बाजार में बेचा गरीबों का बाजरा


ख़बर सुनें

करनाल। गरीबों को दिए जाने वाले राशन का गबन करने के मामले लगातार सामने आते जा रहे हैं। अब डीएफएससी विभाग में बाजरे का गबन किए जाने का मामला सामने आया है। शिकायत मिलने पर विभाग ने शुरू कर दी है। शिकायत में आरोप लगाया गया है कि मॉडल टाउन डिपो होल्डर ने गरीबों को दिए जाने वाला बाजरे को बाजार में बेच दिया गया है। इतना ही नहीं इस डिपो में फर्जी बीपीएल राशन कार्ड भी हैं।
यह छठे मामले की शिकायत आई है। इससे पहले विभाग की ओर से सेक्टर-32 थाना में पहले पांच मामले दर्ज कराए गए हैं। जिनमें 225 राशन कार्ड फर्जी बनाए गए हैं लेकिन इन मामलों में पुलिस अभी तक डीएफएससी निरीक्षक देवेंद्र मान, अरुण उर्फ अभिषेक सहित तीन आरोपियों को ही गिरफ्तार कर पाई है।
डीएफएससी विभाग को दी शिकायत में गांव खराजपुर निवासी विकास ने शिकायत में बताया कि फरवरी 2022 में सरकार की ओर से गरीबों को वितरित करने के लिए बाजरा आया था। डिपो होल्डर राजेश गुप्ता ने इस बाजरे को पीओएस मशीन में अंगुठा लगवाकर बाजार में बेच दिया है। इतना ही नहीं इस डिपो पर फर्जी बीपीएल राशन कार्ड भी बने हुए है। शिकायत में विकास ने मॉडल टाउन राजेश गुप्ता डिपो होल्डर की फरवरी 2022 में बाजरा वितरण और फर्जी बीपीएल राशन कार्ड की जांच कराने की मांग की है।
शिकायतकर्ता का आरोप है कि राशन गबन और फर्जी बीपीएल राशन कार्ड बनाने के मामले में मुख्य आरोपी राजकरण है। वही आरोपी सस्ते दाम पर गरीबों का राशन खरीदता था और फिर उसे महंगे दामों में बेचता था। राजकरण ने ही अपने एक साथी के नाम से डिपो लिया हुआ था और उसकी मशीन में नॉमिनी बना था। इतना ही नहीं एक मशीन में उसकी पत्नी भी नॉमिनी बनी हुई थी। मॉडल टाउन डिपो पर ही वह राशन गबन का खेल खेलता था।
दो से तीन साल की संपत्ति की जांच कराएं
शिकायतकर्ता का आरोप है कि आरोपी राजकरण ने करोड़ों की संपत्ति बनाई हुई है। यह सब संपत्ति गरीबों का राशन बेचकर बनाई गई है।पुलिस इस आरोपी को गिरफ्तार करे और फिर इसकी दो से तीन साल की संपत्ति की जांच कराई जाए, जिससे यखुलासा हो जाएगा कि आरोपी ने कितने रुपये का राशन का गबन किया हुआ है।
कोट
मॉडल टाउन डिपो होल्डर राजेश गुप्ता की शिकायत मिली है कि फरवरी 2022 में बाजरे वितरण की जांच कराई जाए। शिकायत में आरोप है कि इस दौरान बाजरे को बाजार में बेचा गया है। इस शिकायत पर जांच कराई जा रही है। – कप्तान, आईडी इंचार्ज, डीएफएससी करनाल।

करनाल। गरीबों को दिए जाने वाले राशन का गबन करने के मामले लगातार सामने आते जा रहे हैं। अब डीएफएससी विभाग में बाजरे का गबन किए जाने का मामला सामने आया है। शिकायत मिलने पर विभाग ने शुरू कर दी है। शिकायत में आरोप लगाया गया है कि मॉडल टाउन डिपो होल्डर ने गरीबों को दिए जाने वाला बाजरे को बाजार में बेच दिया गया है। इतना ही नहीं इस डिपो में फर्जी बीपीएल राशन कार्ड भी हैं।

यह छठे मामले की शिकायत आई है। इससे पहले विभाग की ओर से सेक्टर-32 थाना में पहले पांच मामले दर्ज कराए गए हैं। जिनमें 225 राशन कार्ड फर्जी बनाए गए हैं लेकिन इन मामलों में पुलिस अभी तक डीएफएससी निरीक्षक देवेंद्र मान, अरुण उर्फ अभिषेक सहित तीन आरोपियों को ही गिरफ्तार कर पाई है।

डीएफएससी विभाग को दी शिकायत में गांव खराजपुर निवासी विकास ने शिकायत में बताया कि फरवरी 2022 में सरकार की ओर से गरीबों को वितरित करने के लिए बाजरा आया था। डिपो होल्डर राजेश गुप्ता ने इस बाजरे को पीओएस मशीन में अंगुठा लगवाकर बाजार में बेच दिया है। इतना ही नहीं इस डिपो पर फर्जी बीपीएल राशन कार्ड भी बने हुए है। शिकायत में विकास ने मॉडल टाउन राजेश गुप्ता डिपो होल्डर की फरवरी 2022 में बाजरा वितरण और फर्जी बीपीएल राशन कार्ड की जांच कराने की मांग की है।

शिकायतकर्ता का आरोप है कि राशन गबन और फर्जी बीपीएल राशन कार्ड बनाने के मामले में मुख्य आरोपी राजकरण है। वही आरोपी सस्ते दाम पर गरीबों का राशन खरीदता था और फिर उसे महंगे दामों में बेचता था। राजकरण ने ही अपने एक साथी के नाम से डिपो लिया हुआ था और उसकी मशीन में नॉमिनी बना था। इतना ही नहीं एक मशीन में उसकी पत्नी भी नॉमिनी बनी हुई थी। मॉडल टाउन डिपो पर ही वह राशन गबन का खेल खेलता था।

दो से तीन साल की संपत्ति की जांच कराएं

शिकायतकर्ता का आरोप है कि आरोपी राजकरण ने करोड़ों की संपत्ति बनाई हुई है। यह सब संपत्ति गरीबों का राशन बेचकर बनाई गई है।पुलिस इस आरोपी को गिरफ्तार करे और फिर इसकी दो से तीन साल की संपत्ति की जांच कराई जाए, जिससे यखुलासा हो जाएगा कि आरोपी ने कितने रुपये का राशन का गबन किया हुआ है।

कोट

मॉडल टाउन डिपो होल्डर राजेश गुप्ता की शिकायत मिली है कि फरवरी 2022 में बाजरे वितरण की जांच कराई जाए। शिकायत में आरोप है कि इस दौरान बाजरे को बाजार में बेचा गया है। इस शिकायत पर जांच कराई जा रही है। – कप्तान, आईडी इंचार्ज, डीएफएससी करनाल।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

विजेता अब रोहतक में दिखाएंगे चमक

नर्स के पद पर भर्ती करवाने का झांसा देकर आठ लाख रुपये ठगे