in

पुलिस की खामियों के कारण गई बेटे की जान ,सभी आरोपियों की गिरफ्तारी तक नहीं उठाएंगे शव


ख़बर सुनें

हिसार। आदमपुर के जवाहर नगर निवासी 21 वर्षीय शुभम की हत्या के मामले में बुधवार को परिजनों और भीम आर्मी के सदस्यों ने शव उठाने से इनकार कर दिया। बुधवार को नागरिक अस्पताल में सीएमओ कार्यालय के बाहर धरना देकर सरकार और पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। परिजनों ने पुलिस पर कार्रवाई न करने का आरोप लगाया है।
धरने पर बैठे लोगों का कहना हैं कि जब तक मामले से जुड़े सभी आरोपी गिरफ्तार नहीं हो जाते शव नहीं उठाएंगे। इसके अलावा मृतक के परिवार को 20 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की मांग की। वहीं दूसरी तरफ डीएसपी नारायण चंद और अशोक कुमार पुलिस बल के साथ मौके पर मौजूद रहे। पुलिस ने शुभम की हत्या के मामले में तीन नामजद समेत अन्य पर हत्या और एससीएसटी एक्ट के तहत केस दर्ज किया है। दो आरोपियों को पकड़ लिया है।
सीएमओ कार्यालय के बाहर धरने पर बैठी मृतक शुभम की मां ऊषा का कहना है कि एक साल पहले भी बेटे पर हमला किया था। दो जून को बेटा खारा बरवाला में पीर बाबा की मजार पर गया था। वहां केवल, सागर, टोनी और उसके साथियों ने हमला कर दिया। इसके बाद डायल 112 पर कॉल की थी और पुलिस की एक गाड़ी मौके पर पहुंची, वह बेटे को अस्पताल लेकर आई थी। उस समय बेटे ने पुलिस कर्मियों के सामने बयान देने को कहा था, लेकिन पुलिस वालों ने कोई कार्रवाई नहीं की। पुलिस वालों ने आरोपियों के खिलाफ मारपीट कर केस दर्ज कर खानापूर्ति की, जबकि बेटे को गंभीर चोटें आई हुई थी। जब पुलिस वालों को हत्या के प्रयास की धारा जोड़ने को कहा तो साफ इनकार कर दिया।
भीम आर्मी के जिला प्रधान प्रदीप भानखड़ और प्रेस प्रवक्ता संतलाल का कहना है कि शुभम हत्याकांड में पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। अभी तक आरोपी सरेआम घूम रहे हैं। पुलिस प्रशासन और सरकार फेल साबित हो रही है। आए दिन दलितों पर अत्याचार बढ़ रहे है। जब तक आरोपियों की गिरफ्तार और मृतक के परिजनों को बीस लाख रुपये की आर्थिक मदद नहीं मिल जाती शव नहीं उठाएंगे। इस मौके पर छात्र नेता डॉ. सुरेंद्र पंवार, एडवोकेट बजरंग इंदल, संदीप, अश्वनी, महेंद्र सिंह, अजीत कुमार आदि मौजूद रहे।
बेटी ने किया था प्रेम विवाह
मृतक की मां ने कहा कि बेटी ने जयभगवान नामक युवक के साथ प्रेम विवाह किया था। जयभगवान फिलहाल सदलपुर में रहता है। बेटे पर हमला करने वाला सागर मेरे दामाद जयभगवान का दोस्त हैं। सागर ने धमकी दी थी कि तुम यहां से जाओ, जयभगवान यहां बसेगा। विरोध करने पर शुभम पर हमला किया गया है।
शुभम की हत्या मामले में तीन नामजद समेत अन्य पर हत्या और एससीएसटी एक्ट के तहत केस दर्ज किया है। दो आरोपियों को पकड़ लिया है। बाकी की तलाश में कार्रवाई की जा रही है। जल्द आरोपियों को पकड़ लिया जाएगा। – नारायण चंद, डीएसपी

