in

झमाझम बारिश से शहर की सड़कें बनीं तालाब


ख़बर सुनें

सोनीपत। शहर में दो घंटे तक हुई झमाझम बारिश में सड़कें तालाब बन गईं। अधिकतर सड़कों और गलियों में 3 से 4 फीट तक पानी भरा रहा। जलभराव होने से सड़कें नजर ही नहीं आ रही थीं। 42 एमएम बारिश में जलभराव होने से विभिन्न मार्गों पर वाहन बंद हो गए। इससे जाम की स्थिति बनी रही। जाम खुलवाने के लिए यातायात पुलिस को मशक्कत करनी पड़ी। सड़क के बीच में बंद हुए वाहनों को लोग धक्का मारकर ले जाते रहे। दो घंटे की बारिश ने ही शहर में जलनिकासी के सभी दावों की पोल खोलकर रख दी है। बारिश बंद होने के बाद भी जलनिकासी होने में 4 से 5 घंटे का समय लग गया। मौसम विशेषज्ञों की मानें तो रविवार तक बारिश होने के आसान हैं।
जिले में वीरवार देर शाम से ही आसमान पर बादल छाए हुए थे। जिससे बारिश की आस जगी थी। शुक्रवार सुबह करीब पांच बजे बूंदाबांदी शुरू हो गई थी। जो रुक-रुक कर जारी रही। सुबह करीब 10 बजे आसमान घने काले बादलों से ढक गया। कुछ ही देर में झमाझम बारिश शुरू हो गई। करीब दो घंटे तक हुई बारिश ने शहर के हालात बिगाड़ दिए। शहर की सड़कें व गलियां जलमग्न हो गईं। गीता भवन चौक, महलाना चौक, शनि मंदिर, बस अड्डा, मामा भांजा चौक, महलाना रोड, सेक्टर-23, वेस्ट राम नगर, आईटीआई चौक, राठधना रोड व सेक्टर-15 के ज्यादातर क्षेत्रों में तीन से चार फीट तक पानी भर गया। जलमग्न सड़कों पर वाहनों के बंद होने से ओल्ड डीसी रोड, गोहाना आरओबी, गुरुद्वारा रोड, शनि मंदिर रोड, मामा-भांजा रोड, राठधना रोड, मुरथल रोड, गीता भवन चौक सहित अन्य मार्गों पर जाम की स्थिति बनी रही। सड़कों पर भरे बारिश के पानी में वाहनों के बंद होने से वाहनों की लंबी कतार लग गई। यातायात को सुचारू करने के लिए यातायात पुलिस को घंटों मशक्कत करनी पड़ी। बारिश बंद होने व पानी निकासी के बाद भी जाम के कारण वाहन रेंगते हुए चल रहे थे।

शनि मंदिर अंडरपास में जलभराव होने से दो हिस्सों में बंटा शहर
झमाझम बारिश में शनि मंदिर अंडरपास पूरी तरह पानी में डूब गया। जिससे शहर दो हिस्सों में बंट गया। सारंग रोड अंडरपास भी तालाब बना रहा। लाइनपार क्षेत्र में जाने वाले लोगों को परेशानियां झेलनी पड़ी। लोगों को पैदल ही रेलवे लाइन पार करते हुए दूसरी तरफ जाना पड़ा। बारिश में हर बार जलभराव होने से लोगों के सामने आने वाली परेशानियों को देखते हुए भी नगर निगम की तरफ से पानी निकासी के स्थायी प्रबंध नहीं किए जा रहे। निगम की बैठक में कई बार जलभराव का मुद्दा उठाया जा चुका है। अधिकारी कार्ययोजना तैयार होने का दावा करते हैं, लेकिन स्थिति में कोई सुधार नहीं होता।

घरों में कैद होकर रह गए लोग
झमाझम बारिश के बाद शहर की कॉलोनियों में जलभराव की स्थिति पैदा हो गई। सबसे ज्यादा जलभराव ककरोई रोड, महलाना चौक, शनि मंदिर क्षेत्र, महावीर कालोनी, गीता भवन चौक, गुरुद्वारा रोड, रेलवे रोड, मामा भांजा चौक, ओल्ड डीसी रोड, माडल टाउन, आठ-मरला, विवेकानंद चौक, महाराणा प्रताप चौक, अग्रसेन चौक, सेक्टर-14, सेक्टर-15, बस अड्डा क्षेत्र व आदर्श नगर में रहा। यहां जलभराव होने से लोग घरों में कैद रहे। बारिश के बाद भी जलनिकासी होने में कई घंटे का समय लग गया। तब तक लोग घरों से बाहर नहीं निकल सके। लोगों का कहना है कि कुछ देर की बारिश में ही सड़कें व गलियां तालाब बन जाती हैं। हर साल यही स्थिति बनती है, लेकिन व्यवस्था सुधार की तरफ कोई कदम नहीं उठाए जाते। जिसका खामियाजा शहरवासियों को भुगतना पड़ता है। लोगों ने जलनिकासी व्यवस्था सुदृढ़ करने की मांग की है।

