डॉक्टर की पर्ची बिना दवाई दी तो केमिस्ट पर होगी कार्रवाई : एसपी


ख़बर सुनें

यमुनानगर। नशे से आजादी अभियान के तहत वीरवार को एसपी मोहित हांडा ने केमिस्टों के साथ बैठक की। जिसमें उन्होंने केमिस्टों से इस मुहिम में सहयोग मांगा। उन्होंने कहा कि पुलिस की सख्ती के बाद स्मैक तस्करी पर अंकुश लगा है, लेकिन इस नशे के आदी लोग केमिस्टों के पास जा रहे हैं। वहां से प्रतिबंधित दवाइयों का प्रयोग कर रहे हैं। इसके लिए कोई भी केमिस्ट डॉक्टर की पर्ची के बिना दवाई न दे। यदि कोई बिना पर्ची के दवाई देते पकड़ा गया, तो उसके खिलाफ भी कानूनी कार्रवाई होगी।
जिला सचिवालय के सभागार में यह बैठक हुई। एसपी ने कहा कि आमजन के सहयोग के बिना नशे पर रोक नहीं लग सकती। मेडिकल स्टोर संचालक इसमें पुलिस का काफी सहयोग कर सकते हैं। यदि उनके पास कोई भी नशे का आदी या तस्करी करने वाला नशे में प्रयोग होने वाली दवा के लिए आता है, तो उसके बारे में डायल 112 या फिर हेल्पलाइन नंबर 8818001383 पर सूचना दें। किसी को भी डॉक्टर की लिखी पर्ची के बिना दवाई न दें। समाजसेवी संस्थाओं से भी उन्होंने अपील की है कि नशा छोड़ने के लिए युवाओं को प्रेरित करें। यदि कोई नशे का आदी है, तो उसे अस्पताल में लेकर आए। जहां उसका निशुल्क इलाज किया जाएगा। पुलिस विभाग की ओर से चलाई जा रही मुहिम के तहत 468 नशा रोगियों का इलाज कराया जा रहा है। इस दौरान मानसिक रोग विशेषज्ञ डा. पारस, ड्रग कंट्रोल ऑफिसर डा. प्रवीण चौधरी, अधिवक्ता सुशील आर्य, मेडिकल एसोसिएशन के प्रधान मनजीत सिंह, नरेश आदि मौजूद रहे

यमुनानगर। नशे से आजादी अभियान के तहत वीरवार को एसपी मोहित हांडा ने केमिस्टों के साथ बैठक की। जिसमें उन्होंने केमिस्टों से इस मुहिम में सहयोग मांगा। उन्होंने कहा कि पुलिस की सख्ती के बाद स्मैक तस्करी पर अंकुश लगा है, लेकिन इस नशे के आदी लोग केमिस्टों के पास जा रहे हैं। वहां से प्रतिबंधित दवाइयों का प्रयोग कर रहे हैं। इसके लिए कोई भी केमिस्ट डॉक्टर की पर्ची के बिना दवाई न दे। यदि कोई बिना पर्ची के दवाई देते पकड़ा गया, तो उसके खिलाफ भी कानूनी कार्रवाई होगी।

जिला सचिवालय के सभागार में यह बैठक हुई। एसपी ने कहा कि आमजन के सहयोग के बिना नशे पर रोक नहीं लग सकती। मेडिकल स्टोर संचालक इसमें पुलिस का काफी सहयोग कर सकते हैं। यदि उनके पास कोई भी नशे का आदी या तस्करी करने वाला नशे में प्रयोग होने वाली दवा के लिए आता है, तो उसके बारे में डायल 112 या फिर हेल्पलाइन नंबर 8818001383 पर सूचना दें। किसी को भी डॉक्टर की लिखी पर्ची के बिना दवाई न दें। समाजसेवी संस्थाओं से भी उन्होंने अपील की है कि नशा छोड़ने के लिए युवाओं को प्रेरित करें। यदि कोई नशे का आदी है, तो उसे अस्पताल में लेकर आए। जहां उसका निशुल्क इलाज किया जाएगा। पुलिस विभाग की ओर से चलाई जा रही मुहिम के तहत 468 नशा रोगियों का इलाज कराया जा रहा है। इस दौरान मानसिक रोग विशेषज्ञ डा. पारस, ड्रग कंट्रोल ऑफिसर डा. प्रवीण चौधरी, अधिवक्ता सुशील आर्य, मेडिकल एसोसिएशन के प्रधान मनजीत सिंह, नरेश आदि मौजूद रहे

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

प्रतियोगी परीक्षाओं में तैयारी करवा विद्यार्थियों की करेंगे मजबूत बुनियाद

जिला अदालत से दिन दहाड़े चार सोलर पैनल चोरी होने की खबर से मचा हड़कंप