निकाय चुनाव में दिग्गजों की साख दाव पर


ख़बर सुनें

माई सिटी रिपोर्टर
करनाल। निकाय चुनाव की तैयारी पूरी हो गई है। शुक्रवार शाम छह बजे चुनाव प्रचार थम जाएगा, इसलिए प्रत्याशियों ने प्रचार में पूरी ताकत झोंक दी है। चुनाव को लेकर कई दिग्गजों की प्रतिष्ठा दाव पर है। सभी अपने समर्थित प्रत्याशियों को जिताने में जुटे हैं। कुछ स्थानों पर शुक्रवार को रोड शो करके शक्ति प्रदर्शन करने की भी तैयारी है। चुनाव में भाजपा और आम आदमी पार्टी सीधे तौर पर मुकाबले में हैं, कुछ स्थानों पर बागियों ने भी चुनौती दे रखी है।
जिले में घरौंडा, तरावड़ी, असंध और निसिंग नगरपालिका में चेयरमैन और पार्षद पदों के लिए 19 जून को मतदान होगा। इसके लिए बीते कई दिनों से चुनाव प्रचार चल रहा है। चुनावी शेड्यूल के मुताबिक चुनावी क्षेत्रों में 17 जून की शाम छह बजे प्रचार थम जाएगा। इसके बाद कोई भी प्रत्याशी सभाएं व अन्य ध्वनि विस्तारक यंत्रों आदि से सार्वजनिक तौर पर प्रचार नहीं कर पाएंगे। भाजपा ने घरौंडा, असंध व तरावड़ी में प्रत्याशी उतारा है, निसिंग में एक ही पार्टी से अधिक दावेदार होने के कारण यहां भाजपा ने अपना प्रत्याशी घोषित नहीं किया। हालांकि पार्टी के कार्यकर्ता अपने समर्थित प्रत्याशी को चुनाव लड़ाते दिख रहे हैं। भाजपा सांगठनिक तौर पर बूथ स्तर तक अपनी रणनीति बनाकर चुनाव लड़ रही है।
हर 60 मतदाताओं पर एक की जिम्मेदारी तय
सांसद संजय भाटिया, सांसद कृष्ण पंवार, विधायक हरविंद्र कल्याण, पानीपत के विधायक महिपाल डांडा, विधायक धर्मपाल गोंदर, पूर्व विधायक भगवानदास कबीरपंथी, पूर्व विधायक बख्शीश सिंह, जिलाध्यक्ष योगेंद्र राणा चुनाव प्रचार में जुटे हैं, इनकी प्रतिष्ठा दाव पर लगी है। आलम ये है कि भाजपा ने प्रत्येक वार्ड में एक नेता को वार्ड प्रभारी बनाया है। वार्ड प्रभारी ने मतदान सूची के प्रत्येक पन्ने के आधार पर पन्ना प्रमुख बनाए हैं। यानी हर साठ मतदाताओं पर एक नेता लगाया है।
दिलचस्प हुए मुकाबले
इधर, आम आदमी पार्टी ने सभी चारों सीटों पर अपने प्रत्याशी उतार रखे हैं, इन्हें विजयी बनाने के लिए सांसद डा.सुशील गुप्ता, जोन अध्यक्ष बीके कौशिक, अशोक तंवर, जिलाध्यक्ष महेंद्र राठी आदि नेता लगातार जुटे हैं। इन्होंने अपने प्रत्याशियों की विजय को अपनी प्रतिष्ठा से जोड़ रखा है। किसे जीत मिलेगी, किसे पराजय का सामना करना पड़ेगा, ये तो 22 जून को मतगणना के बाद ही पता चलेगा, लेकिन चारों निकायों में चुनावी मुकाबले दिलचस्प हो गए हैं।

माई सिटी रिपोर्टर

करनाल। निकाय चुनाव की तैयारी पूरी हो गई है। शुक्रवार शाम छह बजे चुनाव प्रचार थम जाएगा, इसलिए प्रत्याशियों ने प्रचार में पूरी ताकत झोंक दी है। चुनाव को लेकर कई दिग्गजों की प्रतिष्ठा दाव पर है। सभी अपने समर्थित प्रत्याशियों को जिताने में जुटे हैं। कुछ स्थानों पर शुक्रवार को रोड शो करके शक्ति प्रदर्शन करने की भी तैयारी है। चुनाव में भाजपा और आम आदमी पार्टी सीधे तौर पर मुकाबले में हैं, कुछ स्थानों पर बागियों ने भी चुनौती दे रखी है।

जिले में घरौंडा, तरावड़ी, असंध और निसिंग नगरपालिका में चेयरमैन और पार्षद पदों के लिए 19 जून को मतदान होगा। इसके लिए बीते कई दिनों से चुनाव प्रचार चल रहा है। चुनावी शेड्यूल के मुताबिक चुनावी क्षेत्रों में 17 जून की शाम छह बजे प्रचार थम जाएगा। इसके बाद कोई भी प्रत्याशी सभाएं व अन्य ध्वनि विस्तारक यंत्रों आदि से सार्वजनिक तौर पर प्रचार नहीं कर पाएंगे। भाजपा ने घरौंडा, असंध व तरावड़ी में प्रत्याशी उतारा है, निसिंग में एक ही पार्टी से अधिक दावेदार होने के कारण यहां भाजपा ने अपना प्रत्याशी घोषित नहीं किया। हालांकि पार्टी के कार्यकर्ता अपने समर्थित प्रत्याशी को चुनाव लड़ाते दिख रहे हैं। भाजपा सांगठनिक तौर पर बूथ स्तर तक अपनी रणनीति बनाकर चुनाव लड़ रही है।

हर 60 मतदाताओं पर एक की जिम्मेदारी तय

सांसद संजय भाटिया, सांसद कृष्ण पंवार, विधायक हरविंद्र कल्याण, पानीपत के विधायक महिपाल डांडा, विधायक धर्मपाल गोंदर, पूर्व विधायक भगवानदास कबीरपंथी, पूर्व विधायक बख्शीश सिंह, जिलाध्यक्ष योगेंद्र राणा चुनाव प्रचार में जुटे हैं, इनकी प्रतिष्ठा दाव पर लगी है। आलम ये है कि भाजपा ने प्रत्येक वार्ड में एक नेता को वार्ड प्रभारी बनाया है। वार्ड प्रभारी ने मतदान सूची के प्रत्येक पन्ने के आधार पर पन्ना प्रमुख बनाए हैं। यानी हर साठ मतदाताओं पर एक नेता लगाया है।

दिलचस्प हुए मुकाबले

इधर, आम आदमी पार्टी ने सभी चारों सीटों पर अपने प्रत्याशी उतार रखे हैं, इन्हें विजयी बनाने के लिए सांसद डा.सुशील गुप्ता, जोन अध्यक्ष बीके कौशिक, अशोक तंवर, जिलाध्यक्ष महेंद्र राठी आदि नेता लगातार जुटे हैं। इन्होंने अपने प्रत्याशियों की विजय को अपनी प्रतिष्ठा से जोड़ रखा है। किसे जीत मिलेगी, किसे पराजय का सामना करना पड़ेगा, ये तो 22 जून को मतगणना के बाद ही पता चलेगा, लेकिन चारों निकायों में चुनावी मुकाबले दिलचस्प हो गए हैं।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

रानदार परिणाम पर विद्यार्थियों ने अध्यापकों संग मनाई खुशी

बरसात में 130 करोड़ के सीवरेज नेटवर्क परियोजना के लाभ की टूटी आस