in

ढाबा संचालक से रंगदारी मांगने वाला वांटेड गिरफ्तार


ख़बर सुनें

यमुनानगर। सीआईए वन की टीम ने रादौर में ढाबा संचालक से रंगदारी मांगने समेत 13 मामलों में फरार चल रहे पांच हजार के इनामी गांव अलाहर अंशुल उर्फ खन्ना को गिरफ्तार किया है। पुलिस की आरोपी की तलाश में काफी समय से लगी हुई थी। बीते नौ मई को भी उसे पकड़ने के लिए स्पेशल पुलिस टीम अलाहर गई, लेकिन तब वह चकमा देकर फरार हो गया। अब पुलिस ने उसके गांव में दबिश देकर उसे काबू किया है। अंशुल को बुधवार को अदालत में पेश किया जाएगा। जहां से उसे पुलिस रिमांड पर लेगी।
इंचार्ज नरेंद्र खटाना ने बताया कि अंशुल उर्फ खन्ना ने अपने साथी रादौर निवासी कुलदीप व राहुल के साथ रादौर के ही साहिल सेतिया को धमकी दी थी। साहिल का कुलदीप के साथ लेन देन था। जिसके चलते ही कुलदीप, अंशुल व राहुल उसके पास पहुंचे थे और पैसे न देने पर जान से मारने की धमकी दी थी। अंशुल ने पिस्टल दिखाकर उसे धमकाया था। इस मामले में रादौर थाना पुलिस ने केस दर्ज किया था। आरोपी कुलदीप व राहुल को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। जबकि अंशुल फरार चल रहा था। इसके अलावा आरोपी अंशुल ने आठ अप्रैल को सहारनपुर कुरुक्षेत्र रोड पर गोल्डी ढाबा के संचालक हरीश से रंगदारी मांगी थी। धमकी दी थी कि यदि उसे ढाबा चलाना है, तो उसे हफ्ता देना होगा। इस मामले में भी उस पर केस दर्ज हुआ है। आरोपी अंशुल उर्फ खन्ना पर हत्या के प्रयास, लड़ाई झगड़े व लूट जैसे 13 संगीन मामले दर्ज हैं।
पुलिस की स्पेशल सेल के साथ हुआ था आमना सामना
ढाबा संचालक से रंगदारी मांगने के केस में वांटेड गांव अलाहर निवासी अंशुल उर्फ खन्ना को नौ मई को स्पेशल सेल की टीम पकड़ने गई थी। जब पुलिस उसके गांव में जा रही थी तो रास्ते में ही अलाहर के पास पुलिस को खन्ना एक युवक के साथ वीआईपी नंबर की क्रूज कार में जाते दिखा। पुलिस ने जब उसे रोकने का प्रयास किया तो वह कार को खेतों से भगाते हुए भागने लगा। कार फंसने पर वह अपने साथी के साथ पैदल भाग निकला था। पुलिस ने मौके से जो कार बरामद की है, वह रादौर के एक व्यापारी की थी।
जून 2020 में युवक को मारी थी गोली
दो साल पहले मुठभेड़ के बाद पकड़े गए खन्ना पर कई आपराधिक केस हैं। जून 2020 में उसने रादौर में एक युवक को गोली मारी थी। जिसके बाद सीआईए वन की टीम उसे और उसके साथियों का पीछा कर रही थी। गुमथला के पास आरोपियों ने पुलिस पर गोलियां चला दी थी। पुलिस ने मुठभेड़ के बाद खन्ना और उसके साथी को गिरफ्तार किया था। बताया जाता है कि रादौर में वह कई लोगों से रंगदारी वसूल रहा है।

यमुनानगर। सीआईए वन की टीम ने रादौर में ढाबा संचालक से रंगदारी मांगने समेत 13 मामलों में फरार चल रहे पांच हजार के इनामी गांव अलाहर अंशुल उर्फ खन्ना को गिरफ्तार किया है। पुलिस की आरोपी की तलाश में काफी समय से लगी हुई थी। बीते नौ मई को भी उसे पकड़ने के लिए स्पेशल पुलिस टीम अलाहर गई, लेकिन तब वह चकमा देकर फरार हो गया। अब पुलिस ने उसके गांव में दबिश देकर उसे काबू किया है। अंशुल को बुधवार को अदालत में पेश किया जाएगा। जहां से उसे पुलिस रिमांड पर लेगी।

इंचार्ज नरेंद्र खटाना ने बताया कि अंशुल उर्फ खन्ना ने अपने साथी रादौर निवासी कुलदीप व राहुल के साथ रादौर के ही साहिल सेतिया को धमकी दी थी। साहिल का कुलदीप के साथ लेन देन था। जिसके चलते ही कुलदीप, अंशुल व राहुल उसके पास पहुंचे थे और पैसे न देने पर जान से मारने की धमकी दी थी। अंशुल ने पिस्टल दिखाकर उसे धमकाया था। इस मामले में रादौर थाना पुलिस ने केस दर्ज किया था। आरोपी कुलदीप व राहुल को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। जबकि अंशुल फरार चल रहा था। इसके अलावा आरोपी अंशुल ने आठ अप्रैल को सहारनपुर कुरुक्षेत्र रोड पर गोल्डी ढाबा के संचालक हरीश से रंगदारी मांगी थी। धमकी दी थी कि यदि उसे ढाबा चलाना है, तो उसे हफ्ता देना होगा। इस मामले में भी उस पर केस दर्ज हुआ है। आरोपी अंशुल उर्फ खन्ना पर हत्या के प्रयास, लड़ाई झगड़े व लूट जैसे 13 संगीन मामले दर्ज हैं।

पुलिस की स्पेशल सेल के साथ हुआ था आमना सामना

ढाबा संचालक से रंगदारी मांगने के केस में वांटेड गांव अलाहर निवासी अंशुल उर्फ खन्ना को नौ मई को स्पेशल सेल की टीम पकड़ने गई थी। जब पुलिस उसके गांव में जा रही थी तो रास्ते में ही अलाहर के पास पुलिस को खन्ना एक युवक के साथ वीआईपी नंबर की क्रूज कार में जाते दिखा। पुलिस ने जब उसे रोकने का प्रयास किया तो वह कार को खेतों से भगाते हुए भागने लगा। कार फंसने पर वह अपने साथी के साथ पैदल भाग निकला था। पुलिस ने मौके से जो कार बरामद की है, वह रादौर के एक व्यापारी की थी।

जून 2020 में युवक को मारी थी गोली

दो साल पहले मुठभेड़ के बाद पकड़े गए खन्ना पर कई आपराधिक केस हैं। जून 2020 में उसने रादौर में एक युवक को गोली मारी थी। जिसके बाद सीआईए वन की टीम उसे और उसके साथियों का पीछा कर रही थी। गुमथला के पास आरोपियों ने पुलिस पर गोलियां चला दी थी। पुलिस ने मुठभेड़ के बाद खन्ना और उसके साथी को गिरफ्तार किया था। बताया जाता है कि रादौर में वह कई लोगों से रंगदारी वसूल रहा है।

.


घर में घुसकर हथियार के बल पर डराकर समेट ले गए आभूषण

कोरोना संक्रमण का एक मामला आया