in

पांडव सेना के युद्ध युद्ध में अब तक 9 की मौत हो गई है, 35 पूर्व विधायक के सदस्य बने हैं


जहानाबाद: बिहार की राजधानी में शनिवार को शाम को पूर्व विधायक चितरंजन शर्मा (भाजपा के पूर्व विधायक चित्तरंजन शर्मा) के सतीश शर्मा थे। घटना में वृद्धि हुई है। . विगत 26 अप्रैल के चितरंजन के मा अभिराम शर्मा के जहानाबाद और भतीजे दिनेश शर्मा को मसूड़े में मौत के घटने था।

दुर्घटना में खराब होने पर गलती होने पर दुर्घटना होने पर गलती होने पर यह खराब होने पर खराब हो जाती है। अब तक नीमा गांव में यह युद्ध हुआ है। आज की घटना को सुधीर की हत्या का जा रहा है। उलट, पांडव सेना से मनुष्य के वार में वैसी ही खतरनाक आसार है।

अब तक ए.एम.ए

बिहार का जहानाबाद और डेटाबेस का मसोड़ी 26 अप्रैल का अंतिम दिन घातक से दहल था। शहर के नामचीन स्वीट्स कारोबारी अभिराम शर्मा और उनके भतीजे दिनेश शर्मा को अपराधियों ने गोली मार कर मौत के घाट उतार दिया. अभयराम को दिखाया गया था कि वह स्थान पर स्थित था।

ये भी आगे- पटना क्राइम न्यूज़: बीजेपी के पूर्व विधायक चितरंजन शर्मा के भाई कोमारी गोय, एक की हत्या, ताज़ा की खतरनाक

कार्ड के कार्ड की गणना में शामिल राम कोमारी गो

जहानाबाद में अभिनंदन करने वालों की मौत हो गई। सबसे अच्छी बात यह है कि जहानाबाद में कौन-सा स्थान पर स्वीट्स और दैत्याकार ने घटना को सुलेखित किया था। घर की महिला सदस्य ने द्विवार्षिक संतान को जन्म दिया।

निमा गांव के 5 दोस्तों ने पांडव सेना

सूचना, 1995 के पत्ते के धनरूआना के नीमा के दोस्त चितरंजन, बत्तर सिंह, संजय सिंह, अशोक और विपिन ने पांडव सेना विज्ञान और ताबड़छड़ की घातक घटना को डेट कर रहे हैं। दैहिक, दैहिक और एंट्रेंस शामिल हैं. जहानाबाद में एक बार दुर्घटना घटी थी। बाद में अलग-अलग क्रमांक और कंप्यूटर से संबंधित हों।

आज दो भाई को छलछला

चितरंजन ने राजनेता में कदम रखा और अरवल से 2015 में विधायक बने। संजय ने भी लोजपा के स्विच से कनेक्ट होने के बाद मतदान किया था। चंद चंद जी पांडव सेना के बबलू और अशोक सिंह की घातक गढ़वा में. 26 अप्रैल 2020 को नदवा स्टेशन पर संजय को तीन बच्चे मरी, बच्चे बच गए। 26 अप्रैल 2022 को बदला गया बदला लेने के लिए मार डाला और दोबारा हमला किया।

ये भी आगे- Arrah News: बुढ़िया की मौत से सुरक्षा करने वाला, बीमार होने पर हत्या करने वाला

.


‘बीजेपी की नीति यूपीआई और छत्तीसगढ़ के लिए अलग-अलग अलग’, बीजेपी के रिपोर्टर भूपेश बघेल

‘बीजेपी की नीति यूपीआई और छत्तीसगढ़ के लिए अलग-अलग अलग’, बीजेपी के रिपोर्टर भूपेश बघेल