in

धारूहेड़ा में खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम ने मारे छापे, 4 नमूने लिए


ख़बर सुनें

खाद्य सुरक्षा एवं औषध प्रशासन विभाग की टीम ने जिले के कस्बा धारूहेड़ा के नंदरामपुर बास रोड पर छापामारी मुहिम चलाई जिसके तहत इस टीम ने चार नमूने लिए हैं।
शुक्रवार को जून माह में जिले में सबसे पहले कस्बा धारूहेड़ा में खाद्य एवं पेय पदार्थों के नमूने लेने की शुरूआत हुई है जिसमें एक आईसक्रीम फैक्ट्री से आइसक्रीम का, एक दुकान से दाल का, बेकरी से सोस का जबकि एक दुकान से बोतल बंद पानी का नमूना लिया गया। इन चारों नमूनों को मौके पर संबंधित दुकानदार के सामने सील लगाकर जांच के लिए सरकारी प्रयोगशाला में भिजवा दिया गया।
खाद्य सुरक्षा अधिकारी डॉ. दीपक चौधरी के अनुसार उनके विभाग ने 29 अप्रैल को बावल के बाजार में भी खाद्य एवं पेय पदार्थों के नमूने लेने की मुहिम चलाई थी, जिसके तहत चार नमूने लिए गए थे। इनको संबंधित दुकानदार के सामने सील बंद करके जांच के लिए प्रयोशाला में भिजवा दिया गया था। इस नमूनों की जांच रिपोर्ट आ गई है। चार नमूनों में से 3 नमूने जांच में फेल साबित हुए। इनमें एक नमूना मैदा का, एक मावा यानी खोया का और एक नमूना पनीर का था। उक्त अधिकारी के मुताबिक बावल के रेलवे रोड और छोटूराम चौक के पास मिष्ठान भंडारों से ये खाद्य नमूने लेकर जांच के लिए भिजवाए गए थे।
उन्होंने संकेत किया कि जिन दुकानदारों के खाद्य नमूने जांच में फेल साबित हुए हैं उन सभी को विभाग की ओर से कारण बताओ नोटिस दिए जा रहे हैं। इनको एक माह की अवधि में इन नोटिस का जवाब देना होगा। अगर इन्होंने उचित जवाब नहीं दिया या फिर जवाब ही नहीं दिया या फिर इनका जवाब संतोषजनक नहीं पाया गया तो उक्त विभाग की ओर से संबंधित दुकानदारों के खिलाफ खाद्य पदार्थ सुरक्षा कानून के तहत सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी जिसमें दोषी पाए जाने पर संबंधित दुकानदार को सश्रम कारावास या आर्थिक जुर्माना या फिर दोनों हो सकते हैं।
हमारी टीम ने धारूहेड़ा के नंदरामपुर बास रोड से चार खाद्य और पेय पदार्थों के नमूने लेकर सील करने के बाद इनको जांच के लिए भिजवा दिया गया है। बावल में बीते माह लिए गए चार नमूनों में से तीन जांच में शुद्धता की कसौटी पर खरे नहीं उतरे इसलिए विभाग संबंधित के खिलाफ अगली कार्रवाई कर रहा है।
-डॉ. दीपक चौधरी, खाद्य सुरक्षा अधिकारी।

खाद्य सुरक्षा एवं औषध प्रशासन विभाग की टीम ने जिले के कस्बा धारूहेड़ा के नंदरामपुर बास रोड पर छापामारी मुहिम चलाई जिसके तहत इस टीम ने चार नमूने लिए हैं।

शुक्रवार को जून माह में जिले में सबसे पहले कस्बा धारूहेड़ा में खाद्य एवं पेय पदार्थों के नमूने लेने की शुरूआत हुई है जिसमें एक आईसक्रीम फैक्ट्री से आइसक्रीम का, एक दुकान से दाल का, बेकरी से सोस का जबकि एक दुकान से बोतल बंद पानी का नमूना लिया गया। इन चारों नमूनों को मौके पर संबंधित दुकानदार के सामने सील लगाकर जांच के लिए सरकारी प्रयोगशाला में भिजवा दिया गया।

खाद्य सुरक्षा अधिकारी डॉ. दीपक चौधरी के अनुसार उनके विभाग ने 29 अप्रैल को बावल के बाजार में भी खाद्य एवं पेय पदार्थों के नमूने लेने की मुहिम चलाई थी, जिसके तहत चार नमूने लिए गए थे। इनको संबंधित दुकानदार के सामने सील बंद करके जांच के लिए प्रयोशाला में भिजवा दिया गया था। इस नमूनों की जांच रिपोर्ट आ गई है। चार नमूनों में से 3 नमूने जांच में फेल साबित हुए। इनमें एक नमूना मैदा का, एक मावा यानी खोया का और एक नमूना पनीर का था। उक्त अधिकारी के मुताबिक बावल के रेलवे रोड और छोटूराम चौक के पास मिष्ठान भंडारों से ये खाद्य नमूने लेकर जांच के लिए भिजवाए गए थे।

उन्होंने संकेत किया कि जिन दुकानदारों के खाद्य नमूने जांच में फेल साबित हुए हैं उन सभी को विभाग की ओर से कारण बताओ नोटिस दिए जा रहे हैं। इनको एक माह की अवधि में इन नोटिस का जवाब देना होगा। अगर इन्होंने उचित जवाब नहीं दिया या फिर जवाब ही नहीं दिया या फिर इनका जवाब संतोषजनक नहीं पाया गया तो उक्त विभाग की ओर से संबंधित दुकानदारों के खिलाफ खाद्य पदार्थ सुरक्षा कानून के तहत सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी जिसमें दोषी पाए जाने पर संबंधित दुकानदार को सश्रम कारावास या आर्थिक जुर्माना या फिर दोनों हो सकते हैं।

हमारी टीम ने धारूहेड़ा के नंदरामपुर बास रोड से चार खाद्य और पेय पदार्थों के नमूने लेकर सील करने के बाद इनको जांच के लिए भिजवा दिया गया है। बावल में बीते माह लिए गए चार नमूनों में से तीन जांच में शुद्धता की कसौटी पर खरे नहीं उतरे इसलिए विभाग संबंधित के खिलाफ अगली कार्रवाई कर रहा है।

-डॉ. दीपक चौधरी, खाद्य सुरक्षा अधिकारी।

.


अनियंत्रित होकर डिवाइडर पर चढ़ी गाड़ी, बाल-बाल बचे लोग

इंग्लैंड