in

प्रचंड गर्मी से जीना मुहाल, सड़कों पर सन्नाटा


ख़बर सुनें

संवाद न्यूज एजेंसी
करनाल। लोगों को प्रचंड गर्मी का सामना करना पड़ रहा है। सुबह होते ही आसमान से आग बरसने लगती है। बुधवार को भी गर्मी ने खूब पसीना छुड़ाया। लू के थपेड़ों ने पशु-पक्षियों तक को बेहाल कर दिया। सुबह से ही झुलसाने वाली गर्मी का अहसास हुआ। दोपहर में सड़कों और बाजारों में सन्नाटा पसर गया।
हालांकि बुधवार को पिछले 24 घंटे की तुलना में जिले में अधिकतम तापमान में एक डिग्री सेल्सियस की गिरावट आई, वहीं न्यूनतम तापमान में 2.2 डिग्री सेल्सियस वृद्धि दर्ज की गई। आगे भी कई दिन तक रातें गर्म रहने का पूर्वानुमान है।
भारतीय मौसम विज्ञान विभाग चंडीगढ़ का पूर्वानुमान है कि 10 जून को हल्के बादल छा सकते हैं, लेकिन बूंदाबांदी के आसार नहीं हैं। 13 व 14 जून को भी बादल दिखाई दे सकते हैं। पूर्वानुमान है कि 14 जून तक अधिकतम तापमान 42 से 43 डिग्री सेल्सियस तक और न्यूनतम तापमान 28 से 31 डिग्री सेल्सियस के बीच संभावित है।
केंद्रीय मृदा लवणता अनुसंधान संस्थान के प्रधान वैज्ञानिक डॉ. डीएस बुंदेला के अनुसार बुधवार को अधिकतम तापमान 42.6 व न्यूनतम 29.0 डिग्री सेल्सियस रहा। नमी सुबह 35 व दोपहर को 21 प्रतिशत रही। वाष्प दाब 5.9 एमम रहा। हवा की औसत रफ्तार सुबह 1.3 व दोपहर को 5.9 किलोमीटर प्रति घंटा रही। एक दिन पूर्व मंगलवार को अधिकतम तापमान 43.6 व न्यूनतम 26.8 डिग्री सेल्सियस था। पिछले वर्ष आठ जून को अधिकतम तापमान 39.0 व न्यूनतम 28.1 डिग्री सेल्सियस था।
लगातार पीते रहें पानी
चिकित्सकों का कहना है कि तेज गर्म हवाओं से शरीर में पानी की कमी होने का अंदेशा बना रहता है। डिहाइड्रेशन में आने से पेट की बीमारी सबसे अधिक होती है। इसके साथ ही पानी की कमी से आंखों की बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए बार-बार पानी पीते रहें, ताकि किसी तरह की समस्या न हो।

संवाद न्यूज एजेंसी

करनाल। लोगों को प्रचंड गर्मी का सामना करना पड़ रहा है। सुबह होते ही आसमान से आग बरसने लगती है। बुधवार को भी गर्मी ने खूब पसीना छुड़ाया। लू के थपेड़ों ने पशु-पक्षियों तक को बेहाल कर दिया। सुबह से ही झुलसाने वाली गर्मी का अहसास हुआ। दोपहर में सड़कों और बाजारों में सन्नाटा पसर गया।

हालांकि बुधवार को पिछले 24 घंटे की तुलना में जिले में अधिकतम तापमान में एक डिग्री सेल्सियस की गिरावट आई, वहीं न्यूनतम तापमान में 2.2 डिग्री सेल्सियस वृद्धि दर्ज की गई। आगे भी कई दिन तक रातें गर्म रहने का पूर्वानुमान है।

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग चंडीगढ़ का पूर्वानुमान है कि 10 जून को हल्के बादल छा सकते हैं, लेकिन बूंदाबांदी के आसार नहीं हैं। 13 व 14 जून को भी बादल दिखाई दे सकते हैं। पूर्वानुमान है कि 14 जून तक अधिकतम तापमान 42 से 43 डिग्री सेल्सियस तक और न्यूनतम तापमान 28 से 31 डिग्री सेल्सियस के बीच संभावित है।

केंद्रीय मृदा लवणता अनुसंधान संस्थान के प्रधान वैज्ञानिक डॉ. डीएस बुंदेला के अनुसार बुधवार को अधिकतम तापमान 42.6 व न्यूनतम 29.0 डिग्री सेल्सियस रहा। नमी सुबह 35 व दोपहर को 21 प्रतिशत रही। वाष्प दाब 5.9 एमम रहा। हवा की औसत रफ्तार सुबह 1.3 व दोपहर को 5.9 किलोमीटर प्रति घंटा रही। एक दिन पूर्व मंगलवार को अधिकतम तापमान 43.6 व न्यूनतम 26.8 डिग्री सेल्सियस था। पिछले वर्ष आठ जून को अधिकतम तापमान 39.0 व न्यूनतम 28.1 डिग्री सेल्सियस था।

लगातार पीते रहें पानी

चिकित्सकों का कहना है कि तेज गर्म हवाओं से शरीर में पानी की कमी होने का अंदेशा बना रहता है। डिहाइड्रेशन में आने से पेट की बीमारी सबसे अधिक होती है। इसके साथ ही पानी की कमी से आंखों की बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए बार-बार पानी पीते रहें, ताकि किसी तरह की समस्या न हो।

.


धान रोपाई से पहले चोर सक्रिय, खेतों से चुरा रहे ट्रांसफार्मर का सामान

प्यासे मजदूरों ने पेड़ गिराकर लगाया जाम