in

पारा 44 डिग्री पार, गर्म हवाओं ने बढ़ाई परेशानी


ख़बर सुनें

जिले में बुधवार को पारा 44 डिग्री तक पहुंच गया। वहीं दिनभर चली गर्म हवाओं ने लोगों की परेशानी और बढ़ा दी। पिछले तीन साल के मुकाबले इस बार जून माह के पहले आठ दिन सबसे ज्यादा गर्म रहे हैं। अकेले आठ जून की बात करें तो 2019 में इस का अधिकतम तापमान 43 और न्यूनतम 27 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। इसी प्रकार 2020 में 34/23 डिग्री, 2021 में 42/30 रहा था, जबकि इस बार यह 44/29 डिग्री दर्ज किया गया। जोकि अब तक का सबसे ज्यादा है। बढ़ रहे पारे से लोगों के साथ पशु-पक्षी भी राहत के लिए बैचेन हैं।
बुधवार को सुबह 10 बजे ही लू चलने के कारण ज्यादातर लोग अपने-अपने घरों में दुबके रहे, वहीं जिन्हें कामकाज के लिए घर से बाहर निकलना पड़ा उन्होंने लू से बचने के लिए पुख्ता प्रबंध किए हुए थे। फिजीशियन डॉ. आशीष अनेजा के अनुसार तेज गर्म हवाओं के चलने से शरीर में पानी की कमी होने का अंदेशा बना रहता है। व्यक्ति के डिहाइड्रेशन में आने से पेट की बीमारियां सबसे अधिक होती हैं। इसके साथ ही पानी की कमी से आंखों की बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है। खाली पेट रहने से भी लू का असर ज्यादा होता है। ऐसे में चिकित्सक बार-बार पानी पीने की सलाह दे रहे हैं।

जिले में बुधवार को पारा 44 डिग्री तक पहुंच गया। वहीं दिनभर चली गर्म हवाओं ने लोगों की परेशानी और बढ़ा दी। पिछले तीन साल के मुकाबले इस बार जून माह के पहले आठ दिन सबसे ज्यादा गर्म रहे हैं। अकेले आठ जून की बात करें तो 2019 में इस का अधिकतम तापमान 43 और न्यूनतम 27 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। इसी प्रकार 2020 में 34/23 डिग्री, 2021 में 42/30 रहा था, जबकि इस बार यह 44/29 डिग्री दर्ज किया गया। जोकि अब तक का सबसे ज्यादा है। बढ़ रहे पारे से लोगों के साथ पशु-पक्षी भी राहत के लिए बैचेन हैं।

बुधवार को सुबह 10 बजे ही लू चलने के कारण ज्यादातर लोग अपने-अपने घरों में दुबके रहे, वहीं जिन्हें कामकाज के लिए घर से बाहर निकलना पड़ा उन्होंने लू से बचने के लिए पुख्ता प्रबंध किए हुए थे। फिजीशियन डॉ. आशीष अनेजा के अनुसार तेज गर्म हवाओं के चलने से शरीर में पानी की कमी होने का अंदेशा बना रहता है। व्यक्ति के डिहाइड्रेशन में आने से पेट की बीमारियां सबसे अधिक होती हैं। इसके साथ ही पानी की कमी से आंखों की बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है। खाली पेट रहने से भी लू का असर ज्यादा होता है। ऐसे में चिकित्सक बार-बार पानी पीने की सलाह दे रहे हैं।

.


संदिग्ध परिस्थितियों में जहरीला पदार्थ निगलने से मौत

मारपीट करने के तीन आरोपी गिरफ्तार, जेल भेजा