स्कूल की गिरी दीवार, हादसा बचा
बारिश में शंभू दयाल स्कूल की दीवार गिर गई। उस समय स्कूल में विद्यार्थी मौजूद थे। गनीमत रही कि दीवार के आसपास कोई नहीं था। जिससे बड़ा हादसा बच गया। स्कूल की दीवार गिरने के बाद दीवार के साथ बने नाला का पानी ओवरफ्लो होकर स्कूल में जाता रहा। वहीं सड़क पर भरा पानी भी स्कूल में स्कूल परिसर में जमा होता रहा।

कहां कितनी हुई बारिश
ब्लॉक बारिश
सोनीपत 55 एमएम
गन्नौर 65 एमएम
गोहाना 11 एमएम
खरखौदा 50 एमएम
खानपुर कलां 43 एमएम
राई 28 एमएम

वर्जन
झमाझम बारिश के बाद शहर में जलभराव की स्थिति बनी थी। बारिश बंद होने के दो घंटे में ही जलनिकासी हो गई थी। मानसून सीजन को देखते हुए शहर के सीवर व नालों की सफाई कराई गई थी। जिसका असर देखने को मिला है। जलभराव होने के कुछ देर बाद ही जलनिकासी हो गई थी। केवल शनि मंदिर के पास जलभराव है। वहां पर पंप लगा हुआ है, जिससे जल्द ही पानी निकासी कर दी जाएगी।-अशोक कुमार रावत, एसई, नगर निगम, सोनीपत

वर्जन
मानसून सीजन में शुक्रवार को जिले में अच्छी बारिश हुई है। जिससे तापमान में दो डिग्री तक की गिरावट आई है। बारिश के बाद जिले का अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 27 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। रविवार को बारिश होने के आसार हैं।- डॉ. प्रेमदीप, मौसम वैज्ञानिक

सोनीपत। शहर में दो घंटे तक हुई झमाझम बारिश में सड़कें तालाब बन गईं। अधिकतर सड़कों और गलियों में 3 से 4 फीट तक पानी भरा रहा। जलभराव होने से सड़कें नजर ही नहीं आ रही थीं। 42 एमएम बारिश में जलभराव होने से विभिन्न मार्गों पर वाहन बंद हो गए। इससे जाम की स्थिति बनी रही। जाम खुलवाने के लिए यातायात पुलिस को मशक्कत करनी पड़ी। सड़क के बीच में बंद हुए वाहनों को लोग धक्का मारकर ले जाते रहे। दो घंटे की बारिश ने ही शहर में जलनिकासी के सभी दावों की पोल खोलकर रख दी है। बारिश बंद होने के बाद भी जलनिकासी होने में 4 से 5 घंटे का समय लग गया। मौसम विशेषज्ञों की मानें तो रविवार तक बारिश होने के आसान हैं।

जिले में वीरवार देर शाम से ही आसमान पर बादल छाए हुए थे। जिससे बारिश की आस जगी थी। शुक्रवार सुबह करीब पांच बजे बूंदाबांदी शुरू हो गई थी। जो रुक-रुक कर जारी रही। सुबह करीब 10 बजे आसमान घने काले बादलों से ढक गया। कुछ ही देर में झमाझम बारिश शुरू हो गई। करीब दो घंटे तक हुई बारिश ने शहर के हालात बिगाड़ दिए। शहर की सड़कें व गलियां जलमग्न हो गईं। गीता भवन चौक, महलाना चौक, शनि मंदिर, बस अड्डा, मामा भांजा चौक, महलाना रोड, सेक्टर-23, वेस्ट राम नगर, आईटीआई चौक, राठधना रोड व सेक्टर-15 के ज्यादातर क्षेत्रों में तीन से चार फीट तक पानी भर गया। जलमग्न सड़कों पर वाहनों के बंद होने से ओल्ड डीसी रोड, गोहाना आरओबी, गुरुद्वारा रोड, शनि मंदिर रोड, मामा-भांजा रोड, राठधना रोड, मुरथल रोड, गीता भवन चौक सहित अन्य मार्गों पर जाम की स्थिति बनी रही। सड़कों पर भरे बारिश के पानी में वाहनों के बंद होने से वाहनों की लंबी कतार लग गई। यातायात को सुचारू करने के लिए यातायात पुलिस को घंटों मशक्कत करनी पड़ी। बारिश बंद होने व पानी निकासी के बाद भी जाम के कारण वाहन रेंगते हुए चल रहे थे।



