in

बरसात में अंडरपास में नहीं होगा जलभराव


ख़बर सुनें

गुरुग्राम। इस बार बरसात में शहर के अंडरपास में जलभराव नहीं होगा। जलभराव से निपटने के लिए गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण (जीएमडीए) ने तैयारियों की समीक्षा के तहत सप्ताह भर तक विशेष अभियान चलाकर मॉक ड्रिल की और अपनी तैयारियों की क्षमता का आकलन कर लिया है। पंपिंग सिस्टम से लेकर डीजी सेट आदि का आकलन किया गया, जिसमें जलनिकासी के तमाम बंदोबस्त दुरुस्त मिले हैं। इस समीक्षा के दौरान जो खामियां सामने आई हैं, उन्हें दुरुस्त करने के लिए संबंधित विभागों को निर्देश दिए गए हैं। इनमें डीएलएफ और राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) प्रमुख हैं। जीएमडीए के उच्चाधिकारियों का दावा है इस बार अंडरपास में जलभराव से निपटने के तमाम इंतजाम मुकम्मल कर लिए गए हैं। निश्चित ही जलभराव से निजात मिलेगी।
जीएमडीए की टीम ने पहले अंडरपास में पानी छोड़ा, बाद में उसे पंप के माध्यम से निकाला। इससे पंपिंग सिस्टम और डीजी के संचालन का आकलन किया गया। पंपिंग मशीनरी और डीजल जनरेटर सेट में कहीं कोई खामी नहीं मिली। जीएमडीए की ओर से एंबियंस मॉल, शंकर, इफ्को, राजीव, हीरो होंडा चौक, सिग्नेचर टावर, मेदांता रोड, इफ्को चौक मेट्रो स्टेशन से एमजी रोड अंडरपास में जलनिकासी के बंदोबस्त की मॉक ड्रिल के माध्यम से जांच की।
मॉक ड्रिल का मकसद तैयारियों की समीक्षा और खामियों को चिन्हित करना था। कुछ छोटी-छोटी खामियां हैं जिन्हें चिन्हित कर संबंधित विभाग को जल्द दुरुस्त करने के निर्देश दिए गए हैं। बरसात से पहले उन्हें दूर कर लिया जाएगा। बरसात के दौरान जलभराव वाले स्थानों पर टीमें भी तैनात की जाएंगी।
-राजेश बंसल, मुख्य अभियंता, इंफ्रा-2, जीएमडीए

गुरुग्राम। इस बार बरसात में शहर के अंडरपास में जलभराव नहीं होगा। जलभराव से निपटने के लिए गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण (जीएमडीए) ने तैयारियों की समीक्षा के तहत सप्ताह भर तक विशेष अभियान चलाकर मॉक ड्रिल की और अपनी तैयारियों की क्षमता का आकलन कर लिया है। पंपिंग सिस्टम से लेकर डीजी सेट आदि का आकलन किया गया, जिसमें जलनिकासी के तमाम बंदोबस्त दुरुस्त मिले हैं। इस समीक्षा के दौरान जो खामियां सामने आई हैं, उन्हें दुरुस्त करने के लिए संबंधित विभागों को निर्देश दिए गए हैं। इनमें डीएलएफ और राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) प्रमुख हैं। जीएमडीए के उच्चाधिकारियों का दावा है इस बार अंडरपास में जलभराव से निपटने के तमाम इंतजाम मुकम्मल कर लिए गए हैं। निश्चित ही जलभराव से निजात मिलेगी।

जीएमडीए की टीम ने पहले अंडरपास में पानी छोड़ा, बाद में उसे पंप के माध्यम से निकाला। इससे पंपिंग सिस्टम और डीजी के संचालन का आकलन किया गया। पंपिंग मशीनरी और डीजल जनरेटर सेट में कहीं कोई खामी नहीं मिली। जीएमडीए की ओर से एंबियंस मॉल, शंकर, इफ्को, राजीव, हीरो होंडा चौक, सिग्नेचर टावर, मेदांता रोड, इफ्को चौक मेट्रो स्टेशन से एमजी रोड अंडरपास में जलनिकासी के बंदोबस्त की मॉक ड्रिल के माध्यम से जांच की।

मॉक ड्रिल का मकसद तैयारियों की समीक्षा और खामियों को चिन्हित करना था। कुछ छोटी-छोटी खामियां हैं जिन्हें चिन्हित कर संबंधित विभाग को जल्द दुरुस्त करने के निर्देश दिए गए हैं। बरसात से पहले उन्हें दूर कर लिया जाएगा। बरसात के दौरान जलभराव वाले स्थानों पर टीमें भी तैनात की जाएंगी।

-राजेश बंसल, मुख्य अभियंता, इंफ्रा-2, जीएमडीए

.


नूपुर शर्मा की जुबान काटने पर एक करोड़ रुपये देगी भीम सेना

ठोस कचरा प्रबंधन में लापरवाही पड़ी भारी