हिसार। आदमपुर के जवाहर नगर निवासी 21 वर्षीय शुभम की हत्या के मामले में बुधवार को परिजनों और भीम आर्मी के सदस्यों ने शव उठाने से इनकार कर दिया। बुधवार को नागरिक अस्पताल में सीएमओ कार्यालय के बाहर धरना देकर सरकार और पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। परिजनों ने पुलिस पर कार्रवाई न करने का आरोप लगाया है।

धरने पर बैठे लोगों का कहना हैं कि जब तक मामले से जुड़े सभी आरोपी गिरफ्तार नहीं हो जाते शव नहीं उठाएंगे। इसके अलावा मृतक के परिवार को 20 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की मांग की। वहीं दूसरी तरफ डीएसपी नारायण चंद और अशोक कुमार पुलिस बल के साथ मौके पर मौजूद रहे। पुलिस ने शुभम की हत्या के मामले में तीन नामजद समेत अन्य पर हत्या और एससीएसटी एक्ट के तहत केस दर्ज किया है। दो आरोपियों को पकड़ लिया है।

सीएमओ कार्यालय के बाहर धरने पर बैठी मृतक शुभम की मां ऊषा का कहना है कि एक साल पहले भी बेटे पर हमला किया था। दो जून को बेटा खारा बरवाला में पीर बाबा की मजार पर गया था। वहां केवल, सागर, टोनी और उसके साथियों ने हमला कर दिया। इसके बाद डायल 112 पर कॉल की थी और पुलिस की एक गाड़ी मौके पर पहुंची, वह बेटे को अस्पताल लेकर आई थी। उस समय बेटे ने पुलिस कर्मियों के सामने बयान देने को कहा था, लेकिन पुलिस वालों ने कोई कार्रवाई नहीं की। पुलिस वालों ने आरोपियों के खिलाफ मारपीट कर केस दर्ज कर खानापूर्ति की, जबकि बेटे को गंभीर चोटें आई हुई थी। जब पुलिस वालों को हत्या के प्रयास की धारा जोड़ने को कहा तो साफ इनकार कर दिया।

भीम आर्मी के जिला प्रधान प्रदीप भानखड़ और प्रेस प्रवक्ता संतलाल का कहना है कि शुभम हत्याकांड में पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। अभी तक आरोपी सरेआम घूम रहे हैं। पुलिस प्रशासन और सरकार फेल साबित हो रही है। आए दिन दलितों पर अत्याचार बढ़ रहे है। जब तक आरोपियों की गिरफ्तार और मृतक के परिजनों को बीस लाख रुपये की आर्थिक मदद नहीं मिल जाती शव नहीं उठाएंगे। इस मौके पर छात्र नेता डॉ. सुरेंद्र पंवार, एडवोकेट बजरंग इंदल, संदीप, अश्वनी, महेंद्र सिंह, अजीत कुमार आदि मौजूद रहे।

बेटी ने किया था प्रेम विवाह

मृतक की मां ने कहा कि बेटी ने जयभगवान नामक युवक के साथ प्रेम विवाह किया था। जयभगवान फिलहाल सदलपुर में रहता है। बेटे पर हमला करने वाला सागर मेरे दामाद जयभगवान का दोस्त हैं। सागर ने धमकी दी थी कि तुम यहां से जाओ, जयभगवान यहां बसेगा। विरोध करने पर शुभम पर हमला किया गया है।

शुभम की हत्या मामले में तीन नामजद समेत अन्य पर हत्या और एससीएसटी एक्ट के तहत केस दर्ज किया है। दो आरोपियों को पकड़ लिया है। बाकी की तलाश में कार्रवाई की जा रही है। जल्द आरोपियों को पकड़ लिया जाएगा। – नारायण चंद, डीएसपी

.


कहीं लुटिया न डूबो दे फेसबुकिया समर्थन…

धान छोड़ने पर 5 हजार और बाजरा छोड़ने पर चार हजार रुपये मिलेंगे