पानी की समस्या के लिए बूस्टर लगवाऊंगी


ख़बर सुनें

नारायणगढ़। नगर पालिका चुनाव जीतकर नई प्रधान बनी रिंकी वालिया ने चुनावी एजेंडे को पूरा करने का दावा किया। जनता का आभार जताते हुए उन्होंने कहा कि वे वार्डों में पानी की समस्याओं को देखते हुए पावर बूस्टर लगवाने का काम करेंगी। उसके बाद नारायणगढ़ को जिला बनाने की बात हो या फिर नारायणगढ़ में खेल स्टेडियम के साथ-साथ प्रेस क्लब, सभी पर काम किया जाएगा। 36 बिरादरी को साथ लेकर विकास किया जाएगा। रिंकी के पति व पूर्व प्रधान रह चुके अमित ने कहा कि नारायणगढ़ को जिला बनाने के लिए कंधे से कंधा मिला चलेंगे।
प्रमाणपत्र लेने के लिए आईना गुप्ता के छूटे पसीने
वार्ड नंबर एक की विजेता रही आईना गुप्ता जीत के बाद जश्न मनाते हुए अपने वार्ड में चली गई। बाद में जब जीत का प्रमाण पत्र देने के लिए बुलाया तो पैदल चलकर वह थक गई। पुलिस ने उन्हें स्ट्रांग रूम में जाने का रास्ता दिखाया तो वह बंद पड़ा था। इस तरह वह करीब 10 मिनट तक इधर-उधर घूमती रही। कभी पुलिस ने इधर भेजा तो कभी उधर। इस बीच पुलिस मुलाजिमों से भी मामूली सी बहस हुई। आखिर में एक पुलिस मुलाजिम उन्हें स्ट्रांग रूम के भीतर तक छोड़कर आया।
वार्ड नंबर तीन की ईवीएम में आई खराबी
मतगणना शुरू होने के बाद जैसे ही वार्ड नंबर तीन की बारी आई तो अचानक ईवीएम में तकनीकी खराबी आ गई। गिनती की घोषणा के बाद उम्मीदवार भी इंतजार करने लगे। बाद में यह निर्णय लिया गया कि वार्ड तीन का रिजल्ट सबसे आखिर में घोषित किया जाएगा। करीब चार घंटे तक संबंधित उम्मीदवार व समर्थकों की सांसें अटकी रही।

नारायणगढ़। नगर पालिका चुनाव जीतकर नई प्रधान बनी रिंकी वालिया ने चुनावी एजेंडे को पूरा करने का दावा किया। जनता का आभार जताते हुए उन्होंने कहा कि वे वार्डों में पानी की समस्याओं को देखते हुए पावर बूस्टर लगवाने का काम करेंगी। उसके बाद नारायणगढ़ को जिला बनाने की बात हो या फिर नारायणगढ़ में खेल स्टेडियम के साथ-साथ प्रेस क्लब, सभी पर काम किया जाएगा। 36 बिरादरी को साथ लेकर विकास किया जाएगा। रिंकी के पति व पूर्व प्रधान रह चुके अमित ने कहा कि नारायणगढ़ को जिला बनाने के लिए कंधे से कंधा मिला चलेंगे।

प्रमाणपत्र लेने के लिए आईना गुप्ता के छूटे पसीने

वार्ड नंबर एक की विजेता रही आईना गुप्ता जीत के बाद जश्न मनाते हुए अपने वार्ड में चली गई। बाद में जब जीत का प्रमाण पत्र देने के लिए बुलाया तो पैदल चलकर वह थक गई। पुलिस ने उन्हें स्ट्रांग रूम में जाने का रास्ता दिखाया तो वह बंद पड़ा था। इस तरह वह करीब 10 मिनट तक इधर-उधर घूमती रही। कभी पुलिस ने इधर भेजा तो कभी उधर। इस बीच पुलिस मुलाजिमों से भी मामूली सी बहस हुई। आखिर में एक पुलिस मुलाजिम उन्हें स्ट्रांग रूम के भीतर तक छोड़कर आया।

वार्ड नंबर तीन की ईवीएम में आई खराबी

मतगणना शुरू होने के बाद जैसे ही वार्ड नंबर तीन की बारी आई तो अचानक ईवीएम में तकनीकी खराबी आ गई। गिनती की घोषणा के बाद उम्मीदवार भी इंतजार करने लगे। बाद में यह निर्णय लिया गया कि वार्ड तीन का रिजल्ट सबसे आखिर में घोषित किया जाएगा। करीब चार घंटे तक संबंधित उम्मीदवार व समर्थकों की सांसें अटकी रही।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

Sidhu Moosewala Murder: दिल्ली क्राइम ब्रांच ने फतेहाबाद से धरे दो होटल संचालक, सामने आया ये सच

निकाय चुनाव में दिखा महिलाओं का दबदबा