दुबलधन के खेतों में सिंचाई विभाग की टीम अवैध पाइप लाइनों को उखाड़ने के लिए भारी पुलिस बल के साथ पहुंची, ग्रामीणों ने 23-17-56


ख़बर सुनें

बेरी। दूबलधन के खेतों में ग्रामीणों द्वारा अवैध रूप से बिछाई गई पाइप लाइनों को पुलिस के साथ
सिंचाई विभाग की टीम पुलिस बल के साथ वीरवार को गांव दूबलधन के खेतों में अवैध रूप से बिछाई गई पाइप लाइनों को उखाड़ने के लिए पहुंची। सिंचाई विभाग की टीम जैसे ही खेतों में पहुंची तो गांव वालों को पता चला तो गांव बड़ी संख्या मौके पर पहुंच गए। विभाग की टीम ने पाइप लाइन उखाड़ने का कार्य किया तो ग्रामीणों ने विरोध किया। कई घंटे बाद ग्रामीणों व पाइप लाइनों को हटाने पहुंची टीम के बीच सहमति बनी।
सिंचाई विभाग को सूचना मिली थी गांव दूबलधन से गुजर रही लोहारू कैनाल में ग्रामीणों ने अवैध रूप से पाइपलाइन दबाकर अपने खेतों में ले जा रखी है। नहर की पटरी पर इंजन रखे हैं। सिंचाई विभाग के एसडीओ सोमदत्त शर्मा, बेरी थाना प्रभारी जितेंद्र कुमार पुलिस बल के साथ लोहारू कैनाल पर इन्हें हटाने पहुंच गए।
गांव दुबलधन के ग्रामीणों ने पाइप लाइटन और इंजन हटाने का विरोध किया। उन्होंने एसडीओ सोमदत्त शर्मा से कहा कि उन्होंने इसमें हजारों रुपये खर्च कर रखे हैं। यदि पाइप लाइनों और इंजनों को हटाना है तो 2 दिन का समय दिया जाए। इस बात को लेकर वहां हंगामा होने लगा। हंगामे के बाद में एसई पवन भारद्वाज चरखी दादरी, कार्यकारी अभियंता अजेंद्र सुहाग झज्जर, सत्येंद्र सांगवान चरखी दादरी, कार्यकारी अभियंता अरुण मुंजाल, झज्जर डीएसपी नरेश कुमार बेरी मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया लेकिन ग्रामीण इस बात पर अडे़ रहे कि इनके हटने पर उन्हें पानी कहां से मिलेगा। उसके बाद सिंचाई विभाग के एसई पवन भारद्वाज ने सिंचाई विभाग के चीफ और उपायुक्त झज्जर से बातचीत की। इसके बाद एसई पवन भारद्वाज ने ग्रामीणों को ग्रामीणों को इन्हें हटाने को 2 दिन का समय दिया । दो दिन बाद फिर से सिंचाई विभाग द्वारा फिर दोबारा आपकी पाइप लाइनों व इंजनों को हटाने का काम शुरू किया जाएगा। जिस पर सभी ग्रामीणों ने सहमति जता दी।
वर्जन
इंजन ओर पाइप लाइन हटाने को ग्रामीणों को दो दिन का समय दिया गया है। अगर उसके बाद भी इंजन व पाइप नहीं हटाए तो विभाग कार्रवाई करेगा।
– पवन भारद्वाज, एसई सिंचाई विभाग।

बेरी। दूबलधन के खेतों में ग्रामीणों द्वारा अवैध रूप से बिछाई गई पाइप लाइनों को पुलिस के साथ

सिंचाई विभाग की टीम पुलिस बल के साथ वीरवार को गांव दूबलधन के खेतों में अवैध रूप से बिछाई गई पाइप लाइनों को उखाड़ने के लिए पहुंची। सिंचाई विभाग की टीम जैसे ही खेतों में पहुंची तो गांव वालों को पता चला तो गांव बड़ी संख्या मौके पर पहुंच गए। विभाग की टीम ने पाइप लाइन उखाड़ने का कार्य किया तो ग्रामीणों ने विरोध किया। कई घंटे बाद ग्रामीणों व पाइप लाइनों को हटाने पहुंची टीम के बीच सहमति बनी।

सिंचाई विभाग को सूचना मिली थी गांव दूबलधन से गुजर रही लोहारू कैनाल में ग्रामीणों ने अवैध रूप से पाइपलाइन दबाकर अपने खेतों में ले जा रखी है। नहर की पटरी पर इंजन रखे हैं। सिंचाई विभाग के एसडीओ सोमदत्त शर्मा, बेरी थाना प्रभारी जितेंद्र कुमार पुलिस बल के साथ लोहारू कैनाल पर इन्हें हटाने पहुंच गए।

गांव दुबलधन के ग्रामीणों ने पाइप लाइटन और इंजन हटाने का विरोध किया। उन्होंने एसडीओ सोमदत्त शर्मा से कहा कि उन्होंने इसमें हजारों रुपये खर्च कर रखे हैं। यदि पाइप लाइनों और इंजनों को हटाना है तो 2 दिन का समय दिया जाए। इस बात को लेकर वहां हंगामा होने लगा। हंगामे के बाद में एसई पवन भारद्वाज चरखी दादरी, कार्यकारी अभियंता अजेंद्र सुहाग झज्जर, सत्येंद्र सांगवान चरखी दादरी, कार्यकारी अभियंता अरुण मुंजाल, झज्जर डीएसपी नरेश कुमार बेरी मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया लेकिन ग्रामीण इस बात पर अडे़ रहे कि इनके हटने पर उन्हें पानी कहां से मिलेगा। उसके बाद सिंचाई विभाग के एसई पवन भारद्वाज ने सिंचाई विभाग के चीफ और उपायुक्त झज्जर से बातचीत की। इसके बाद एसई पवन भारद्वाज ने ग्रामीणों को ग्रामीणों को इन्हें हटाने को 2 दिन का समय दिया । दो दिन बाद फिर से सिंचाई विभाग द्वारा फिर दोबारा आपकी पाइप लाइनों व इंजनों को हटाने का काम शुरू किया जाएगा। जिस पर सभी ग्रामीणों ने सहमति जता दी।

वर्जन

इंजन ओर पाइप लाइन हटाने को ग्रामीणों को दो दिन का समय दिया गया है। अगर उसके बाद भी इंजन व पाइप नहीं हटाए तो विभाग कार्रवाई करेगा।

– पवन भारद्वाज, एसई सिंचाई विभाग।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

व्यापारी नेता अनिल भाटिया को मिली धमकी

कंपनी की जांच में दुकान से मिली सैकड़ों नकली ब्रांड की पेंट व शर्ट, संचालक पर केस दर्ज