in

पहलवानों ने बजाया डंका : 15 दिन में देश की झोली में डाले चार एशियन खिताब


ख़बर सुनें

पहलवानों ने अंडर-15 व अंडर-17 आयु वर्ग में डंका बजाते हुए 15 दिन में देश की झोली में चार एशियन खिताब डाल दिए हैं। पहलवानों ने बहरीन व किर्गिस्तान में हुई कुश्ती प्रतियोगिताओं में शानदार प्रदर्शन करते हुए लड़के व लड़की दोनों वर्ग में ही खिताबी जीत दर्ज की। बहरीन के मनामा में बेटियों के बाद बेटों ने भी एशियन खिताब जीत लिया है। देश को चार एशियन खिताब दिलाने वाले पहलवानों में ज्यादातर हरियाणवी हैं।
भारतीय कुश्ती संघ के सहायक सचिव विनोद तोमर ने बताया कि 3-4 जुलाई को बहरीन के मनामा शहर में हुई अंडर-15 एशियन कुश्ती प्रतियोगिता में रविवार के बाद सोमवार को भी पहलवानों ने देश को गौरवान्वित किया। रविवार को महिला पहलवानों ने 10 में से छह स्वर्ण और तीन रजत समेत नौ पदक जीते थे तो सोमवार को फ्री स्टाइल वर्ग के पहलवानों ने 10 में से चार स्वर्ण, दो रजत और एक कांस्य समेत सात पदक जीतकर खिताब अपने नाम किया। प्रतियोगिता में भारतीय टीम ने 184 अंकों के साथ पहला, ईरान ने 184 अंकों के साथ दूसरा और कजाकिस्तान ने 147 अंकों के साथ तीसरा स्थान पाया। इससे पहले किर्गिस्तान के बिश्केक में हुई अंडर-17 एशियन कुश्ती प्रतियोगिता में लड़कियों और लड़कों ने अपने वर्ग में खिताब पर कब्जा जमाया था। देश के पहलवान लगातार तिरंगे का मान बढ़ा रहे हैं।
मनामा के यह रहे पदकवीर
बहरीन के मनामा शहर में सोमवार को हुए फ्री स्टाइल के मुकाबलों में ईश्वर (44 किलो), अंकुश (57 किलो), तनिष्क (62 किलो) व विवेक (75 किलो) ने सोना जीतकर चार बार विदेशी धरती पर अपना राष्ट्रगान बजवाया। वहीं सलीम (52 किलो) बादल (85 किलो) ने रजत और निशांत (68 किलो) ने कांस्य पदक जीता। देश को सोना दिलाने वाले सोनीपत के गांव जुआं निवासी ईश्वर के गांव में खुशी का माहौल है। उसे प्रशिक्षक संजीत, डालमिया कोच और राजबीर छिक्कारा ने बधाई दी है।

पहलवानों ने अंडर-15 व अंडर-17 आयु वर्ग में डंका बजाते हुए 15 दिन में देश की झोली में चार एशियन खिताब डाल दिए हैं। पहलवानों ने बहरीन व किर्गिस्तान में हुई कुश्ती प्रतियोगिताओं में शानदार प्रदर्शन करते हुए लड़के व लड़की दोनों वर्ग में ही खिताबी जीत दर्ज की। बहरीन के मनामा में बेटियों के बाद बेटों ने भी एशियन खिताब जीत लिया है। देश को चार एशियन खिताब दिलाने वाले पहलवानों में ज्यादातर हरियाणवी हैं।

भारतीय कुश्ती संघ के सहायक सचिव विनोद तोमर ने बताया कि 3-4 जुलाई को बहरीन के मनामा शहर में हुई अंडर-15 एशियन कुश्ती प्रतियोगिता में रविवार के बाद सोमवार को भी पहलवानों ने देश को गौरवान्वित किया। रविवार को महिला पहलवानों ने 10 में से छह स्वर्ण और तीन रजत समेत नौ पदक जीते थे तो सोमवार को फ्री स्टाइल वर्ग के पहलवानों ने 10 में से चार स्वर्ण, दो रजत और एक कांस्य समेत सात पदक जीतकर खिताब अपने नाम किया। प्रतियोगिता में भारतीय टीम ने 184 अंकों के साथ पहला, ईरान ने 184 अंकों के साथ दूसरा और कजाकिस्तान ने 147 अंकों के साथ तीसरा स्थान पाया। इससे पहले किर्गिस्तान के बिश्केक में हुई अंडर-17 एशियन कुश्ती प्रतियोगिता में लड़कियों और लड़कों ने अपने वर्ग में खिताब पर कब्जा जमाया था। देश के पहलवान लगातार तिरंगे का मान बढ़ा रहे हैं।

मनामा के यह रहे पदकवीर

बहरीन के मनामा शहर में सोमवार को हुए फ्री स्टाइल के मुकाबलों में ईश्वर (44 किलो), अंकुश (57 किलो), तनिष्क (62 किलो) व विवेक (75 किलो) ने सोना जीतकर चार बार विदेशी धरती पर अपना राष्ट्रगान बजवाया। वहीं सलीम (52 किलो) बादल (85 किलो) ने रजत और निशांत (68 किलो) ने कांस्य पदक जीता। देश को सोना दिलाने वाले सोनीपत के गांव जुआं निवासी ईश्वर के गांव में खुशी का माहौल है। उसे प्रशिक्षक संजीत, डालमिया कोच और राजबीर छिक्कारा ने बधाई दी है।

.


नरवाल खाप के राष्ट्रीय अध्यक्ष के क्रेडिट कार्ड से 9237 रुपये निकले

हरियाणा, महाराष्ट्र व कर्नाटक कुश्ती संघ की कार्यकारिणी भंग