जुलाई में फिटमेंट फैक्टर बढ़ाने पर बड़ा फैसला? मूल वेतन को बढ़ाकर 26 हजार रुपये किया जाएगा


नई दिल्ली: 7 वां वेतन आयोग फिटमेंट फैक्टर नवीनतम अपडेट: केंद्र सरकार के कर्मचारियों का अंतहीन इंतजार जो कि बढ़ोतरी के लिए दबाव डाल रहे हैं, अगले महीने कुछ अच्छे अपडेट के लिए हो सकते हैं। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो 7वें वेतन आयोग के तहत केंद्र सरकार के कर्मचारियों के फिटमेंट फैक्टर को बढ़ाने पर बहुप्रतीक्षित चर्चा अगले महीने हो सकती है।

ज़ीबिज की वेबसाइट के मुताबिक, फिटमेंट फैक्टर में बढ़ोतरी पर एक मसौदा तैयार किया जाएगा जिसे सरकार के साथ साझा किया जाएगा। एक बार मसौदा जमा हो जाने के बाद, इस मुद्दे पर एक बैठक कथित तौर पर जुलाई के अंत तक आयोजित की जाएगी। एक बार फिटमेंट फैक्टर बढ़ने के बाद केंद्र सरकार के कर्मचारियों के वेतन में भी काफी वृद्धि होगी।

कई मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि सरकार जल्द ही फिटमेंट फैक्टर बढ़ाने पर अपनी मंजूरी दे सकती है। केंद्र सरकार के कर्मचारी संघ लंबे समय से न्यूनतम वेतन 18,000 रुपये से बढ़ाकर 26,000 रुपये करने और फिटमेंट फैक्टर को 2.57 गुना से बढ़ाकर 3.68 गुना करने की मांग कर रहे हैं।

यदि सरकार केंद्रीय कर्मचारियों के फिटमेंट फैक्टर में वृद्धि के संबंध में घोषणा करती है, तो उनके वेतन में वृद्धि होगी। दरअसल, फिटमेंट फैक्टर बढ़ने से न्यूनतम वेतन भी बढ़ेगा। वर्तमान में कर्मचारियों को 2.57 प्रतिशत के आधार पर फिटमेंट फैक्टर के तहत वेतन मिल रहा है, जिसे बढ़ाकर 3.68 प्रतिशत किया जाता है, तो कर्मचारियों के न्यूनतम वेतन में 8,000 रुपये की वृद्धि होगी। इसका मतलब है कि केंद्र सरकार के कर्मचारियों का न्यूनतम वेतन 18,000 रुपये से बढ़ाकर 26,000 रुपये किया जाएगा।

सातवें वेतन आयोग के तहत फिटमेंट फैक्टर में बढ़ोतरी के बाद इस अनुमानित वेतन गणना को देखें

अगर फिटमेंट फैक्टर को बढ़ाकर 3.68 कर दिया जाता है, तो कर्मचारियों का मूल वेतन 26,000 रुपये हो जाएगा। अभी अगर आपका न्यूनतम वेतन 18,000 रुपये है, तो भत्तों को छोड़कर, आपको 2.57 फिटमेंट फैक्टर के अनुसार 46,260 रुपये (18,000 X 2.57 = 46,260) मिलेंगे।

अब अगर फिटमेंट फैक्टर 3.68 है तो आपकी सैलरी 95,680 रुपये (26000X3.68 = 95,680) होगी।

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने जून 2017 में 34 संशोधनों के साथ सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों को मंजूरी दी थी। प्रवेश स्तर के मूल वेतन के लिए प्रदान किए गए नए वेतनमान को 7,000 रुपये प्रति माह से बढ़ाकर 18,000 रुपये किया गया, जबकि उच्चतम स्तर यानी सचिव को 90,000 रुपये से बढ़ाकर 2.5 लाख रुपये किया गया। कक्षा 1 के अधिकारियों के लिए शुरुआती वेतन 56,100 रुपये था।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

मिलिए कैप्टन मोनिका खन्ना से, जिन्होंने स्पाइसजेट के विमान को सुरक्षित लैंडिंग से बचा लिया

इंजन में आग लगने के बाद स्पाइसजेट के विमान की पटना में इमरजेंसी लैंडिंग