शनि मंदिर अंडरपास में जलभराव होने से दो हिस्सों में बंटा शहर

झमाझम बारिश में शनि मंदिर अंडरपास पूरी तरह पानी में डूब गया। जिससे शहर दो हिस्सों में बंट गया। सारंग रोड अंडरपास भी तालाब बना रहा। लाइनपार क्षेत्र में जाने वाले लोगों को परेशानियां झेलनी पड़ी। लोगों को पैदल ही रेलवे लाइन पार करते हुए दूसरी तरफ जाना पड़ा। बारिश में हर बार जलभराव होने से लोगों के सामने आने वाली परेशानियों को देखते हुए भी नगर निगम की तरफ से पानी निकासी के स्थायी प्रबंध नहीं किए जा रहे। निगम की बैठक में कई बार जलभराव का मुद्दा उठाया जा चुका है। अधिकारी कार्ययोजना तैयार होने का दावा करते हैं, लेकिन स्थिति में कोई सुधार नहीं होता।



घरों में कैद होकर रह गए लोग

झमाझम बारिश के बाद शहर की कॉलोनियों में जलभराव की स्थिति पैदा हो गई। सबसे ज्यादा जलभराव ककरोई रोड, महलाना चौक, शनि मंदिर क्षेत्र, महावीर कालोनी, गीता भवन चौक, गुरुद्वारा रोड, रेलवे रोड, मामा भांजा चौक, ओल्ड डीसी रोड, माडल टाउन, आठ-मरला, विवेकानंद चौक, महाराणा प्रताप चौक, अग्रसेन चौक, सेक्टर-14, सेक्टर-15, बस अड्डा क्षेत्र व आदर्श नगर में रहा। यहां जलभराव होने से लोग घरों में कैद रहे। बारिश के बाद भी जलनिकासी होने में कई घंटे का समय लग गया। तब तक लोग घरों से बाहर नहीं निकल सके। लोगों का कहना है कि कुछ देर की बारिश में ही सड़कें व गलियां तालाब बन जाती हैं। हर साल यही स्थिति बनती है, लेकिन व्यवस्था सुधार की तरफ कोई कदम नहीं उठाए जाते। जिसका खामियाजा शहरवासियों को भुगतना पड़ता है। लोगों ने जलनिकासी व्यवस्था सुदृढ़ करने की मांग की है।

स्कूल की गिरी दीवार, हादसा बचा

बारिश में शंभू दयाल स्कूल की दीवार गिर गई। उस समय स्कूल में विद्यार्थी मौजूद थे। गनीमत रही कि दीवार के आसपास कोई नहीं था। जिससे बड़ा हादसा बच गया। स्कूल की दीवार गिरने के बाद दीवार के साथ बने नाला का पानी ओवरफ्लो होकर स्कूल में जाता रहा। वहीं सड़क पर भरा पानी भी स्कूल में स्कूल परिसर में जमा होता रहा।



कहां कितनी हुई बारिश

ब्लॉक बारिश

सोनीपत 55 एमएम

गन्नौर 65 एमएम

गोहाना 11 एमएम

खरखौदा 50 एमएम

खानपुर कलां 43 एमएम

राई 28 एमएम



वर्जन

झमाझम बारिश के बाद शहर में जलभराव की स्थिति बनी थी। बारिश बंद होने के दो घंटे में ही जलनिकासी हो गई थी। मानसून सीजन को देखते हुए शहर के सीवर व नालों की सफाई कराई गई थी। जिसका असर देखने को मिला है। जलभराव होने के कुछ देर बाद ही जलनिकासी हो गई थी। केवल शनि मंदिर के पास जलभराव है। वहां पर पंप लगा हुआ है, जिससे जल्द ही पानी निकासी कर दी जाएगी।-अशोक कुमार रावत, एसई, नगर निगम, सोनीपत



वर्जन

मानसून सीजन में शुक्रवार को जिले में अच्छी बारिश हुई है। जिससे तापमान में दो डिग्री तक की गिरावट आई है। बारिश के बाद जिले का अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 27 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। रविवार को बारिश होने के आसार हैं।- डॉ. प्रेमदीप, मौसम वैज्ञानिक

.


झज्जर के पहलवानों ने बर्मिंघम में दिखाया जलवा, कुश्ती में जीते गोल्ड

Sonipat: अशक्त किशोरी से दुष्कर्म के दोषी को आजीवन कारावास, अदालत ने लगाया 1.10 लाख का जुर्माना