जीजेयू के छात्रावास में घुसकर बाहरी युवकों ने एमबीए छात्र को पीटा


ख़बर सुनें

हिसार। गुरु जंभेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (जीजेयू) के छात्र को कुछ बाहरी युवक छात्रावास में घुसकर पीटकर चले गए। आरोप है कि इस दौरान हॉस्टल वार्डन व चीफ सिक्योरिटी ऑफिसर (सीएसओ) मूकदर्शक बने रहे। इस दौरान प्रोक्टर वीके बिश्नोई भी मौके पर थे। कुछ देर बाद पुलिस पहुंची और बीच-बचाव कराया गया।
जानकारी के अनुसार करीब छह से सात युवक वीरवार रात करीब 10 बजे जीजेयू में आए। इसके बाद वह छात्र का सुराग लगाकर सीधा हॉस्टल नंबर एक में पहुंचे। पहले उनकी छात्र के साथ बहस हुई। इसके बाद पीटना शुरू कर दिया। दरअसल छात्र एमबीए में पढ़ता है। बाहरी युवक सुबह से ही छात्र को खोज रहे थे। किसी छात्रा को लेकर यह विवाद बताया जा रहा है। वहीं, सूचना के बाद बीच बचाव कराने पहुंचे हॉस्टल वार्डन और सीएसओ का ही आपस में झगड़ा हो गया। दोनों एक-दूसरे पर आरोप लगाने लगे कि इनको चेक करना चाहिए था। अगर प्रवेश द्वार पर चेकिंग सख्त होती तो यह नौबत न आती। इस दौरान कुछ युवकों ने वीडियो बना लिया, जो कुछ देर बाद वायरल हो गय। अब विवि प्रशासन की सुरक्षा पर भी सवाल उठ खड़े हो गए हैं। हर समय विवि के गेट से लेकर हॉस्टल तक सिक्योरिटी काफी ज्यादा होती है। मुख्य प्रवेश द्वार से आने वाले वाहनों के नंबर तक नोट किए जाते हैं और हर व्यक्ति की पहचान पूछी जाती है। इसके बावजूद बाहरी शरारती तत्व जीजेयू के हॉस्टल तक पहुंच गए और किसी को भनक तक नहीं लगी।

हिसार। गुरु जंभेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (जीजेयू) के छात्र को कुछ बाहरी युवक छात्रावास में घुसकर पीटकर चले गए। आरोप है कि इस दौरान हॉस्टल वार्डन व चीफ सिक्योरिटी ऑफिसर (सीएसओ) मूकदर्शक बने रहे। इस दौरान प्रोक्टर वीके बिश्नोई भी मौके पर थे। कुछ देर बाद पुलिस पहुंची और बीच-बचाव कराया गया।

जानकारी के अनुसार करीब छह से सात युवक वीरवार रात करीब 10 बजे जीजेयू में आए। इसके बाद वह छात्र का सुराग लगाकर सीधा हॉस्टल नंबर एक में पहुंचे। पहले उनकी छात्र के साथ बहस हुई। इसके बाद पीटना शुरू कर दिया। दरअसल छात्र एमबीए में पढ़ता है। बाहरी युवक सुबह से ही छात्र को खोज रहे थे। किसी छात्रा को लेकर यह विवाद बताया जा रहा है। वहीं, सूचना के बाद बीच बचाव कराने पहुंचे हॉस्टल वार्डन और सीएसओ का ही आपस में झगड़ा हो गया। दोनों एक-दूसरे पर आरोप लगाने लगे कि इनको चेक करना चाहिए था। अगर प्रवेश द्वार पर चेकिंग सख्त होती तो यह नौबत न आती। इस दौरान कुछ युवकों ने वीडियो बना लिया, जो कुछ देर बाद वायरल हो गय। अब विवि प्रशासन की सुरक्षा पर भी सवाल उठ खड़े हो गए हैं। हर समय विवि के गेट से लेकर हॉस्टल तक सिक्योरिटी काफी ज्यादा होती है। मुख्य प्रवेश द्वार से आने वाले वाहनों के नंबर तक नोट किए जाते हैं और हर व्यक्ति की पहचान पूछी जाती है। इसके बावजूद बाहरी शरारती तत्व जीजेयू के हॉस्टल तक पहुंच गए और किसी को भनक तक नहीं लगी।

.


What do you think?

Written by Haryanacircle

युवाओं के खिलवाड़ मंजूर नहीं, अग्निपथ योजना वापस ले सरकार

Agnipath Protest: अग्निपथ योजना के विरोध में 27 जून को पूरे प्रदेश में धरना देगी कांग्रेस, पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्डा बोले-यह योजना किसी के हित में नहीं