दयोहरा, डोहर व थाना में जाने वाली बिजली को काट देंगे।

ग्रामीण कर्मबीर ने बताया कि उन्होंने पावर हाउस के लिए फ्री में जमीन मुहैया करवाई थी। आरोप लगाया कि मशीन पुरानी हैं। कोई मरम्मत नहीं हो रही है। कर्मचारी उनके मोबाइल नंबर को भी को ब्लैकलिस्ट में डाल देते हैं। उन्होंने बताया कि डोहर गांव की बिजली लाइन को जब किसी पावर हाउस ने नहीं लगने दी तो निगम कर्मचारियों ने उसे पावर हाउस नौच से जोड़ दिया। लोड बढ़ने के कारण अब बार-बार कट लग रहे हैं।

जिले सिंह ने बताया कि उन्हें पूरे दिन में मात्र पांच घंटे बिजली मिलती है, बार-बार कट लगते रहते हैं। खेतों में भी कम बिजली आ रही है। विक्रम ने बताया कि कर्मचारी ओवरलोड का बहाना बताते हैं। उधर, इस संबंध में निगम के कार्यकरी अभियंता मुनीष कुमार ने कहा कि वे जल्द ही समस्या का समाधान करवाएंगे। ग्रामीणों को परेशानी नहीं आने दी जाएगी।

.


आरटीआई कार्यकर्ता पर चाकू से हमला

ईश्वर सिंह परिवार के बड़े हैं, उन्हें मना लेंगे : दुष्यंत