जुलाई से स्कूलों में तैयार होगा मिड डे मील


ख़बर सुनें

आशीष भारद्वाज
बराड़ा। अब पहली जुलाई से सरकारी स्कूलों में पहले की तरह मिड डे मील तैयार किया जाएगा। इसके लिए शिक्षा विभाग ने आदेश जारी कर दिए हैं। वहीं, विभाग ने स्कूलों में दो माह का बचा हुआ कच्चा राशन बच्चों में वितरित करने के भी आदेश दिए हैं। इसके बाद जुलाई से मिड डे मील द्वारा बच्चों को पका हुआ भोजन दिया जाएगा। बता दें कि कोरोना महामारी के चलते वर्ष 2020 से स्कूलों में मिड डे मील नहीं बन रहा है और बच्चों को कच्चा राशन ही दिया जा रहा है।
दूसरी ओर, स्कूलों में मिड डे मील तैयार करने वाली कुक की यूनिफार्म को शिक्षा विभाग ने बदल दिया है। अब कुक को हरे रंग की यूनिफार्म डालनी होगी। इस संबंध में विभाग ने कहा कि यूनिफार्म को लेकर सख्ती के निर्देश दिए हैं। गौरतलब है कि पहले कुक को नीला-काला रंग की कमीज और काले रंग की सलवार डालनी होती थी। जिले के करीब 777 स्कूलों में करीब 1430 कुक तैनात हैं। कुल 54751 विद्यार्थियों को मिड डे मील द्वारा भेजन दिया जाता है। इनमें कक्षा पहली से पांचवीं 32372 व छठी से आठवीं 22379 विद्यार्थी हैं। शिक्षा विभाग द्वारा कुक को ड्रेस के लिए 300 रुपये जारी होते हैं। संवाद
विभाग ने कुक की ड्रेस में बदलाव किया है। कुक को अब एक जुलाई से हरे रंग की ड्रेस डालनी होगी। इस संबंध में विभाग ने आदेश जारी कर दिए हैं। साथ ही बच्चों को बचा हुआ कच्चा राशन दिया जाएगा। जुलाई महीने में बच्चों को पका हुआ मिड डे मील दिया जाएगा।
-सुधीर कालड़ा, जिला शिक्षा अधिकारी

आशीष भारद्वाज

बराड़ा। अब पहली जुलाई से सरकारी स्कूलों में पहले की तरह मिड डे मील तैयार किया जाएगा। इसके लिए शिक्षा विभाग ने आदेश जारी कर दिए हैं। वहीं, विभाग ने स्कूलों में दो माह का बचा हुआ कच्चा राशन बच्चों में वितरित करने के भी आदेश दिए हैं। इसके बाद जुलाई से मिड डे मील द्वारा बच्चों को पका हुआ भोजन दिया जाएगा। बता दें कि कोरोना महामारी के चलते वर्ष 2020 से स्कूलों में मिड डे मील नहीं बन रहा है और बच्चों को कच्चा राशन ही दिया जा रहा है।

दूसरी ओर, स्कूलों में मिड डे मील तैयार करने वाली कुक की यूनिफार्म को शिक्षा विभाग ने बदल दिया है। अब कुक को हरे रंग की यूनिफार्म डालनी होगी। इस संबंध में विभाग ने कहा कि यूनिफार्म को लेकर सख्ती के निर्देश दिए हैं। गौरतलब है कि पहले कुक को नीला-काला रंग की कमीज और काले रंग की सलवार डालनी होती थी। जिले के करीब 777 स्कूलों में करीब 1430 कुक तैनात हैं। कुल 54751 विद्यार्थियों को मिड डे मील द्वारा भेजन दिया जाता है। इनमें कक्षा पहली से पांचवीं 32372 व छठी से आठवीं 22379 विद्यार्थी हैं। शिक्षा विभाग द्वारा कुक को ड्रेस के लिए 300 रुपये जारी होते हैं। संवाद

विभाग ने कुक की ड्रेस में बदलाव किया है। कुक को अब एक जुलाई से हरे रंग की ड्रेस डालनी होगी। इस संबंध में विभाग ने आदेश जारी कर दिए हैं। साथ ही बच्चों को बचा हुआ कच्चा राशन दिया जाएगा। जुलाई महीने में बच्चों को पका हुआ मिड डे मील दिया जाएगा।

-सुधीर कालड़ा, जिला शिक्षा अधिकारी

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

चार महीने तक रोके रखा फर्द-बदर का काम, उपायुक्त ने कानूनगो को किया निलंबित

संदिग्ध परिस्थितियों में महिला की डूबने से मौत, मृतका की मां ने पुलिस को शिकायत देकर की जांच की मांग..